• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Arvind Kejriwal In Chandigarh Today; Will Be Involved In The Demonstration Of Contract Teachers In Mohali

टीचरों के धरने में पंजाब पहुंचे अरविंद केजरीवाल:मोहाली में बोले - एक मौका छोटे भाई को दो; काम न करें तो लात मारकर भगा देना

चंडीगढ़7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
टीचरों से बात करते अरविंद केजरीवाल । - Dainik Bhaskar
टीचरों से बात करते अरविंद केजरीवाल ।

दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल ने मोहाली में टीचरों से कहा कि आप 2003 से भर्ती हुए हो। इसके बाद 18 साल में 10 साल अकाली और 8 साल कांग्रेस के रहे लेकिन उन्होंने कुछ नहीं किया। एक बार एक मौका अपने इस छोटे भाई को देकर देखो। अगर हम न करें तो अगली बार हमें लात मारकर भगा देना। एक बार मुझ पर भी विश्वास करके देखो।

केजरीवाल ने कहा कि हम भी आंदोलन से निकले हुए हैं। हमारा मिशन है कि जहां भी जाओ, स्कूल पहले ठीक करो। जब तक आप परेशान होंगे, हम सुधार नहीं कर सकते। दिल्ली के टीचरों को हमने ट्रेनिंग के लिए फॉरेन भेजा। केजरीवाल ने कहा कि टीचरों को पक्का तो हर हाल में करेंगे।

मोहाली में टीचरों के साथ धरने पर बैठे अरविंद केजरीवाल
मोहाली में टीचरों के साथ धरने पर बैठे अरविंद केजरीवाल

चन्नी सरकार पर हमला, कौन से 36 हजार कर्मचारी पक्के किए
केजरीवाल ने कहा कि वह एयरपोर्ट से मोहाली आए तो होर्डिंग देखे कि 36 हजार कर्मचारी पक्के कर दिए हैं। केजरीवान ने पूछा कि इनमें कितने टीचर पक्के हुए तो टीचरों ने इससे इन्कार कर दिया। केजरीवाल ने कहा कि इससे पहले सफाई कर्मचारियों ने कहा कि उन्हें भी पक्का नहीं किया गया।

केजरीवाल ने पूछा कि 36 हजार कौन से कर्मचारी पक्के किए गए?। पंजाब सरकार झूठ बोल रही है। केजरीवाल ने कहा कि हमने किसी टीचर को नहीं निकाला। दिल्ली में सरकारी स्कूल अच्छे हुए तो वह केजरीवाल या मनीष सिसौदिया ने नहीं बल्कि टीचरों ने किए हैं।

दिल्ली में मसले हल कर चुके, पंजाब में भी करेंगे
स्कूलों में पहले पढ़ाई नहीं होती थी। सरकारी स्कूलों का माहौल खराब था। केजरीवाल ने कहा कि मैं भी वादा कर रहा हूं कि सरकार आई तो पक्का करेंगे। मैं इसलिए कह रहा हूं कि दिल्ली में मसले हल किए हैं तो पंजाब का भी करेंगे। पंजाब के कई स्कूलों में 7वीं तक एक भी टीचर नहीं है। कहीं एक ही टीचर है। यहां सिर्फ पुताई कर उसे स्मार्ट स्कूल बता देते हैं।

टीचरों को यहां 6 हजार वेतन मिल रहा, दिल्ली में मजदूर को भी 15 हजार मिलते हैं
परगट सिंह कहते हैं कि हमारे स्कूल देश में सबसे अच्छे हैं। परगट को यहां आकर टीचरों से पूछना चाहिए कि स्कूल कितने अच्छे हैं। केजरीवाल ने कहा कि टीचर कह रहे कि हमें 6-6 हजार मिलते हैं। दिल्ली में एक मजदूर को भी 15 हजार रुपए मिलते हैं।

इससे पहले टीचरों ने कहा कि उनके साथ कैप्टन अमरिंदर सिंह, मनप्रीत बादल समेत कई नेताओं ने वादे किए। वह नेताओं से अपील करते हैं कि वादे वही करें, जिसे वह पूरा कर सकें।

टीचरों को संबोधित करते भगवंत मान
टीचरों को संबोधित करते भगवंत मान

भगवंत मान बोले- स्कूलों को बाहर से रंग करने से कुछ नहीं होगा
इस मौके आप के पंजाब प्रधान भगवंत मान ने कहा कि जिन्होंने पंजाब के बच्चों का भविष्य बनाना था, वह अपने भविष्य के लिए लड़ रहे। ऐसे में बच्चे पंजाब से बाहर नहीं जाएंगे तो कहां जाएंगे?। उन्होंने कहा कि पंजाब लावारिस हो गया है।

टीचरों को टावरों पर चढ़ना पड़ रहा है और सरकारें सिर्फ ऐलान कर रही हैं। स्कूल को बाहर से रंग करने से स्मार्ट नहीं बनता। स्कूल के अंदर से बच्चा क्या सीखकर आता है। टीचरों को क्या माहौल मिलता है, इस पर बहुत कुछ निर्भर होता है। पंजाब के स्कूलों में कहीं टीचर ही नहीं तो कहीं चपरासी के भरोसे चल रहे हैं। टीचरों को मिड डे मील का भी जिम्मा दिया गया है।

टीचरों में कमी नहीं लेकिन उन्हें 6 हजार रुपया महीना दिया जा रहा है। सरकार को शर्म भी नहीं आती। यह कड़वा मजाक है कि इतनी डिग्रियां लेकर अब धरनों में लाठियां, पानी की बौछारें खाकर ओवरएज हो रहे हैं।

चंडीगढ़ पहुंचे अरविंद केजरीवाल
चंडीगढ़ पहुंचे अरविंद केजरीवाल

उन्होंने कहा कि चन्नी सरकार बिजली बिल माफी की बात कह रही है। आज कुछ लोग बिजली बिल लेकर भी आ रहे हैं। उनसे भी चन्नी सरकार के दावों की पड़ताल करेंगे। केजरीवाल लांडरा में व्यापारियों से भी मुलाकात करेंगे।

केजरीवाल का यह दौरा इसलिए अहम है, क्योंकि पिछले तीन दिन से पंजाब के शिक्षा मंत्री परगट सिंह और दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसौदिया के बीच बहस चल रही है। सिसौदिया की खुली बहस के चैलेंज को परगट सिंह स्वीकार कर चुके हैं। ट्विटर पर दोनों के बीच सियासी जंग चल रही है।

मोहाली में प्रदर्शन करते कॉन्ट्रैक्ट टीचर
मोहाली में प्रदर्शन करते कॉन्ट्रैक्ट टीचर

सिसौदिया बोले- टीचर बताएंगे स्कूलों की हालत कैसी?
पंजाब और दिल्ली के शिक्षा मंत्री के बीच चली बहस के बाद मनीष सिसौदिया ने कहा कि अब पंजाब के टीचर ही बताएंगे कि वहां के स्कूलों की हालत क्या है? इसलिए अरविंद केजरीवाल मोहाली में टीचरों के प्रदर्शन में पहुंच रहे हैं।

इससे पहले सिसौदिया ने परगट को 10-10 स्कूलों की तुलना के लिए कहा था, जिसके जवाब में परगट ने कहा कि वे दोनों जगहों के 250-250 स्कूलों की तुलना करेंगे। हालांकि परगट ने दिल्ली और पंजाब की भौगोलिक और आर्थिक स्थिति का तर्क देकर बचाव की भी कोशिश की।

पंजाब में शिक्षा की सियासी बहस में कूदी BJP:अरविंद केजरीवाल दिल्ली में एजुकेशन नहीं 'एड क्रांति' लाए; मोहाली आना दिल्ली के CM का 'धरना प्रेम'

केजरीवाल की गारंटी से शुरू हुआ सियासी विवाद
केजरीवाल कुछ दिन पहले अमृतसर पहुंचे थे। जहां उन्होंने टीचरों को 8 गारंटी दी। जिसमें अस्थाई अध्यापकों को स्थाई करने से लेकर ट्रांसफर पॉलिसी तक अच्छी बनाने का दावा किया गया। इसके बाद पंजाब के शिक्षा मंत्री परगट सिंह ने केजरीवाल को घेरने की कोशिश की।

उन्होंने स्कूल एजुकेशन के नेशनल परफॉर्मेंस ग्रेडिंग इंडेक्स (NPGI) का हवाला देते हुए कहा कि पंजाब टॉप और दिल्ली 6वें नंबर पर है। इसलिए केजरीवाल पहले दिल्ली के स्कूल सुधारें और फिर पंजाब की चिंता करें।

खबरें और भी हैं...