• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Before Leaving The House, See The Traffic Plan, Route Will Be Diverted On Many Roads Of The City, On The Completion Of One Year, United Kisan Morcha Has Announced Bharat Bandh

चंडीगढ़ में किसानों का धरना खत्म, यातायात शुरू:शाम 4 बजे के बाद सड़कों से हटे प्रदर्शनकारी, बाजार खुले; घरों से निकले लोग

चंडीगढ़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मोहाली में मुख्य सड़क पर बैठे किसान। - Dainik Bhaskar
मोहाली में मुख्य सड़क पर बैठे किसान।

कृषि कानूनों के एक साल पूरे होने पर संयुक्त किसान मोर्चा ने आज भारत बंद बुलाया था। जिसका पंजाब, हरियाणा समेत पूरे ट्राईसिटी में व्यापक असर देखने को मिला। सोमवार सुबह 6 बजे शुरू हुआ किसानों का धरना-प्रदर्शन शाम 4 बजे खत्म हुआ और किसान पूरे ट्राईसिटी में सड़कों से हट गए और वाहनों की आवाजाही फिर से शुरु हुई। जिसके बाद लोग अपने घरों से मार्केट की ओर निकले। हालांकि शहरवासियों को यातायात में किसी तरह की कोई समस्या न हो इसके लिए ट्राईसिटी पुलिस ने पहले से ही तैयारियां कर रखी थी। सुरक्षा के दृष्टिकोण से शहर की सीमाओं पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किए गए थे। हालात बिगड़ने पर चंडीगढ़ पुलिस ने विकल्प के रूप में एक अतिरिक्त योजना भी बनाई थी। जिसके अनुसार वरिष्ठ अधिकारियों के दिशा निर्देश पर सीमावर्ती थाना प्रभारियों समेत डीएसपी को आदेश जारी कर दिए थे।

सुबह होते ही ट्राईसिटी की सीमाएं हुई थी सील
शहर मे शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए सुबह होते ही शहर की सीमाओं को सील कर दिया गया था। आंदोलनकारी किसानों को छोड़कर आम लोगों को शहर में बिना रोक-टोक के प्रवेश दिया जा रहा था। जब कि वहीं पर मौजूद प्रदर्शनकारी किसानों ने मीडिया कर्मी व मेडिकल से संबंधित लोगों को छोड़कर शहर में जाने से रोक रहे थे। शहर की कुछ सीमाओं पर, जहां हालात ज्यादा खराब होने की संभावना थी, वहां पर वॉटन कैनन के साथ-साथ वज्र वाहन भी तैनात किए गएथे। ट्राईसिटी की संवेदनशील सीमाओं पर वरिष्ठ अधिकारियों को तैनात किया गया था।

मोहाली के खेरा पिंड के पास किसानों ने किया जाम
मोहाली के खेरा पिंड के पास किसानों ने किया जाम

शहर के प्रमुख मुख्य मार्ग थे बंद
किसान संगठन कृषि कानूनों के खिलाफ एक साल से प्रदर्शन कर रहे थे। इन कानूनों की वापसी कराने के लिए ही यह संगठन भारत बंद कर रहे थे। किसान संगठन विरोध स्वरूप मुख्य मार्गों को बंद कर दिए हैं। खासकर चंडीगढ़ से दिल्ली और पंजाब के मुख्य मार्ग बंद किया गया है। पहले भी बंद के दौरान यह मार्ग बंद किए गए थे। इसी तरह से हिमाचल प्रदेश को जाने वाले सोलन शिमला मार्ग को भी पंचकूला में बंद किया गया था। जो अब पूरी तरह से खोल दिए गए हैं।

कई जगह ट्रैफिक थे डायवर्ट, अब हुआ सामान्य
मुल्लांपुर बैरियर और हल्लोमाजरा लाइट प्वाइंट पर सड़क जाम होने की के कारण चंडीगढ़ पुलिस यातायात रूट में बदलाव कर दिया था। मुल्लांपुर बैरियर की ओर से 66केवी लाइट प्वाइंट, खुड्डा लाहौर ब्रिज, धनास ब्रिज, सेक्टर-25 ट्यूबवेल मोड, धनास लेक टी-प्वाइंट व पीजीआई चौक तक जाने वाले रास्ते को बंद किया गया था। इसके अलावा हल्लोमाजरा लाइट प्वाइंट की ओर जाने वाले वाहनों को ट्रिब्यून चौक से कालीबाड़ी लाइट प्वाइंट की तरफ डायवर्ट किया गया था। वहीं पोल्ट्री फार्म चौक पर औद्योगिक क्षेत्र फेज-1 व 2 से आने वाले यातायात को ट्रिब्यून चौक की तरफ डायवर्ट किया गया था। जबकि पंचकूला से हल्लोमाजरा लाइट प्वाइंट की ओर आने वाले यातायात को रायपुर कलां बैरियर से बलटाना व मख्खन माजरा मोड से एयरपोर्ट लाइट प्वाइंट की ओर डायवर्ट किया गया था। जो अब पूरी तरह से साफ हो गया है। रोजाना की तरह अब इन मुख्य मार्गों को खोल दिया गया है। जहां से लोग आना-जाना भी शुरू कर दिए हैं।

मोहाली के फेज-6 के वेरका चौक के पास किसानों ने किया सड़क जाम
मोहाली के फेज-6 के वेरका चौक के पास किसानों ने किया सड़क जाम

एंबुलेंस और मीडिया कर्मियों को थी आवाजाही में छूट
आवाजाही को लेकर किसानों द्वारा प्रमुख हाईवे खरड़-चंडीगढ़, चंडीगढ़-अंबाला और बठिंडा-जीरकपुर बंद कर दिया गया था। भारत बंद के दौरान एंबुलेंस और मीडिया कर्मियों को आवाजाही की छूट दी गई थी। जबकि केमिस्ट शॉप्स आम दिनों की तरह खुली थी। दूसरी ओर, भारत बंद के दौरान जिला पुलिस की तरफ से सुरक्षा को लेकर पुख्ता प्रबंध किए गए हैं, बल्कि शांतिपूर्ण होने वाले भारत बंद के दौरान जिले के अंदर एसएसपी खुद निगरानी कर रहे थे।

मॉल्स एवं शहर की प्रमुख जगहों पर पुलिस का था सख्त पहरा
अंबाला-चंडीगढ़ हाईवे पर मॉल्स के बाहर पुलिस की पैनी नजर थी। ताकि कोई शरारती तत्व किसी घटना को अंजाम न दे सके। शहर की मुख्य जगहों पर किसान मोर्चा के सदस्यों के साथ-साथ स्थानीय पुलिस के अधिकारियों की टुकड़ियां तैनात की गई थी। जबकि वीआईपी रोड के डॉमिनॉज चौक, ढकोली-पंचकूला, बलटाना-पंचकूला, पीरमुछल्ला-पंचकूला, चंडीगढ़-जीरकपुर में भी पुलिस के अधिकारियों का सख्त पहरा था।

चंडीगढ़ के हल्लोमाजरा चौक के पास किसानों के प्रदर्शन के बीच जाती एंबुलेंस
चंडीगढ़ के हल्लोमाजरा चौक के पास किसानों के प्रदर्शन के बीच जाती एंबुलेंस

नौकरीपेशा-कारोबारी समेत आम लोगों की बढ़ी थी मुश्किलें

भारत बंद के दौरान किसानों के साथ पूरे ट्राईसिटी के लोगों की भी मुश्किलें बढ़ गई थी। कारोबारी, नौकरीपेशा के अलावा मजदूर से लेकर आम लोग को सुबह 6 बजे से शाम 4 बजे तक मुश्किलों का सामना कर रहे थे। क्यों कि सुबह होते ही किसानों ने शहर की मुख्य सड़कों को जाम कर के बैठ गए थे।

खबरें और भी हैं...