पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हादसा:एमसी ने बलमखीरे तोड़ने का काम किया शुरू

मोहाली3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मुख्य सड़कों के किनारे लगे हैं बलमखीरे के पेड़, कई बार गिर चुके हैं गाड़ियों पर

शहर की मुख्य सड़कों के किनारे लगे पेड़ों से भारी-भरकम बलमखीरे गिरने से वाहनों को नुकसान हो रहा था। कई लोग जख्मी भी हुए थे। इसको देखते हुए नगर निगम के मेयर अमरजीत सिंह सिद्धू ने निगम कर्मियों को बलमखीरे उतारने के निर्देश दिए। मेयर के निर्देश पर निगम कर्मियों ने बलमखीरे पेड़ों से तोड़ने का काम शुरू कर दिया है।

निगम की टीम फेज-3/5 लाइट पॉइंट से लेकर फेज-11 तक मुख्य सड़क के आसपास लगे पेड़ों से बलमखीरे उतारने का काम कर रही है। निगम कर्मचारियों ने बताया कि पूरे शहर से बलमखीरे उतारे के लिए काम किया जा रहा है। नगर निगम की प्रूनिंग मशीन की मदद से ऊंचाई पर लगे पेड़ों से बलमखीरे उतारे जाते हैं और उन्हें एक ट्राली में भरकर ले जाया जाता है। एक बलमखीरे का वजन ही कम से कम 3 से 5 किलो का हाेता है।

गमाडा निवासी कल्याणकारी महासंघ के अध्यक्ष एवं रेजिडेंट वेफलेयर एसोसिएशन फेज-4 के चेयरमैन इंजीनियर एनएस कलसी की गाड़ी पर भी बलमखीरा गिर गया था जिससे की उनकी कार का शीशा टूट गया था। कलसी की ओर से नगर निगम के खिलाफ कोर्ट में केस दायर करते हुए मुआवजे की मांग की थी।

कलसी का कहना था कि निगम की ओर से बलमखीरों को समय पर नहीं उतारा जाता है इसके कारण ये बलमखीरे पक कर गिरने शुरू हो जाते हैं और इससे लोगों का नुकसान होता है।

एक टू-व्हीलर चालक की हुई थी मौत

बलमखीरों की समस्या मोहाली शहर में एक बड़ी समस्या मानी जाती है। कुछ साल पहले एक टू-व्हीलर वाहन चालक बलमखीरा सिर पर गिरने से अपनी जान भी गंवा चुका है। इसके अलावा करीब दर्जनों वाहन चालक घायल भी हो चुके हैं। लोगों के घायल होने पर ही शहर की रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशंस समेत अन्य संस्थाओं की ओर से बलमखीरों को उतारने के लिए कार्रवाई करने के लिए अभियान भी शुरू किए गए थे।

खबरें और भी हैं...