पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कांग्रेस-पुलिस-अपराधियों के गठजोड़ को सीएम ने नकारा:कैप्टन ने कहा- पंजाब की कानून व्यवस्था नंबर-1, चीमा काे 2022 की हार दिख रही है

चंडीगढ़16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह - Dainik Bhaskar
सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह

सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा द्वारा राज्य में बढ़ रहे अपराध के बारे में लगाए बेबुनियाद आरोपों पर कहा कि विरोधी पक्ष के नेता आंकड़ों को तोड़-मरोड़ कर पेश कर रहे हैं।

आप नेताओं में 2022 के चुनाव में हार की बौखलाहट अभी से दिख रही है। सीएम ने कहा कि उनकी सरकार में कानून व्यवस्था सुधारी है। 2018 में रैंक 5 से 2020 में रैंक-1 हो गई। केजरीवाल को तो 2017 के चुनाव में आतंकी पृष्ठभूमि वालों से मिलते देखा गया था।

2017 से फिरौती को किडनैपिंग के लिए 38 केस, सभी सुलझे
मुख्यमंत्री ने चुटकी लेते हुए कहा कि चीमा ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि आप की विचारधारा झूठ और मनघड़त बातों पर आधारित है और अरविंद केजरीवाल की पार्टी के सभी नेता धोखेबाजी और मक्कारी के उस्ताद हैं। उन्होंने कहा कि चीमा के दावों से उलट मार्च, 2017 से राज्य में फिरौती के लिए अपहरण से जुड़े 38 मामले रिपोर्ट हुए और सभी को सुलझा लिया गया। हर केस में दोषी गिरफ्तार हुए।

पंजाब चीमा की बताई 138 घटनाओं से कोसों दूर : कैप्टन
कैप्टन ने कहा कि ये मामले चीमा की तरफ से बताई 7138 घटनाओं से कोसों दूर हैं। चीमा फिरौती के लिए अपहरण और अपहरण के अन्य मामलों में फर्क नहीं कर पा रहे। चीमा पर चुटकी ली, कहा- फिर तो आपको शासन या प्रशासन या पुलिस के तजुर्बों का कुछ नहीं पता। उन्होंने ने कहा कि असली तथ्य यह है कि आईपीसी की धाराओं 363, 364 -ए, 365 और 366 के अंतर्गत दर्ज अपराधिक मामलों का एक समूह है जो अपहरण से निपटते हैं।

खबरें और भी हैं...