पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

धर्म-कर्म:इस बार 29 दिन का सावन माह, 25 से शुरू, 26 जुलाई को पहला सोमवार

मोहाली16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • भगवान शिव और माता गौरी के खास माह सावन में चार सोमवार होंगे, 22 अगस्त को समाप्त होगा यह महीना

हिंदू धर्म में सावन का विशेष महत्व है। भगवान महादेव की विशेष पूजा अर्चना का महीना सावन इस बार 25 जुलाई से शुरू होगा। दूसरे ही दिन यानी 26 जुलाई को सावन का पहला सोमवार रहेगा। इस वर्ष सावन का महीना 29 दिन का ही रहेगा। धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक सावन में शिवजी की अराधना करने भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण होती हैं।

सावन महीने में पड़ने वाले सोमवार का खास महत्व है। कहा जाता है कि सावन सोमवार व्रत करने वालों पर महादेव विशेष कृपा बरसाते हैं। वहीं, सावन में पूरी विधि-विधान के साथ भगवान शिव और माता गौरी की पूजा करने से मनचाहा जीवनसाथी का भी आशीर्वाद मिलता है।

13 अगस्त को नागपंचमी पर्व व सावन की पूर्णिमा पर 22 अगस्त को रक्षाबंधन

पंडित दिनेश मिश्रा ने बताया कि इस दिन तमाम शिवालयों में महादेव के अभिषेक व जाप होगा। इस बार सावन में 4 सोमवार होंगे। वहीं, 18 जुलाई को भड़ाली नवमी पर अबूझ सावे के रूप में शादियां होंगी। मान्यता अनुसार किसी भी नव विवाहिता को शादी के बाद पहला सावन माह पीहर में रहना पड़ता है।

इसलिए ऐसी नवबधुएं इस बार ससुराल में 18 जुलाई को शादी के बाद महज सात दिन ही रह सकेंगी। दरअसल, श्रावण मास में भगवान शिव की पूजा अर्चना की जाती है। मान्यता है कि सावन का महीना भोलेनाथ को समर्पित है।

हिंदू पंचांग के अनुसार इस साल सावन का महीना 25 जुलाई से 22 अगस्त तक रहेगा। इसके साथ ही इस साल कुल 4 सोमवार पड़ रहे हैं। वहीं, 13 अगस्त को नागपंचमी का पर्व होगा और श्रवण की पूर्णिमा पर 22 अगस्त को रक्षाबंधन का पर्व रहेगा।

ऐसे करें महादेव की पूजा

सुबह स्नानादि के बाद साफ वस्त्र धारण करें। मंदिर में भगवान शिव की मूर्ति को स्थापित करें। 101 से लेकर 1001 बिल्वपत्र रख लें। भगवान के आगे दीपक व धूपबत्ती चलाएं। शिवशंकर मंत्रों का उच्चारण के साथ बिल्वपत्र अर्पित करें। इसके बाद भगवान शिव को भोग लगाएं और पूजन के दौरान शिव भगवान को 1001 बार स्मरण करें।

सावन महीने में पड़ने वाले सोमवार

  • पहला सोमवार 26 जुलाई
  • दूसरा सोमवार 02 अगस्त
  • तीसरा सोमवार 09 अगस्त
  • चौथा सोमवार इस बार 16 अगस्त को होगा।

शिव पूजन और सोमवार के व्रत का महत्व

  • कुंडली में आयु या स्वास्थ्य बाधा हो या मानसिक स्थितियों की समस्या हो छुटकारा मिलता है।
  • सोमवार का दिन चन्द्र ग्रह का दिन होता है। चन्द्रमा के नियंत्रक भगवान शिव हैं इसलिए इस दिन पूजा से न केवल चन्द्रमा बल्कि भगवान शिव की कृपा भी मिलती है।
  • सच्चे मन से पूजा से कुंवारी कन्याओं को सुयोग्य वर की प्राप्ति का आशीर्वाद मिलने की मान्यता है।
खबरें और भी हैं...