लॉकडाउन का असर / लूट खसोट पर उतरी ऑटोमोबाइल कंपनियां

X

  • गाड़ी को सेनेटाइज करने के नाम पर कस्टमर से 200-250 रुपए किए जा रहे वसूल

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

चंडीगढ़. लॉकडाउन के बाद ऑटो मोबाइल कंपनियों ने कस्टमर्स के साथ नए तरीके से लूट शुरू कर दी है। ऑटोमोबाइल कंपनियों के सर्विस स्टेशन में गाड़ियों को चेक करने से पहले सेनेटाइज किया जाता है और इस मामूली से काम के लिए कस्टमर से 200 से 250 रुपए अवैध रूप से वसूले जा रहे हैं। सेनेटाइज के नाम पर भी सिर्फ गाड़ी के दरवाजों पर सेनेटाइजर स्प्रे की जाती है और इसके लिए कस्टमर के बिल में चार्ज जोड़ दिए जाते हैं।
वीरवार को इंडस्ट्रियल एरिया स्थित ऑटोपेस नेटवर्क प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के सर्विस स्टेशन में अवैध सेनेटाइजेशन चार्जेज को लेकर कस्टमर्स ने विरोध किया। जिन कस्टमर्स ने अवैध चार्जेज का विरोध किया, उनकी गाड़ी को सर्विस स्टेशन से वापस ही भेज दिया गया। नयागांव के ओमपाल ने बताया कि उनकी ऑल्टो 800 गाड़ी के तीन महीने पहले ब्रेक फेल हो गए थे। कंपनी ने कहा था कि उसमें कुछ पार्ट डलना है जो उस समय कंपनी के पास उपलब्ध नहीं था। वीरवार को ओमपाल ये पार्ट्स डलवाने के लिए पहुंचे। जब उन्होंने इसके खर्चे के बारे में पूछा तो उन्हें कहा गया कि स्पेयर पार्ट्स का कोई खर्चा नहीं होगा, सिर्फ सेनेटाइजर के 240 रुपए देने होंगे। ओमपाल ने जब विरोध किया तो सर्विस स्टेशन वालों ने गाड़ी बिना स्पेयर पार्ट डाले वापस भेज दी।

लूट के लिए कंपनी को भेजा लीगल नोटिस

एडवोकेट पंकज चांदगोठिया ने वीरवार को ऑटोपेस नेटवर्क प्राइवेट लिमिटेड को इसी लूट के लिए लीगल नोटिस भेजा। एडवोकेट ने बताया कि उनके क्लाइंट अपनी गाड़ी के रूटीन चेकअप के लिए कंपनी के सर्विस स्टेशन गए। उनकी गाड़ी वारंटी में है, इसलिए चेकअप का कोई खर्चा नहीं था। लेकिन फिर भी उन्हें 224 रुपए का बिल थमा दिया गया। बिल में 175 रुपए हाइजिन चार्जेज और कार प्रोटेशन कवर के 14 रुपए जोड़े थे। जब उन्होंने हाइजिन चार्जेज के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि आपकी गाड़ी को सेनेटाइज किया गया था, इसलिए ये खर्चा उन्हें देना पड़ेगा। उन्होंने बताया कि डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के तहत सभी इंस्ट्रियल  एस्टेब्लिशमेंट्स के लिए सेनेटाजर्स अनिवार्य किए गए हैं और इसका खर्चा वे कस्टमर से नहीं ले सकते। एडवोकेट ने बताया कि कंपनी ने हाइजिन चार्जेज में 18 परसेंट जीएसटी भी जोड़ा था जो कि कानूनन गलत है। कोविड-19 के कारण पैदा हुए इन हालातों में कंपनी ने कस्टमर्स को लूटने की कोशिश की है जोकि एपिडेमिक डिजीज एक्ट की भी वॉयलेशन है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना