• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Chandigarh Municipal Corporation Results Today, Credibility Of Haryana CM Khattar, Arvind Kejriwal, Union Minister Anurag Thakur Is At Stake

चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव का परिणाम:एक ही रैली से केजरीवाल का दबदबा; CM खट्‌टर और केंद्रीय मंत्री ठाकुर भाजपा को नहीं जिता सके

चंडीगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चंडीगढ़ नगर निगम के वार्ड 19 से जीत के बाद समर्थकों संग जश्न मनाती AAP की नेहा। - Dainik Bhaskar
चंडीगढ़ नगर निगम के वार्ड 19 से जीत के बाद समर्थकों संग जश्न मनाती AAP की नेहा।

चंडीगढ़ नगर निगम के लिए 35 वार्डों के लिए हुए चुनाव आ गया है। जिसमें आम आदमी पार्टी ने बाजी मार ली। आप ने 14 सीटों पर जीत हासिल की है। भाजपा 12 और कांग्रेस 8 पर सिमटकर रह गई। हार-जीत में उम्मीदवारों के साथ राजनीतिक दिग्गजों की साख भी दांव पर लगी थी।

जिसमें चंडीगढ़ के एकमात्र रैली करने वाले दिल्ली के CM और आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल बाजी मार गए। उनकी पार्टी ने पहली बार चुनाव लड़कर इतिहास बना दिया। वहीं, भाजपा के लिए प्रचार करने वाले हरियाणा के CM मनोहर लाल खट्‌टर और केंद्र सरकार में मंत्री अनुराग ठाकुर और मनोज तिवारी कोई करिश्मा नहीं दिखा सके। भाजपा निगम की सत्ता से बाहर हो गई। यहां तक कि भाजपा के मौजूदा मेयर रविकांत शर्मा बुरी तरह से हार गए जबकि सीनियर डिप्टी मेयर हारते-हारते बचे।

यह भी पढें : चंडीगढ़ निगम चुनाव रिजल्ट:5 राज्यों के चुनाव से पहले BJP की चुनौती बढ़ी; पंजाब में AAP के 'मुफ्त मॉडल' को बूस्ट; कांग्रेस के हाथ निराशा

कांग्रेस के हालात सबसे बुरे रहे। कांग्रेस के लिए रणदीप सूरजेवाला, कुमारी शैलजा और कन्हैया कुमार ने प्रचार किया था लेकिन पार्टी बुरी तरह से हार गई। कांग्रेस पिछली बार की 4 सीटों के मुकाबले 8 सीटें जीती लेकिन बहुमत के आंकड़े तक पहुंचना तो दूर, तीसरे नंबर पर रह गई।

चंडीगढ़ में चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे हरियाणा के CM मनोहर लाल खट्‌टर
चंडीगढ़ में चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे हरियाणा के CM मनोहर लाल खट्‌टर

BJP और AAP में ही रहा मुकाबला

केंद्रशासित प्रदेश चंडीगढ़ नगर निगम में 35 वार्डों में पार्षद चुनने के लिए मुख्य मुकाबला आप और भाजपा में ही रहा। जिनके बीच सिर्फ 2 सीटों का अंतर रहा। कांग्रेस पूरी चुनावी जंग में कहीं नजर नहीं आई। चंडीगढ़ में पिछले साल के मुकाबले इस बार 1% अधिक यानी रिकॉर्ड 60.45% मतदान हुआ। इससे साफ है कि इस बार लोग बदलाव के लिए घर से बाहर निकले और पहली बार चुनाव लड़ने वाली आम आदमी पार्टी को चंडीगढ़ निगम का ताज सौंप दिया।

चंडीगढ़ में चुनाव प्रचार करते अरविंद केजरीवाल
चंडीगढ़ में चुनाव प्रचार करते अरविंद केजरीवाल

यह भी पढें : चंडीगढ़ नगर निगम में फंसा पेंच:किसी पार्टी को नहीं मिला बहुमत; AAP ने पहली बार में 14 सीटें जीती, भाजपा सत्ता से बाहर

नगर निगम चंडीगढ़: अब तक कांग्रेस-भाजपा का ही रहा था कब्जा

साल 1996 में हुए नगर निगम चुनाव में भाजपा को 13 कांग्रेस को 1,शिअद को 2 और चंडीगढ़ विकास मंच को तीन सीट मिली थी। साल 2001 में भाजपा को 3, कांग्रेस को 13, शिअद को एक और चंडीगढ़ विकास मंच को तीन सीट मिली। 2006 में भाजपा को 6, कांग्रेस को 13, बसपा को 1, शिअद को 2 और चंडीगढ़ विकास मंच को 4 सीटें मिली थी। साल 2011 में भाजपा को 10, कांग्रेस को 11, शिअद को 2 और बसपा को 2 सीट पर जीत हासिल हुई थी। साल 2016 में भाजपा को 20, कांग्रेस को 4, शिअद को 1 और एक निर्दलीय उम्मीदवार जीता था। यह निर्दलीय उम्मीदवार बाद में BJP में शामिल हो गए थे।

प्रचार के लिए चंडीगढ़ पहुंचे केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर
प्रचार के लिए चंडीगढ़ पहुंचे केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर
खबरें और भी हैं...