पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जांच-पड़ताल:परवाना का 2 दिन का रिमांड बढ़ा, राजस्थान बॉर्डर लेकर जाएगी पुलिस

खरड़17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खरड़ अदालत पहुंचे परवाना के समर्थक। - Dainik Bhaskar
खरड़ अदालत पहुंचे परवाना के समर्थक।
  • पाकिस्तान से संबंध, असलाह व अन्य गतिविधियों की जांच होगी

देश विरोधी गतिविधियों के आरोप में गिरफ्तार किए गए दमदमी टकसाल राजपुरा के बरजिंदर सिंह परवाना को पुलिस द्वारा 5 दिन के पुलिस रिमांड के बाद बुधवार को खरड़ अदालत में पेश किया। जहां पर परवाना के पाकिस्तान से संबंध होने, असलाह संबंधी व अन्य गतिविधियों की जांच और अवैध हथियारों की बरामदगी करने के लिए राजस्थान बॉर्डर पर ले जाने का हवाला देते हुए पुलिस ने कोर्ट से आरोपी के 5 दिन के पुलिस रिमांड की और मांग की।

जिस पर कोर्ट ने बरजिंदर सिंह को 2 दिन के अतिरिक्त पुलिस रिमांड पर भेज दिया। जबकि इस मामले में सह आरोपी दविंदर सिंह को जुडीशियल रिमांड पर भेज दिया गया है। मामले में बलौंगी थाना में आरोपी के खिलाफ धारा 153 ए, 505 और 120 बी के तहत केस दर्ज किया गया था।

मामले की जांच के दौरान पाए गए कुछ अन्य तथ्यों के आधार पर इस केस में धाराओं के बढ़ोतरी करते हुए 336 और आर्म्स एक्ट की धारा 25 (1) व (9) की बढ़ोतरी की गई है। इस केस में पुलिस ने दावा किया है कि आरोपी आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त है और भड़काऊ भाषण देना, अवैध हथियार, विदेश से पैसों की फंडिंग, कुछ पाकिस्तानी लोगों के साथ चैटिंग कर चुका है।

पुलिस ने दावा किया कि आरोपी द्वारा गैर लाइसेंसी हथियार राजस्थान बॉर्डर पर छुपाए हुए हैं। जिनकी बरामदगी की जानी अभी बाकी है। पुलिस ने अपना पक्ष रखते हुए अदालत को बताया कि आरोपी से की गई पूछताछ के दौरान उसके लाइसेंस शुदा हथियारों के बारे में जानकारी हासिल नहीं हुई है।

इसके अलावा उसके कुछ अवैध हथियार है जो उसमें बॉर्डर पर छुपा रखे हैं। यही नहीं पुलिस के अनुसार आरोपी द्वारा 3 मोबाइल ऑपरेट किए जा रहे थे। जिनमें से पाकिस्तान में बैठे लोगों के साथ की गई बात सामने आई है, लेकिन पुलिस को अभी तक सिर्फ एक ही मोबाइल बरामद हुआ है, जबकि अन्य मोबाइल के बारे में पता लगाया जा रहा है।

आरोपी की वकील ने कहा- झूठा फंसाया जा रहा

आरोपी की वकील भवनीत कौर ने बताया कि पुलिस द्वारा परवाना को झूठे मामले में फंसाया जा रहा है। परवाना के जो भी हथियारों की बात की जा रही है उनके लाइसेंस व अन्य दस्तावेज पुलिस को मुहैया करवाए जा चुके हैं । जहां तक कुछ अतिरिक्त कारतूस चलाए जाने की बात है तो वह परवाना द्वारा गुरु पर्व के अवसर पर चलाए गए थे।

सोशल मीडिया में भड़काऊ वीडियो अपलोड करने के मामले में उन्होंने बताया कि परवाना द्वारा गलती से वीडियो अपलोड की गई थी। जिसे मात्र 2 घंटे में ही डिलीट किया जा चुका था। रही बात परवाना की फंडिंग की तो परवाना द्वारा चलाई जा रही समाज सेवी संस्था को आने वाली डोनेशन सामाजिक कार्यों में ही लगाई जा रही है जिस का दुरुपयोग नहीं किया जा रहा। यह फंडिंग कोई आपराधिक या देश विरोधी गतिविधि के लिए नहीं हुई है।

खबरें और भी हैं...