पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दो दिन बाद फिर लगने शुरू हो गए बिजली कट:बिजली की समस्या दूर नहीं हुई, घरों में सप्लाई हो रहा मिट्‌टी वाला पानी

मोहाली24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सीएम कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने पंजाब में बिजली न आने को लेकर चल रहे धरने-प्रदर्शन के बाद सरकारी दफ्तरों में एसी चलाने पर पाबंदी लगाई है। वहीं, दफ्तरों का समय सुबह 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक कर दिया गया है। ताकि बिजली की अपूर्ति की जा सके। 2 दिन तक सब ठीक चला, लेकिन उसके बाद फिर से वही हाल शुरू हो गया है। तपती धूप में इतने बिजली के कट लगे हैं न तो दिन का चैन किसी को मिल रहा है और न रात को चैन की नींद सोने को मिल रही है।

यही नहीं आजकल कोविड-19 के चलते स्कूल बंद हैं और टीचर ऑनलाइन पढ़ा रहे हैं। बिजली न होने के कारण मोबाइल फोन भी समय पर चार्ज नहीं हो पा रहे हैं। जिस कारण बच्चांे की पढ़ाई का नुकसान हो रहा है। अधिकतर लोग जिनमें आईटी कंपनियाें के कर्मचारी अभी वर्क फ्रोम होम पर हैं, लेकिन लाइट न होने के कारण उनका काम प्रभावित हाे रहा है।

अब पीने के पानी की भी कमी

खरड़ की अंजना ठाकुर ने बताया कि 2 दिन तक बिजली के कट से इतने परेशान हैं कि अब दिल करता है कि पंजाब को छोड़कर हिमाचल वापस चले जाएं। यही नहीं 2 दिन से पीने के पानी की किल्लत भी आ रही है।

यदि कुछ समय के लिए पानी आता भी है तो इतना बदबू व सीवर मिक्स की नल खोलते ही स्मेल आनी शुरू हो जाती है। बकायदा अंजना ने आ रहे पानी की एक फोटो दिखाई जिसमें कांच के गिलास में भरा पानी मानों किसी तलाब का लग रहा था। यदि ऐसे पानी को गलती से पी लिया गया तो उसका बीमार होना निश्चित है।

पीड़ित अंजना ने बताया कि उन्होंने इसको लेकर अपने एरिया पार्षद से लेकर एमसी ईओ व अन्य अधिकारियों को भी संपर्क किया, लेकिन किसी ने उनकी बात नहीं सुनी। इसी प्रकार फेज-1 में सक्षम एजुटैक इंस्टिट्यूट के एमडी संजय शर्मा ने बताया कि बिजली के कट से लोगों का जीना मुश्किल हो रखा है।

ऊपर से तापमान इतना बढ़ा हुआ है कि कमरे मेें बिना एसी के नहीं रह सकते। संजय ने बताया कि बुधवार सुबह से करीब 10 बजे से ही इंस्टिट्यूट में लाइट नहीं थी। जबकि यहां से उनके स्टूडेंट्स के लिए ऑनलाइन कोर्स व कई प्रकार के सरकारी प्रोग्राम के बारे पढ़ाया जाता है।

लेकिन पहले लाइट नहीं थी और जब दूसरी बार आई तो इतनी डिम कंप्यूटर व लैपटॉप ऑन ही नहीं हो सके। सुबह से ही बिजली जाने की शिकायत भी कर रखी थी, लेकिन किसी अधिकारी ने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया। जिस कारण पढ़ाई का काफी नुकसान हुआ।

फ्रिज में रखे दूध और सब्जियां खराब हो गई

खरड़ की फौजी काॅलोनी में रहने वाले शिवम के बताया कि दिन में इतनी गर्मी है जिस कारण रात को आजकल छत पर सो रहे थे। बकायदा इसके लिए नया टेबलफैन भी लिया ताकि रात को पूरा परिवार गर्मी से बच खुले में चैन की नींद सो सके। लेकिन पिछले 2 दिन से पॉवरकट इतने हो गए हैं कि टेबल फैन से अधिक हवा तो पड़ोस में लगे पेड़ दे रहे हैं।

आसपास के खाली प्लॉट्स में इतनी ऊंची झाड़ियां हैं जिसमें मोटे-मोटे मच्छर पनप रहे हैं और बिजली न होने के कारण रात को मच्छर काटते हैं। ऐसे में डंगू होने के चांस भी बढ़ गए हैं। ठीक इसी प्रकार न ही पीने के लिए पानी आ रहा है। केंद्रीय बिहार में रहने वाली प्रियंका सिंह ने बताया कि मंगलवार को सारा दिन बिजली का आना-जाना लगा रहा। जिस कारण फ्रिज में रखे दूध से लेकर सब्जियां खराब हो गई।

खबरें और भी हैं...