पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

काेराेना की फिर दस्तक:चंडीगढ़ का वीकली पाॅजिटिविटी रेट 11.85 फीसदी, नेशनल एवरेज से दोगुना

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हफ्ते के हिसाब से पॉजिटिविटी रेट में देश में दूसरे नंबर पर है चंडीगढ़, 22.75% के साथ महाराष्ट्र पहले नंबर पर, सावधानी न बरती तो और बिगड़ेंगे हालात
  • सुखना लेक पर रविवार को जुटे लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग को पूरी तरह से दरकिनार कर दिया, कई लोगों ने मास्क भी नहीं पहने थे, इस तरह की लापरवाही से ही केस बढ़ रहे हैं

यूटी में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। यही वजह है कि दूसरे हफ्ते लगातार चंडीगढ़ पूरे देश में कोरोना पाॅजिटिविटी रेट में दूसरे नंबर पर है। महाराष्ट्र के बाद सबसे ज्यादा कोरोना पाॅजिटिविटी रेट (हफ्ते के हिसाब से) चंडीगढ़ में है। मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर की तरफ से जारी रिपोर्ट के मुताबिक इस हफ्ते चंडीगढ़ में पाॅजिटिविटी रेट 11.85 फीसदी रहा जो कि नेशनल एवरेज से लगभग दोगुना से ज्यादा है।

नेशनल का वीकली पॉजिटिविटी रेट 5.8 है। चंडीगढ़ से ज्यादा सिर्फ महाराष्ट्र में ही कोविड पाॅजिटिविटी रेट ज्यादा है। यहां पर पॉजिटिविटी रेट 22.78 फीसदी का है। ये इसलिए क्योंकि 15 मार्च के बाद से अभी तक ही करीब 2300 नए मामले कोरोना के चंडीगढ़ में आ चुके हैं। नए मामलों की हर रोज की एवरेज 230-260 की है। मिनिस्ट्री की तरफ से इसको लेकर कहा गया है कि संक्रमण की रोकथाम के लिए कड़े इंतजाम किए जाएं और जहां भी नए मामले सामने आ रहे हैं उन एरिया की पहचान कर माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाने पर ज्यादा ध्यान दिया जाए ताकि कोरोना की चेन को तोड़ा जा सके।

स्पेशल टीम भी करेगी हेल्प
चंडीगढ़ में स्थिति आउट ऑफ कंट्रोल होती जा रही है जिसको संभालने के लिए एक टीम का गठन भी मिनिस्ट्री ने किया है जो कि यहां चंडीगढ़ प्रशासन और हेल्थ डिपार्टमेंट के साथ मिलकर बढ़ते कोरोना की रोकथाम को लेकर मिलकर काम करेंगे। अफेक्टेड एरिया में क्या इंतजाम किए जा सकते हैं और हाॅस्पिटल्स और भीड़ वाली जगहों पर किस तरह से कंटेनमेंट जोन को प्रभावी तरीके से लागू किया जा सके इसको लेकर ये टीम जिसमें मेडिकल एक्सपर्ट भी शामिल हैं, हेल्थ डिपार्टमेंट और प्रशासन के अफसरों के साथ मिलकर काम करेंगे।

ये दिए हैं दिशा निर्देश

  • हर रोज सैंपल टेस्टिंग में आरटीपीसीआर टेस्टिंग को एंटीजन के मुकाबले 70 फीसदी तक बढ़ाया जाए।
  • एनसीडीसी की टीम ने कहा है कि कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग बहुत जरूरी है और 72 घंटे में पॉजिटिव के संपर्क में आने वालों को ट्रेस किया जाए।
  • काॅन्टैक्ट को ट्रेस करके उनकी स्क्रीनिंग या टेस्टिंग के साथ ही आइसोलेशन, कंटेनमेंट जोन का फैसला लिया जाए।
  • जिन भी जगहों में ज्यादा केस आते हैं वहां पर कंटेनमेंट जोन बनाए जाएं।
  • लोगों कोे अवेयर भी किया जाए और वाॅयलेशन करने वालों पर सख्ती भी।
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें