• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Amarinder Quits Congress, Sends 7 page Resignation Letter To Sonia Gandhi; Left The Post Of Chief Minister On 18 September

कैप्टन ने कांग्रेस छोड़ी:सोनिया को 7 पन्नों का इस्तीफा भेजा; पंजाब लोक कांग्रेस के नाम से नई पार्टी बनाई

चंडीगढ़एक वर्ष पहलेलेखक: मनीष शर्मा

दिवाली से पहले कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब में सियासी धमाका कर दिया है। मंगलवार को उन्होंने औपचारिक तौर पर कांग्रेस छोड़ दी। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेजे 7 पन्नों के इस्तीफे में उन्होंने अपने पूरे सियासी सफर का जिक्र किया है। अमरिंदर ने कांग्रेस हाईकमान के साथ नवजोत सिद्धू पर भी सवाल खड़े किए।

अमरिंदर ने 18 सितंबर को पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था। इसके बाद ही उन्होंने कांग्रेस छोड़ने की घोषणा कर दी थी। मंगलवार को उन्होंने अपनी नई पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस (PLC) की घोषणा कर दी। अमरिंदर पहले ही कह चुके हैं कि वे पंजाब में सभी 117 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। इसके लिए पहले किसान आंदोलन का हल निकलवाएंगे। उसके बाद भाजपा और अकाली दल के बागी नेताओं से गठजोड़ करेंगे। हालांकि कांग्रेस ने कैप्टन को मनाने की कोशिश भी की थी, लेकिन वे नहीं माने।
अमरिंदर के सियासी दांव से कांग्रेस में हड़कंप:पंजाब भवन मंत्री-विधायकों संग सिद्धू, हरीश चौधरी और CM चन्नी का मंथन; सिद्धू बोले- ऑल इज वेल

पढ़िए... कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे की कॉपी

अमरिंदर ने नवजोत सिद्धू को पंजाब कांग्रेस प्रधान बनाने पर भी बड़े सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि मेरे और पंजाब के सभी सांसदों के विरोध के बावजूद सिद्धू को जिम्मेदारी दी गई। उन्होंने सिद्धू को पाक परस्त करार देते हुए कहा कि उन्होंने सार्वजनिक तौर पर पाकिस्तान के आर्मी चीफ और प्रधानमंत्री इमरान खान को गले लगाया। यह दोनों ही भारत में आतंकवाद फैलाने के लिए जिम्मेदार हैं।

सिद्धू ने मेरा सार्वजनिक अपमान किया
कैप्टन ने कहा कि सिद्धू ने मुझे लगातार निजी और सार्वजनिक तौर पर बेइज्जत किया। मैं उनके पिता की उम्र का था, इसके बावजूद वह मेरे खिलाफ बयानबाजी करते रहे। सिद्धू के खिलाफ कोई कार्रवाई करने के बजाय राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने सिद्धू का समर्थन किया। उन्होंने हरीश रावत पर भी हमला किया।

CM पद से इस्तीफा देने के बाद कैप्टन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी।
CM पद से इस्तीफा देने के बाद कैप्टन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी।

कैप्टन अमरिंदर का सियासी सफर
कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 1977 में कांग्रेस जॉइन की थी। इसके बाद 1978 में लोकसभा चुनाव लड़ सांसद बने। ऑपरेशन ब्लू स्टार के विरोध में उन्होंने कांग्रेस छोड़ दी थी। इसके बाद वह अकाली दल में चले गए। इसके बाद राजिंदर कौर भट्‌ठल ने उन्हें 1998 में कांग्रेस जॉइन करवा दी। इसके बाद 1999 से 2002 तक अमरिंदर प्रधान रहे।

इसके बाद 2002 से 2007 तक सीएम रहे। 2009 में कैंपेन कमेटी चेयरमैन और 2010 से 2013 तक प्रधान रहे। उसी दौरान 2012 में विधानसभा चुनाव हारे। इसके बाद 2014 से 2015 तक सांसद बने और लोकसभा में डिप्टी लीडर रहे। 2015 से 2017 तक फिर पंजाब कांग्रेस के प्रधान बने। इसके बाद 2017 में चुनाव लड़कर फिर मुख्यमंत्री बने।

खबरें और भी हैं...