पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने कहा:पहली पत्नी की मौत हाेने के बाद दूसरी पत्नी 100 फीसदी फैमिली पेंशन पाने की हकदार

चंडीगढ़15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अमृतसर के एएसआई ने की थी दो शादियां, पहली पत्नी की हो चुकी है मौत

फैमिली पेंशन के एक मामले में पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने अहम फैसला देते हुए कहा कि सेवानिवृत्त कर्मचारी की पहली पत्नी के मौत के बाद दूसरी पत्नी 100 फीसदी फैमिली पेंशन की हकदार है। जस्टिस फतेह दीप सिंह ने कर्मचारी की विधवा से रिकवरी करने के आदेश को खारिज कर दिया। हाईकोर्ट ने फैसले में कहा कि सेवानिवृत्त कर्मचारी की दो शादियों की स्थिति में पहली पत्नी की मृत्यु कर्मचारी की मौत से पहले हो जाती है तो दूसरी पत्नी 100 प्रतिशत फैमिली पेंशन की हकदार है।

अमृतसर निवासी राधा रानी ने एसबीआई द्वारा उन्हें भेजे गए 364451 रुपये के रिकवरी नोटिस को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। याची ने बताया कि उनके पति पंजाब पुलिस में एएसआई थे। उनकी दो पत्नियां थीं। वह 24 अप्रैल 1983 को रिटायर हो गए थे। पहली पत्नी मंजीत की मौत 2008 में हो गई थी और याची के पति की मौत 9 सितंबर 2012 को हुई। इसके बाद याची को फैमिली पेंशन के तौर पर 3520 रुपये मिलने लगे।

अचानक 2 अगस्त 2019 को एसबीआई की ओर से राधा रानी को नोटिस मिला कि वह केवल 1760 रुपये पेंशन की हकदार हैं। कहा गया कि 10 सितंबर 2012 से 31 जुलाई 2019 के बीच उनको 364451 रुपये अतिरिक्त भुगतान हुआ है। ऐसे में इस राशि की रिकवरी की जाएगी।

सभी पक्षों को सुनने के बाद हाईकोर्ट ने कहा कि मृतक कर्मी की दो पत्नियों की स्थिति में फैमिली पेंशन दोनों में बराबर बांटी जाती है लेकिन मौजूदा मामले में एक पत्नी की मौत कर्मचारी की मृत्यु से पहले ही हो चुकी है और उसके कोई नाबालिग संतान भी नहीं थी जो फैमिली पेंशन की पात्र हो। कर्मचारी की मौत के समय उसकी केवल एक पत्नी जीवित थी, लिहाजा वह 100 प्रतिशत फैमिली पेंशन की हकदार है।

खबरें और भी हैं...