पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Chandigarh Coronavirus Updates On Milkha Singh Daughter Jeev Milkha Singh Fight From Coronavirus In New York Metropolitan Hospital Center

सेवा भावना:‘फ्लाइंग सिख’ मिल्खा सिंह को अमेरिका में कोरोना पीड़ित मरीजों का इलाज करती डॉक्टर बेटी पर गर्व

चंडीगढ़एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अमेरिका के अस्पताल में कोरोना पीड़ितों को इलाज कर रही मोना मिल्खा सिंह। मिल्खा सिंह ने कहा बेटी पर गर्व। - Dainik Bhaskar
अमेरिका के अस्पताल में कोरोना पीड़ितों को इलाज कर रही मोना मिल्खा सिंह। मिल्खा सिंह ने कहा बेटी पर गर्व।
  • पटियाला में मेडिकल का कोर्स करने वाली मोना न्यूयार्क के अस्पताल में डॉक्टर
  • मिल्खा सिंह ने कहा मोना उनसे रोजाना फोन पर बात कर रही है

‘फ्लाइंग सिख’ मिल्खा सिंह की बेटी और स्टार गोल्फर जीव मिल्खा सिंह की बहन इस समय न्यूयॉर्क में कोरोना वायरस के खिलाफ ‘मैराथन’ कर रही हैं। वे ये मैराथन किसी ट्रैक पर नहीं बल्कि न्यूयॉर्क के अस्पताल में कर रही हैं। कोविड-19 महामारी के बीच जहां पूरी दुनिया अपने घरों में कैद है वहीं मोना मिल्खा सिंह लोगों को ठीक करने का काम कर रही हैं। मोना मिल्खा सिंह न्यूयॉर्क के मेट्रोपोलिटन हॉस्पिटल सेंटर में डॉक्टर हैं और वे इस समय कोरोना इन्फेक्टेड मरीजों की देखभाल कर रही हैं। अमेरिका में अभी तक हजारों लोग अपनी जान गंवा चुके हैं जबकि पूरी दुनिया में 1.5 लाख से ज्यादा मौतें इसकी वजह से हो चुकी हैं।

मिल्खा सिंह ने कहा बेटी पर गर्व

पूर्व ओलंपियन मिल्खा सिंह की बेटी न्यूयॉर्क में कोविड-19 महामारी से प्रभावित लोगों का इलाज करने में लगी हैं और ‘फ्लाइंग सिख’ को अपनी बेटी पर गर्व है। उनकी बेटी मोना मिल्खा सिंह अमेरिका के न्यूयॉर्क के एक अस्पताल में काम कर रही है। मिल्खा सिंह ने कहा कि मुझे मेरी बेटी पर गर्व है। वो लगातार लोगों के लिए काम कर रही है। मोना हमसे रोजाना बात करती है और हम हमेशा उसे अपनी सुरक्षा रखने के लिए कहते हैं। हमें उसकी चिंता होती है लेकिन वो उसकी ड्यूटी है, जो उसे करनी ही है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ये वायरस सभी को प्रभावित कर रहा है और डॉक्टर्स के साथ साथ नर्स और पुलिस वाले लोगों के लिए काम कर रहे हैं।

जीव मिल्खा सिंह ने मोना सेवा में लगी हुई

चार बार के यूरोपियन गोल्फ टूर चैंपियन जीव मिल्खा सिंह ने कहा कि वो अभी न्यूयॉर्क के मेट्रोपोलिटन हॉस्पिटल सेंटर के एमरजेंसी रूम में काम कर रही है। अगर वहां पर कोई भी कोरोना के लक्षणों के साथ अस्पताल आता है तो उसे मोना व उसकी टीम को चेक करना होता है। वो मरीजों की जांच करते हैं और उन्हें स्टेबल करने की कोशिश करते हैं। इसके बाद वहां पर मरीजों को कोविड-19 के लिए बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटर व स्पेशल वॉर्ड में भेजा जाता है।

परिवार को हो रही है चिंता

जीव मिल्खा सिंह ने कहा कि वो अच्छा काम कर रही है लेकिन उसे लेकर फैमिली को चिंता भी होती है। हम उसके लिए चिंचित रहते हैं, जब आप लोगों का इलाज कर रहे होते हैं तो कुछ भी हो सकता है। इसलिए हम उससे रोज बात करते हैं। मां और पापा भी उसकी सेहत के बारे में पूछते रहते हैं। हम उससे पूछते रहते हैं कि वो कैसा महसूस कर रही है, उसे कोई लक्षण तो नहीं है। मैं उसे पॉजिटिव तरीके से बात करते हुए उसे मोटिवेट करता हूं, साथ में इम्यून सिस्टम को भी बेहतर रखने के लिए कहता हूं।

पटियाला में ली मेडिकल एजुकेशन
मोना ने पटियाला के मेडिकल कॉलेज से पढ़ाई की है और 90 के दशक में वे अमेरिका शिफ्ट हो गईं। मोना पिछले 20 सालों से वहां पर काम कर रही हैं। जीव ने कहा कि मुझे मोना पर गर्व है। वो कहती है कि ये काम रोजाना मेराथन दौड़ने जैसा ही है। मोना एक वीक में पांच दिन काम करती है और कभी कभी डे-नाइट शिफ्ट भी उसे करनी पड़ती है। ये आसान नहीं होता लेकिन वो फिर भी अपनी जॉब को अच्छे से कर रही है।

फ्रंटलाइन वर्कर की सभी इज्जत करें
जीव ने कहा कि सभी को फ्रंटलाइन वर्कर की इज्जत करनी चाहिए। ये वर्कर हम लोगों के लिए काम कर रहे हैं। में सभी नागरिकाें से अनुरोध करता हूं कि वे उन लोगों की इज्जत करें जो हमारे लिए अपनी जान को जोखिम में डाल रहे हैं। फिर वो चाहे डॉक्टर हो, पुलिस कर्मचारी हो, नर्स हो या फिर वो लोग जो हमारा कूड़ा उठाने आते हैं। हमें उनका आभारी होना चाहिए कि वे इस मुश्किल समय में अपना फर्ज निभा रहे हैं। वे भी अपनी सेहत को बेहतर रखें।

खबरें और भी हैं...