पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तीसरी लहर से बच्चों को डराना नहीं, बचाना है...:बच्चों के लिए PGI में बनेगा 32 बेड का कोविड वार्ड, सेक्टर-45 में 50 बेड का ICU

चंडीगढ़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चंडीगढ़ में PGI, GMCH-32 और GMSH-16 ने अभी से तैयारियां शुरू कर दी हैं, ताकि आने वाले समय में बच्चों को दिक्कत न आए। - Dainik Bhaskar
चंडीगढ़ में PGI, GMCH-32 और GMSH-16 ने अभी से तैयारियां शुरू कर दी हैं, ताकि आने वाले समय में बच्चों को दिक्कत न आए।

काेराेना की सेकंड वेव ने चंडीगढ़ ही नहीं पूरे देश काे हिलाकर रख दिया। अब केस कम आने लगे हैं और जून के पहले हफ्ते में हालात और सामान्य हाेने की संभावना है। लेकिन इस बीच काेराेना संक्रमण की तीसरी लहर जिसमें बच्चाें के ज्यादा प्रभावित हाेने की संभावना है। इस बीच चंडीगढ़ में PGI, GMCH-32 और GMSH-16 ने अभी से तैयारियां शुरू कर दी हैं, ताकि आने वाले समय में बच्चों को दिक्कत न आए।

PGI- APC में 9 बेड का ICU भी

PGI के एडवांस पीडियाट्रिक सेंटर में पीडियाट्रिक सेंटर में बच्चाें के लिए अलग से 32 बेडेड पीडियाट्रिक काेविड वार्ड बनाया जा रहा है। 9 बेड का पीडियाट्रिक ICU भी अलग से बनाया जा रहा है। काेविड पाॅजिटिव बच्चाें काे प्राथमिकता के आधार पर देखा जाएगा।PGI में थर्ड वेव में ऑक्सीजन का संकट न हाे, इसके लिए PGI में 1000 लीटर प्रति मिनट के तीन ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट भी लगाए जा रहे हैं। इसके अलावा काेविड बेड और बढ़ाए जा रहे हैं। PGI में बच्चाें के लिए एडवांस पीडियाट्रिक सेंटर पहले से है। यहां पर 0 से 12 साल तक के बच्चाें के इलाज की सुविधा है।

GMSH-16-ट्राॅमा सेंटर में 14 ICU बेड लगेंगे

GMSH-16 में 8 बेडेड ICU काे एक्सपेंड किया जा रहा है। यहां पर साथ लगते ट्राॅमा सेंटर 14 ICU बेड और लगाए जा रहे हैं। डायरेक्टर हेल्थ सर्विसेज डाॅ. अमनदीप कंग ने बताया कि इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट ने काम शुरू कर दिया है। जल्द ही यहां पर 14 ICU बेड लगा दिए जाएंगे। ICU एक्सपर्ट भी हायर किए हैं। इससे GMSH-16 में ICU बेड कैपेसिटी 20 से 22 बेड की सुविधा हाेगी। जिन वार्ड्स में ऑक्सीजन लाइन की सुविधा नहीं है, वहां पर फिलहाल ऑक्सीजन सिलेंडर से काम चलाया जा रहा है। उन सभी बेड्स पर ऑक्सीजन की सुविधा मुहैया करवाई जाएगी।

सिविल हाॅस्पिटल-45-सेंटर पीडियाट्रिक ICU

DHS डाॅ. कंग ने बताया कि बच्चाें के लिए सेक्टर-45 स्थित सिविल डिसपेंसरी काे डेडिकेटेड पीडियाट्रिक सुविधाएं मुहैया करवाने के लिए कहा गया है। सिविल हाॅस्पिटल-45 पाइप ऑक्सीजन की सुविधा पहले से है। वहां पर ऑक्सीजन प्लांट लगाने की याेजना है। संभवत: यह थर्ड वेव से पहले बनकर तैयार हाे जाए। यह हाॅस्पिटल-42 बेडेड हॉस्पिटल है, लेकिन यहां पर पीडियाट्रिक ICU भी बनाने की तैयारी है। फिजीशियन,पीडियाट्रियाशियन और एनेस्थीसिया एक्सपर्ट काॅन्ट्रेक्ट पर रखने की तैयारियां भी शुरू हाे चुकी है। मेन पावर बढ़ाना और अन्य सुविधाएं बढ़ाने पर फाेकस है।

GMCH-32-छाेटे बच्चाें के लिए भी वेंटिलेटर

GMCH-32 की डायरेक्टर प्रिंसिपल प्राे. जसबिंदर काैर ने बताया कि थर्ड वेव से पहले ICU बेड और बढ़ाएंगे। अभी हमें PM केयर फंड से 10 और वेंटीलेटर आने हैं। रेस्पिरेटरी डिजीज के लिए विशेष ताैर पर बनाए गए रिक्कू में भी बेड बढ़ाए जाएंगे। सेक्टर-48 हॉस्पिटल में 17 ICU बेड हैं। वहां पर एक 33 बेड का वार्ड है। हमारे पास पीडियाट्रिक इंटेसिव केयर यूनिट में 7 वेंटीलेटर हैं। नियाेनेटल इंटेसिव केयर यूनिट में 12 वेंटिलेटर हैं। कुल मिलाकर 19 वेंटिलेटर हैं। छाेटे बच्चाें के लिए अलग वेंटिलेटर हाेते हैं। छाेटे बच्चाें के लिए भी वेंटिलेटर लगाने की प्लानिंग है।

खबरें और भी हैं...