पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सेक्टर-37 की कोठी का मामला:राहुल मेहता के 2003 में मर चुके मौसा का जाली एफिडेविट 2019 में लगाया था रजिस्ट्री में

चंडीगढ़15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सेक्टर-37 की विवादित कोठी के मामले में पुलिस की जांच में सामने आया है कि आरोपियों ने रजिस्ट्री में एक एफिडेविट लगाया था। 2019 के इस एफिडेविट में राहुल मेहता के कैनेडा वाले मौसा ने लिखा है कि ‘राहुल कोठी का मालिक है और वह इसे अपनी मर्जी से किसी को भी बेच सकता है।

इसमें उन्हें कोई एतराज नहीं है’। लेकिन जांच में पता चला कि राहुल मेहता के इस मौसा की मौत 2003 में हो चुकी थी। कैनेडा में रहने वाले मृतक मौसा के बेटे राजीव ने चंडीगढ़ पुलिस को पिता के डेथ सर्टिफिकेट की कॉपी भी भेजी है।

सेक्टर-37 की कोठी नंबर-340 में वीपी मेहता अपनी पत्नी संतोष और दो बेटों के साथ रहते थे। पत्नी संतोष ने कोठी का मालिकाना हक कैनेडा में रहने वाली अपनी बहन को दे रखा था। इसी बीच संतोष की मौत हो गई। इसके बाद उनके पति वीपी मेहता कोठी को अपने नाम करवाने के लिए इस्टेट ऑफिस में 25 साल से चक्कर काटते रहे। लेकिन इस्टेट ऑफिस ने उनकी बात नहीं सुनी।

इसी बीच कैनेडा में रहने वाली संतोष की बहन की मौत हो गई। इधर, बाद में वीपी मेहता की भी बीमारी के कारण मौत हो गई। एक बेटे की मौत पहले हो चुकी थी, इसलिए अकेला बचा राहुल मेहता। सूत्रों के अनुसार आरोपियों ने इस कोठी की रजिस्ट्री एक मार्च 2019 को करवाई। इस दौरान असली राहुल मेहता को किडनैप कर यहां से भुज आश्रम भिजवा दिया।

आरोपियों ने फेज-9 इंडस्ट्रियल एरिया मोहाली के गुरप्रीत सिंह को राहुल मेहता बता रजिस्ट्री करवा दी। रजिस्ट्री से पहले कैनेडा में रहने वाले मौसा का एक जाली एफिडेविट तैयार करवाया गया, जिसमें इस कोठी को राहुल मेहता को देने की बात लिखी हुई थी। लेकिन जब पुलिस ने जांच की तो यह एफिडेविट फर्जी पाया गया। पुलिस ने कैनेडा में मृतक मौसा के बेटे राजीव से संपर्क किया तो उसने बताया कि पिता की 2003 में मौत हो चुकी है तो वे 2019 में एफिडेविट कैसे दे सकते हैं?

राजदीप और संजीव महाजन की जमानत याचिका खारिज...
मृतक के बेटे ने भेजा है मृत्यु प्रमाण पत्र: चहल

असली राहुल मेहता के मौसेरे भाई ने कैनेडा से एफिडेविट के साथ अपने पिता की मौत का प्रमाण पत्र पुलिस को भेजा है। इसमें कहा है कि उसके पिता की 2003 में मौत हो चुकी है तो वे 2019 में वसीयत के बारे में एफिडेविट कैसे दे सकते हैं। पुलिस मामले में जांच कर रही है।
कुलदीप सिंह चहल, एसएसपी चंडीगढ़

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

    और पढ़ें