NIA के खिलाफ दायर PIL ली वापस:31 अक्तूबर के बाद अब हाईकोर्ट में वकीलों ने शुरु किया काम

चंडीगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चंडीगढ़ स्थित पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट। - Dainik Bhaskar
चंडीगढ़ स्थित पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट।

चंडीगढ़ की महिला वकील के घर नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) की रेड के खिलाफ पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में दायर जनहित याचिका (PIL) आज याची एडवोकेट अरविंद सेठ ने वापस ले ली। मामले में पार्टी केंद्र सरकार और NIA के एफिडेविट और पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के आश्वासन के बाद उन्होंने याचिका वापस ले ली। बार एसोसिएशन के सेक्रेटरी विशाल अग्रवाल ने बताया कि केंद्र की तरफ से कहा गया कि मोबाइल फोन का डेटा प्राप्त कर लिया गया है और यह ले सकते हैं। ऐसे में बार ने एक मीटिंग कर फैसला लिया कि अब स्ट्राइक बंद कर अन्य तरीके से अपना विरोध प्रकट करेंगे।

बीते 18 अक्तूबर को एडवोकेट डॉ. शैली शर्मा के सेक्टर 27 स्थित घर एवं ऑफिस में यह सुबह 6.30 बजे यह रेड की गई थी। महिला वकील पंजाब के नामी गैंगस्टर्स के केसों में पैरवी करती हैं।

जांच एजेंसी ने गैंगस्टर-टेररिस्ट नेक्सस पर काम करते हुए देश में कई हिस्सों में यह रेड की थी। हाईकोर्ट बार एसोसिएशन समेत चंडीगढ़ जिला अदालत के वकीलों ने एडवोकेट के घर हुई इस रेड के खिलाफ कई दिनों से अदालती कामकाज ठप रखा हुआ था। NIA ने महिला वकील के 2 मोबाइल फोन भी जब्त कर लिए थे जिन्हें रिलीज़ करने की मांग वकील कर रहे थे।

हाईकोर्ट वकील अरविंद सेठ ने इस मुद्दे पर यह PIL दायर करते हुए NIA रेड को गैरकानूनी और तानाशाही कार्रवाई बताते हुए एक वकील की ड्यूटी में बाधा पहुंचाना बताया था। मामले में केंद्र सरकार, NIA के डायरेक्टर जनरल व अन्यों को पार्टी बनाया गया था।

इससे पहले केंद्र सरकार और NIA की तरफ से पेश काउंसिल ने हाईकोर्ट को बताया था कि दिल्ली पुलिस ने एक केस दर्ज किया था। केंद्र सरकार के आदेशों पर उसकी जांच NIA को सौंपी गई थी। इसके बाद 18 अक्तूबर को देश में 28 जगहों पर सर्च की गई थी। जिनमें गुरुग्राम, बठिंडा, दिल्ली और चंडीगढ़ में वकीलों के घर भी दबिश दी गई थी। बाकी सामान के साथ एडवोकेट शैली शर्मा के 2 मोबाइल फोन जब्त किए गए थे। इसे दिल्ली NIA कोर्ट को सौंप दिया गया था। अब यह कोर्ट प्रॉपर्टी है और इसे रिलीज कोर्ट ही कर सकता है।

एडवोकेट शैली शर्मा उनके घर NIA द्वारा रेड किए जाने के बाद। (फाइल)
एडवोकेट शैली शर्मा उनके घर NIA द्वारा रेड किए जाने के बाद। (फाइल)

NIA के मुताबिक चंडीगढ़ की महिला वकील का मोबाइल फोन जब्त किया गया था और उन्हें सीजर मेमो दिया गया था। दिल्ली की NIA कोर्ट में यह मोबाइल जमा करवाया गया था। इसके बाद इसका डेटा निकालने के आदेश प्राप्त किए गए थे। इसका डेटा निकाला गया है।

विवाद का निपटारा जल्द हो
PIL में मांग की गई थी कि NIA को आदेश दिए जाए कि हाईकोर्ट और चंडीगढ़ कोर्ट में काम करने वाले वकीलों को जांच के नाम पर तंग न किया जाए। वहीं कहा है कि प्रतिवादी पक्ष को ऐसे कदम उठाने को कहा जाए जिससे विवाद का निपटारा जल्द हो सके।

कामकाज ठप किया था
बता दें कि बीते 31 अगस्त से हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के वकीलों ने एडवोकेट शैली शर्मा का मोबाइल फोन रिलीज न किए जाने तक कामकाज ठप किया हुआ था। अब बुधवार से सुचारु रूप से वकील अपना काम शुरू करेंगें। इससे पहले ही वकीलों ने घटना को लेकर कामकाज ठप रखा था। एडवोकेट शैली शर्मा पंजाब के ए प्लस कैटेगरी के गैंगस्टर जग्गू भगवानपुरिया समेत कई गैंगस्टर्स की पैरवी कर रही है।