सुप्रीम कोर्ट के आदेशों पर हाईकोर्ट ने लिया संज्ञान:पंजाब में सांसद-विधायकों के खिलाफ 163 केस विचाराधीन, हाईकोर्ट ने पूछा- जांच में देरी क्यों

चंडीगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीबीआई, ईडी और दूसरी जांच एजेंसियों के पास विचाराधीन मामलों की जानकारी दी जाए। - Dainik Bhaskar
सीबीआई, ईडी और दूसरी जांच एजेंसियों के पास विचाराधीन मामलों की जानकारी दी जाए।

सांसद व विधायकों के खिलाफ कोर्ट में विचाराधीन मामलों पर सोमवार को सुनवाई हुई। पंजाब हाईकोर्ट ने माननीयों के खिलाफ हो रही जांच में देरी का कारण पूछा। पंजाब के आईजीपी लिटिगेशन ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन अरुण पाल सिंह ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हाईकोर्ट को बताया कि पंजाब में 163 मामले सांसदों व विधायकों के विचाराधीन हैं।

इनमें से कई पूर्व सांसद और विधायक भी शामिल हैं। कई मामले ट्रायल कोर्ट में और कई केस सीबीआई को ट्रांसफर किए गए हैं। गौर हो सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों पर यह संज्ञान लिया है। हाईकोर्ट ने पिछली सुनवाई के दौरान स्पष्ट किया था कि सीबीआई, ईडी और दूसरी जांच एजेंसियों के पास विचाराधीन मामलों की जानकारी दी जाए। पंजाब, हरियाणा व चंडीगढ़ के जज से ऐसी मामलों की तेजी से सुनवाई करें। अब वीरवार को अगली सुनवाई की जाएगी।

सोमवार को चंडीगढ़ मामलों की सुनवाई

सोमवार को चंडीगढ़ एसएसपी कुलदीप चाहल ने हाईकोर्ट को बताया कि सांसद व विधायकों के खिलाफ चंडीगढ़ में 7 केस दर्ज हैं। सभी की जांच जारी है, लिहाजा इनमें से कोई भी मामला कोर्ट नहीं पहुंचा है। बेंच ने इस पर एसएसपी से पूछा कि जांच में देरी का क्या कारण है। एसएसपी ने कहा कि कोविड के चलते देरी हो रही है।

खबरें और भी हैं...