रिश्वतखोरी / सीबीआई ने मनीमाजरा थाने की एसएचओ जसविंदर कौर के खिलाफ 5 लाख की रिश्वतखोरी का केस दर्ज

CBI registers a case of bribery of Rs 5 lakh against SHO Jaswinder Kaur of Manimajra police station
X
CBI registers a case of bribery of Rs 5 lakh against SHO Jaswinder Kaur of Manimajra police station

  • पैसों के लेन-देन के मामले में मनीमाजरा थाने की एसएचओ जसविंदर ने शिकायतकर्ता पर बनाया था दबाव, 3 लाख रुपए लेता बिचौलिया अरेस्ट

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 06:20 AM IST

चंडीगढ़. अपने चहेते दागदार कर्मियों को बचाकर उन्हें प्राइम पोस्टिंग देने वाले चंडीगढ़ पुलिस के बड़े अफसरों के लिए मंगलवार काफी शर्मसार रहा। सीबीआई ने मनीमाजरा थाने की एसएचओ जसविंदर कौर के खिलाफ 5 लाख रुपए की रिश्वतखोरी का केस दर्ज किया है। उनके लिए रिश्वत ले रहे एक शख्स को भी गिरफ्तार किया गया है। मंगलवार को सीबीआई ने जब जसविंदर कौर को रिश्वतखोरी केस में पूछताछ के लिए बुलाया तो वे फरार हो गईं। इंस्पेक्टर जसविंदर कौर के खिलाफ थाना 31 में भी रिश्वतखोरी का सीबीआई ने केस दर्ज किया था।

लेकिन पुलिस के अफसरों ने केस चलाने की सीबीआई को अनुमति नहीं दी। इसके बाद जसविंदर कौर को एसएचओ मनीमाजरा लगा दिया। अब फिर से रिश्वतखोरी में उनका नाम आ गया। रिश्वतखोरी की एफआईआर दर्ज होने के बाद अब अफसरों ने अपनी चहेती इंस्पेक्टर से नजरें फेर ली हैं और उन्हें पुलिस लाइन में ट्रांसफर कर दिया है। उनकी जगह इंस्पेक्टर नीरज सरना को मनीमाजरा थाने का एसएचओ तैनात किया गया है। सीबीआई को उम्मीद थी कि इंस्पेक्टर जसविंदर कौर पुलिस लाइन जाएंगी, लेकिन वे वहां नहीं आईं। 

आरोप: एसएचओ ने धमकाया, 28 लाख का हिसाब नहीं किया तो अभी गिरफ्तार कर लूंगी

मनीमाजरा के मॉडर्न हाउसिंग काॅम्प्लेक्स निवासी गुरदीप सिंह ने सीबीआई में शिकायत दी थी कि कुछ दिन पहले एसएचओ ने पहले पुलिस भेजकर और फिर खुद अपने फोन कर उसे ऑफिस बुलाया। जब वह पुलिस स्टेशन पहुंचा तो संगरूर निवासी रंधीर सिंह और एसएचओ का जानकार भगवान सिंह वहां मौजूद थे। एसएचओ ने कहा कि रंधीर ने शिकायत दी है कि उसकी पत्नी को हरियाणा में ईटीओ लगवाने के लिए उसने 28 लाख रुपए लिए हैं। गुरदीप ने मना किया कि उनका इन लोगों से कोई दूसरा मसला है। एसएचओ ने धमकी दी और कहा कि वह पैसे दे, नहीं तो केस दर्ज करके उसे गिरफ्तार कर लेगी।

गुरदीप के मुताबिक एसएचओ ने खाली कागजातों पर उसके साइन करवाए और अलग-अलग तारीखें लिख दी कि वह रंधीर को करीब 23 लाख रुपए चेक के जरिए अदा करता रहेगा। जसविंदर ने अपने हिस्से के 5 लाख रुपए भगवान सिंह को कैश देने को कहा। उसने 2 लाख रुपए 26 जून को दे दिए। 3 लाख रुपए 1 जुलाई से पहले देने की बात कही। 3 लाख एसएचओ के कहने पर सोमवार रात गुरदीप सिंह ने भगवान सिंह को दिए। इसी दौरान सीबीआई ने उसे दबोच लिया। 

सोमवार रात ही लगा ट्रैप
सोमवार रात को सीबीआई के कहने पर गुरदीप ने भगवान सिंह को फोन किया। कहा कि वह 3 लाख लेकर आ रहा है, एसएचओ जसविंदर कौर को बता दे। भगवान सिंह ने वॉट्सएप कॉल कर उसे बता देने की बात कही। रात करीब 11 बजे पटियाला में भगवान सिंह को सीबीआई ने रंगे हाथों 3 लाख लेते पकड़ लिया। इसके बाद एसएचओ जसविंदर को भगवान ने फोन कर बताया भी कि ‘उसे पैसे मिल गए हैं’।

रिकार्डिंग सीबीआई के पास है। सीबीआई ने देर रात एसएचओ जसविंदर कौर के घर, सरकारी घर और ऑफिस में रेड की। रात को महिला की गिरफ्तारी नहीं की जाती, इसलिए दोपहर 12 बजे मंगलवार सीबीआई हेडक्वार्टर में पेश होने को बोला। मंगलवार को एसएचओ सीबीआई के समक्ष पेश नहीं हुईं। भगवान सिंह को सीबीआई ने 4 दिन के रिमांड पर लिया है। 

दागदार अफसरों पर मेहरबान पीईबी के अफसर

पिछले काफी समय से पुलिस के पीईबी बोर्ड यानि पुलिस इस्टेबलिशमेंट बोर्ड के अफसरों द्वारा की जा रही ट्रांसफर चर्चा का विषय बना हुआ है। एसएचओ जसविंदर कौर पर पिछले साल ही एसएचओ 31 के पद से हटाया गया था। उनके खिलाफ सीबीआई ने रिश्वतखोरी की एफआईआर दर्ज की थी, जिसमें एसआई मोहनलाल को गिरफ्तार किया गया था।

जसविंदर कौर के खिलाफ सीबीआई ने कोर्ट में चार्जशीट तक दर्ज की थी। लेकिन पुलिस के अफसरों ने केस चलाने की अनुमति नहीं दी। उलटा जसविंदर कौर को एसएचओ दोबारा लगा दिया। ऐसा ही सीबीआई द्वारा दो बार रिश्वतखोरी में पकड़े गए इंस्पेक्टर बलजीत सिंह को पीसीए सैल का इंचार्ज लगाकर किया। इतना ही नहीं बिना एक्स इंडिया लीव के दो बार विदेश यात्रा करने वाले एसएचओ को बदला तक नहीं। कुछ दिन पहले 100 से ज्यादा कर्मियों की बिना बोर्ड मीटिंग किए टेम्परेरी बदलियां कर दी गई।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना