पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दिल्ली की दखलंदाजी से बढ़ी नाराजगी:कांग्रेस में 3 विधायकों की एंट्री के बाद अब केजरी भी करेंगे वन-टू-वन मीटिंग

चंडीगढ़6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भगवंत मान और हरपाल सिंह चीमा को पंजाब की कमान सौंपी जाने की मांग भी मुखर हो रही है। - Dainik Bhaskar
भगवंत मान और हरपाल सिंह चीमा को पंजाब की कमान सौंपी जाने की मांग भी मुखर हो रही है।
  • नाराज विधायकों के जाने से विपक्ष का रुतबा भी हो सकता है खत्म

सूबे में पंजाब कांग्रेस ही नहीं विपक्षी दल आम आदमी पार्टी (आप) की भी अंदरूनी हालत ठीक नहीं है। सीएम अमरिंदर सिंह की ओर से आप के विधायक सुखपाल खैहरा, जगदेव सिंह कमालू और पीरमल सिंह धौला को कांग्रेस ज्वाइन करवाने से एक बात तो साफ हो गई कि सूबे में आम आदमी पार्टी (आप) गहरे संकट में है। गंभीरता का अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल तुरंत डैमेज कंट्रोल में जुट गए हैं।

सूत्रों की मानें तो केजरीवाल भी अपने विधायकों को जल्द ही दिल्ली में तलब कर उनकी शिकायतों को दूर करने की कोशिश करेंगे। पंजाब के नेता बाहरी नेताओं की दखल अंदाजी से नाराज है। भगवंत मान और हरपाल सिंह चीमा को पंजाब की कमान सौंपी जाने की मांग भी मुखर हो रही है। खरड़ के विधायक कंवर संधू और मानसा से नाजर सिंह मानशाहिया ने समीकरण बिगाड़े तो आप के 15 विधायक रह जाएंगे। आप का प्रमुख विपक्षी दल का दर्जा खत्म हो सकता है। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि केजरीवाल डैमेज कंट्रोल कर पाने में कितना सफल रहेंगे।

आंकड़ों का गणित: 20 में से अब 16 विधायक रह गए

विधानसभा में आप के 20 विधायकों में से अब 16 ही रह गए हैं और उसमें भी दो पार्टी के साथ नहीं हैं। कंवर संधू और नाजर सिंह मानशाहिया भी कभी भी आप को झटका दे सकते हैं। आप पार्टी ने विधानसभा में उनकी सीटें अलग करने को कहा हुआ है। यानी ये विधायक अभी तो आप के हैं लेकिन आप से किनारा किए हुए हैं।

खबरें और भी हैं...