पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • 300 Bed Mother And Child Care Unit To Be Built In GMCH 32, 400 Bed Mother Care Unit To Be Built In GMSH 16 Too.

बढ़ेंगी हेल्थ फैसिलिटीज...:GMCH-32 में बनेगी 300 बेड की मदर एंड चाइल्ड केयर यूनिट,GMSH-16 में भी बननी है 400 बेड की मदर केयर यूनिट

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चीफ आर्किटेक्ट कपिल सेतिया का कहना है कि GMCH-32 में 300 बेड का मदर केयर यूनिट बनाने की प्रपोजल दो बार बन चुकी है। अब तीसरी बार प्रपोजल रिवाइज किए जाने को लेकर इसी वीक मीटिंग होगी। - Dainik Bhaskar
चीफ आर्किटेक्ट कपिल सेतिया का कहना है कि GMCH-32 में 300 बेड का मदर केयर यूनिट बनाने की प्रपोजल दो बार बन चुकी है। अब तीसरी बार प्रपोजल रिवाइज किए जाने को लेकर इसी वीक मीटिंग होगी।

GMCH-32 में 300 बेड का मदर एंड चाइल्ड केयर यूनिट बनेगा। इस प्रोजेक्ट की प्रपोजल दो बार बन चुकी है। अब इसकी ड्राइंग और प्रपोजल तीसरी बार बनाने को लेकर इसी हफ्ते चीफ आर्किटेक्ट के साथ डायरेक्टर प्रिंसिपल की मीटिंग होगी। पहले दो बार इस प्रोजेक्ट की प्रपोजल MS रवि गुप्ता के समय बनी थी। इसके बाद डायरेक्टर प्रिंसिपल डॉ. BS चवन के कार्यकाल दौरान ड्राइंग सहित प्रपोजल चेंज हुई। अब डायरेक्टर प्रिंसिपल जसबिंदर कौर के कार्यकाल दौरान प्रोजेक्ट फाइनल होगा।

मदर चाइल्ड केयर यूनिट के अब तक बनी प्रपोजल में 300 बेड हैं। इनमें चिल्डर्न वार्ड के 80 बेड शामिल हैं। छह मंजिल के ब्लॉक में बनने वाला मदर एंड चाइल्ड केयर यूनिट की प्रपोजल तीन साल में तीसरी बार चेंज होगी। हालांकि पहले बनी प्रपोजल में तीन ऑपरेशन थिएटर तय थे इनमें दो मेजर और एक माइनर ऑपरेशन थिएटर है। इसके अलावा बच्चों के लिए ICU भी बननी है। इस प्रपोजल में रिवाइज्ड होना है। इसे लेकर इस हफ्ते मीटिंग होगी।

आम तौर पर सरकारी अस्पतालों में गाइनी वार्ड की हालत खराब ही रहती है। कम बेड होने की वजह दो-दो महिलाओं को एक ही बेड दिया जाता है। ऐसी हालत में दो बेबी और दो मां एक बेड पर कैसे रह पाती हैं। गायनी वार्ड में केवल 12 बेड ही हैं जबकि डिलीवरी के लिए दो दर्जन से ज्यादा महिलाएं पहुंच जाती हैं। ऐसी हाल में कई बार एक बेड पर दो -दो महिलाओं को ही लिटाया जाता है। वहीं चिल्डर्न केयर यूनिट न बराबर है। बच्चों के लिए स्पेशल यूनिट बनेगी। इसमें पैदा होते ही बच्चों को जॉन्डिस होने पर इंक्यूबेशन में रखा जाता है। इसकी सुविधा अब प्रॉपर की जाएगी।

वहीं प्री मैच्योर बेबी को भी इंक्यूबेशन में रखने के लिए प्रॉपर सुविधा की जाएगी। GMCH-32 में मदर एंड चाइल्ड केयर यूनिट बनने से मां और बच्चे को सभी सुविधाएं मिलने लगेंगी। चीफ आर्किटेक्ट कपिल सेतिया का कहना है कि GMCH-32 में 300 बेड का मदर केयर यूनिट बनाने की प्रपोजल दो बार बन चुकी है। अब तीसरी बार प्रपोजल रिवाइज किए जाने को लेकर इसी वीक मीटिंग होगी।

GMSH-16 में भी बननी है 400 बेड की मदर केयर यूनिट

GMSH-16 में भी डिलीवरी वाली महिलाओं का लोड बना रहता है। जबकि गायनी वार्ड सालों पुरानी बनी हुई है। इसमें पिछले 30 साल से कोई सुधार नहीं किया गया है। अब गायनी वार्ड को ढहाकर न्यू OPD बिल्डिंग तक 400 बेड का नया मदर एंड चाइल्ड केयर वार्ड बनाया जाना है। यह प्रपोजल अनुसार सात मंजिल का होगा। अस्पताल में सबसे ऊंची बिल्डिंग होगी। अभी अस्पताल में छह मंजिल हैं। इसे बनाने की ड्राइंग चीफ आर्किटेक्ट की ओर से डायरेक्टर हेल्थ सर्विस को पिछले साल भेज दी थी। वहां से ड्राइंग आगे नहीं बढ़ सकी।

खबरें और भी हैं...