पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Admission Will Not Be Done In July This Time Also Due To Exam; Earlier Exams Used To End In May, Everything Changed Due To Corona

कोरोना इफेक्ट:एग्जाम के कारण इस बार भी जुलाई में नहीं होगी एडमिशन; पहले मई में खत्म हाे जाते थे एग्जाम, कोरोना के कारण सब बदल गया

चंडीगढ़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब यूनिवर्सिटी और इससे एफिलिएटिड काॅलेजाें में एडमिशन इस बार भी लेट हाेने की संभावना है। इस बार जुलाई में दाखिला काॅलेजों के लिए मुश्किल हाेगा क्याेंकि इस महीने एग्जाम चल रहे हाेंगे। आमताैर पर मई में खत्म हाे जाने वाले एग्जाम शुरू ही 28 जून काे हाे रहे हैं। काेराेना की वजह से उथल पुथल हुआ शेड्यूल इस बार 15 दिन तक लेट हाेने की संभावना थी लेकिन नए काेर्स का काम समय पर पूरा हाेने के बजाय पुराने काेर्सेज काे भी डिले कर दिया गया है। सभी क्लासेज समान चलाने के लिए सभी के एग्जाम लेट कर दिए गए हैं।

हालांकि, पिछले साल भी पीयू ने जुलाई से पुरानी क्लासेज शुरू कर दी थीं और आठ सितंबर से नए एडमिशन वाली क्लासेज भी शुरू कर दी गई थीं। अभी तक पीयू प्रशासन ने अकेडमिक कैलेंडर और एडमिशन काे लेकर बनने वाली कमेटियां भी नहीं बनाई हैं। ऑनलाइन क्लास और बिना डायग्राम और प्रेक्टिकल के हाे रही पढ़ाई के कारण पुरानी क्लासेज का सिलेबस खत्म हाे गया है लेकिन उनकाे नई क्लासेज का सिलेबस पूरा करने तक के लिए रुकना था।

उनके मिड सेमेस्टर या इंटरनल असेस्मेंट के लिए हाेेने वाले एग्जाम अभी हाे रहे हैं। अभी तक पीयू ने एग्जाम ऑनलाइन कराने के लिए अधिकारिक घाेषणा भी नहीं की है। नई-पुरानी क्लासेज का समय आगामी सेमेस्टर से एक समान करने के लिए यूनिवर्सिटी प्रशासन ने सभी के एग्जाम लेट कर दिए हैं।

अगली बार भी क्लासेज में अंतर बने रहने की संभावना है। आम ताैर पर मई-जून में एग्जाम हाेते हैं। जून में ही एडमिशन का प्राेसेस हाे जाता है। ऑनगाेइंग क्लासेज एक जुलाई और नई क्लासेज 23 से 27 जुलाई के बीच शुरू हाे जाती हैं।

सब कुछ रिटन इसलिए जल्द खत्म हाे जाता है लेक्चर

एक टीचर कहते हैं कि चूंकि क्लास ऑनलाइन है इसलिए ऑफलाइन वाली इंट्रेक्शन या इंगेजमेंट नहीं हाेती। टीचर्स स्टैप बाए स्टैप एक सवाल काे हल करने के लिए समय देते थे और स्टूडेंट्स से साॅल्व कराते थे चूंकि पहले से ही सब कुछ टाइप किया हाेता है इसलिए काम जल्दी हाे जाता है। हालांकि उनकाे लगता है कि सब कुछ पराेसा हुआ मिलने से आगे चल कर स्टूडेंट्स काे परेशानी हाेगी। वह कैमरा बंद हाेने के कारण कम इंट्रेक्शन काे भी एक समस्या मानते हैं।

खबरें और भी हैं...