कोरोना ने खत्म किया जीने का जज्बा:संक्रमित होने के बाद मेंटल स्ट्रेस से गुजर रहा था 42 वर्षीय प्रोफेसर ; PGI की चौथी मंजिल से छलांग लगाकर कर ली आत्महत्या,साइकैट्रिक विभाग से पहले ही चल रहा था इलाज

चंडीगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घटना गुरुवार दोपहर 12 बजकर 5 मिनट की है। पुलिस को सूचना मिली के PGI में MS ऑफिस के करीब से एक व्यक्ति ने छलांग लगा दी है। इसके बाद उसे इमरजेंसी में भर्ती करवाया गया जहां उपचार के दौरान 12 बजकर 26 मिनट पर उसकी मौत हो गई। - Dainik Bhaskar
घटना गुरुवार दोपहर 12 बजकर 5 मिनट की है। पुलिस को सूचना मिली के PGI में MS ऑफिस के करीब से एक व्यक्ति ने छलांग लगा दी है। इसके बाद उसे इमरजेंसी में भर्ती करवाया गया जहां उपचार के दौरान 12 बजकर 26 मिनट पर उसकी मौत हो गई।

एक बार फिर कोरोना का कहर इतना बढ़ गया है कि लोग अस्पतालों में जाने से डरने लगे हैं। जो वहां पहुंच रहे हैं वो मानसिक पीड़ा से गुजर रहे हैं। पिछले साल ऐसे कई मामले आए जब कोरोना पीड़ितों ने अस्पतालों में छलांग लगाकर आत्महत्या की थी।

वहीं अब PGI चंडीगढ़ में एक मामला ऐसा आया है जहां अस्पताल में भर्ती एक मरीज ने PGI की चौथीमंजिल से छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली है। मृतक की पहचान पंचकूला सेक्टर 17 निवासी 42 वर्षीय विनोद रोहिला के रूप में हुई है। पुलिस जांच में सामने आया है कि कोरोना के कारण ही वह मेंटल स्ट्रेस से गुजर रहा था।

मिली जानकारी के मुताबिक घटना गुरुवार दोपहर 12 बजकर 5 मिनट की है। पुलिस को सूचना मिली के PGI में MS ऑफिस के करीब से एक व्यक्ति ने छलांग लगा दी है। इसके बाद उसे इमरजेंसी में भर्ती करवाया गया जहां उपचार के दौरान 12 बजकर 26 मिनट पर उसकी मौत हो गई। बहरहाल पुलिस ने मृतक के शव को PGI मॉर्चरी में रखवा दिया है और परिजनों के बयान दर्ज कर मामले की जांच करने में जुट गई है।पुलिस जांच में सामने आया कि मृतक विनोद मोहाली की एक यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर थे।

बता दें कि विनोद को 11 अप्रैल को PGI में भर्ती करवाया गया था। इस वक्त उसका पोस्ट कोविड फंगल निमोनिया का उपचार चल रहा था। उसे RICU में ट्रीट किया जा रहा था और बुधवार को ही उसे प्राइवेट वार्ड के कमरा नंबर 24 में शिफ्ट किया गया था। विनोद के परिजन भी उसी वार्ड में थे। तभी विनोद बाथरूम गए और वहां खिड़की से छलांग लगा दी। जिक्रयोग है कि मरीज का पहले ही साइकैट्रिक विभाग में एंग्जाइटी का इलाज चल रहा था।