पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मेयर के निर्देश:फाइनेंस कमेटी को 1 करोड़ खर्च करने का अधिकार, यह जनरल हाउस ने चुनी है

मोहाली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरकारी पत्र को लेकर गुमराह कर रहे हैं विपक्षी

लोकल बॉडीज विभाग की ओर से फाइनेंस एंड कॉन्ट्रैक्ट कमेटी (एफ एंड सीसी) को लेकर सभी निगमों को पत्र जारी किया गया है। नगर निगम के मेयर अमरजीत सिंह सिद्धू ने कहा कि विपक्ष पत्र को लेकर राजनीति की कोशिश कर रहा है। एफएंडसीसी को लेकर लोगों को गुमराह किया जा रहा है। जो पत्र जारी किया गया है।

वह मोहाली नगर निगम के लिए नहीं है क्योंकि यहां पर एफएंडसीसी का चुनाव जनरल हाउस से प्रवानगी लेने के बाद ही किया गया था और हाउस की ओर से ही कमेटी की पावर 25 लाख से बढ़ा कर 1 करोड़ की गई है। पंजाब की नगर निगमों में एफएंडसीसी को 2 करोड़ रुपए पावर है। यह भी साफ किया कि जो पत्र जारी हुआ है वह उन नगर निगमों पर लागू होता है जहां पर एफ एंड सीसी जनरल हाउस की ओर से प्रवानित नहीं है और सरकार से उसे मंजूरी नहीं मिली हुई है।

उन्होंने कहा कि एफ एंडसीसी को हाउस की ओर से 1 करोड़ खर्च करने की मंजूरी दी गई है। इसके लिए हाउस में प्रस्ताव लाया गया था जिसे बहुमत के साथ पास किया गया है। इसी बैठक के दौरान कमेटी बनाने के लिए भी मेयर को अधिकार दिए गए थे, उसके बाद प्रस्ताव लोकल बॉडीज विभाग के पास मंजूरी के लिए भेजा था। वहां से भी इस प्रस्ताव को मंजूरी मिली है। इसलिए पूरे 1 करोड़ रुपए के काम किए जा सकते हैं।

पहले क्यों नहीं बढ़ाई एफएंडसीसी की पावर

डिप्टी मेयर कुलजीत सिंह बेदी ने कहा कि विपक्षी पार्षदों सुखदेव सिंह पटवारी, सरबजीत सिंह समाना आदी की ओर से जो आरोप लगाए गए हैं वो पूरी तरह से राजनीति से प्रेरित हैं और शहर के लोगों को भटकाने वाले हैं। उन्होंने कहा कि जिन आदेशों की बात पत्र में कही गई है।

उसके बारे में यह भी बताया गया है कि ऐसे पत्र 2013 और 2014 में भी जारी किए गए थे लेकिन 2015 में मोहाली शहर की पहली नगर निगम का चुनाव हुआ था उसके बाद बनी नगर निगम ने भी इसी प्रकार से एफ एंड सीसी का गठन किया था और उसकी पावर पहले 15 लाख थी जिसे बढ़ा कर 25 लाख रुपए की गई थी।

जब अपनी बारी थी तो उस समय यह नियम नहीं दिखे थे अब विकास कार्यों को प्रभावित करने और इन्हें देरी के अंधेर में धकेलने के लिए इस प्रकार की राजनीति की जा रही है।

खबरें और भी हैं...