पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

उठेगा पर्दा:कल से खुलेंगे सिनेमा हाॅल, पुरानी फिल्में ही दिखाई जाएंगी, एक सीट छोड़कर बैठना पड़ेगा

चंडीगढ़8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पिकाडली, सेक्टर-34 में सीटों को सैनिटाइज करता कर्मचारी: फोटो: मनोज अपरेजा - Dainik Bhaskar
पिकाडली, सेक्टर-34 में सीटों को सैनिटाइज करता कर्मचारी: फोटो: मनोज अपरेजा
  • 15 अक्टूबर से शुरू होंगे चंडीगढ़ के सिनेमा हॉल, मोहाली
  • जो फिल्में 4 से 5 साल पहले रिलीज हो चुकीं, अभी वे ही दिखाई जाएंगी...

कोरोना के कारण 7 महीने से सिनेमा हॉल बंद हैं। अब केंद्र ने 15 अक्टूबर से सिनेमा हॉल खोलने की मंजूरी दे दी है। सिनेमा हॉल संचालकों को केंद्र की गाइडलाइंस का पालन करना पड़ेगा। इन्हीं के मुताबिक चंडीगढ़ के सिनेमा हॉल में भी तैयारियां शुरू हो गई हैं। पीवीआर में तैयारियां चल रही हैं। उम्मीद है कि जल्द ही मूवीज का शेड्यूल जारी कर दिया जाएगा। लेकिन यह तय है कि अब एक दिन में पहले के बजाय कम शो दिखाए जाएंगे। कितने शो होंगे, इस पर कोई फैसला नहीं हुआ है। पीवीआर के एक अधिकारी ने बताया कि अभी कोई नई फिल्म रिलीज नहीं हुई है। इसलिए पहले रिलीज हो चुकी फिल्मों के शो होंगे। किस्मत, कैरी ऑन जट्‌टा-2, सरदार जी, हाउसफुल-4, मुकलावा, मिशन मंगल, ताना जी और थप्पड़ दिखाई जाएंगी। पूरे दिन में छह शो होंगे। फिल्म देखने के लिए आने वालों को पूरी एहतियात बरतनी होंगी। उचित दूरी बनाकर रखनी होगी। इसके अलावा संचालकों को भी एंट्री पर हर किसी का तापमान चेक करना होगा।

मोहाली में वीआर पंजाब और बेस्टेक मॉल में नहीं दिखाई जाएंगी फिल्में
केंद्र की तरफ से जारी गाइडलाइंस के अनुसार देशभर में मल्टीप्लेक्स तथा सिनेमाघरों को 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत दे दी गई है। लेकिन मोहाली में सिनेमा हॉल अभी नहीं खुल रहे। अक्टूबर महीने के अंत तक या फिर नवंबर के शुरुआती सप्ताह में इन्हें शुरू किया जा सकता है।

मोहाली-खरड़ मार्ग पर वीआर पंजाब मॉल में पीवीआर सिनेमा है। जबकि फेज-11 के बेस्टेक मॉल में सिनेपोलिस की तरफ से मल्टीप्लेक्स चलाया जाता है। ये दोनों 15 अक्टूबर से नहीं खुल रहे। वीआर पंजाब मॉल में मौजूद पीवीआर सिनेमा के प्रवक्ता ने बताया कि मॉल प्रबंधकों के साथ कुछ बात की जा रही है और कुछ विषयों पर उनसे चर्चा हो रही है। फिलहाल मल्टीप्लेक्स को खोला नहीं जा रहा है।

चंडीगढ़ में ये इंतजाम करने होंगे

देश भर में 15 अक्टूबर से सिनेमाघर, मल्टीप्लेक्स खुल रहे हैं। लेकिन पंचकूला में लोगों को थोड़ा इंतजार करना पड़ सकता है। पंचकूला में दाे सिंगल स्क्रीन अाैर एक मल्टीप्लेक्स हैं जबकि पिंजौर में भी अमरावती माॅल में तीन स्क्रीन हैं। पंचकूला के मल्टीप्लेक्स में तीन स्क्रीन में 610 की सिटिंग कैपेसिटी है।

जीरकपुर में भी अभी कोई तैयारी नहीं

जीरकपुर के सिनेमा संचालक असमंजस में हैं। मंगलवार को सभी सिनेमा हॉल बंद पड़े थे। गेट पर सिक्योरिटी स्टाफ के अलावा कोई कर्मचारी मौजूद नहीं था। पारस डाउन टाउन मॉल के बिग सिनेमा के मैनेजर हरजीत सिंह ने कहा कि सिनेमा हॉल को सैनिटाइज तो कर दिया है, लेकिन अभी किसी को अंदर जाने नहीं दे रहे हैं।

रामलीला करने की मिली मंजूरी, 16-17 अक्टूबर सेे कलाकार होंगे मंच पर

कम से कम भीड़ जुटानी होगी, सैनिटाइजर जरूरी कंटेनमेंट जोन में रामलीला का नहीं होगा मंचन

चंडीगढ़ में रामलीला के मंचन को मंजूरी मिल गई है। डीसी मनदीप सिंह बराड़ की तरफ से मंगलवार शाम को इसको लेकर निर्देश जारी कर दिए गए हैं। मंगलवार को जारी निर्देशों में सिर्फ 20 रामलीला कमेटियों को मंजूरी दी गई है। इनके अलावा 15-20 और रामलीला कमेटियों की तरफ से मंजूरी मांगी गई थी, जिसको लेकर बुधवार को निर्देश जारी हो सकते हैं।

बाकी सभी निर्देशों के साथ ही इस बार कोरोना संक्रमण को लेकर भी सभी नियम पूरे करने जरूरी होंगे। मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ की तरफ से जारी दिशा निर्देशों को मानना जरूरी होगा।पहले 15 अक्तूबर से रामलीला का मंचन शुरू करने की तैयारी थी, लेकिन अब मंजूरी देरी से मिलने के चलते 16 या 17 अक्तूबर से मंचन शुरू हो पाएगा।

इसके लिए अभी ग्राउंड परमिशन, फायर डिपार्टमेंट से एनओसी और बाकी पंडाल बनाने से लेकर कलाकारों के लिए जरूरी इंतजाम करने होंगे। वहीं, पहले जहां 10-11 हजार रुपए इलेक्ट्रिसिटी के लिए सिक्योरिटी डिपोजिट प्रत्येक रामलीला कमेटी को देने पड़ते थे वहीं इस बार 36 हजार देने पड़ेंगे।

कमेटियों को ये करना होगा
आगजनी की घटना से बचने के लिए पंडाल में एेसा सामान यूज न हो, जो जल्द आग पकड़ता है।
सैनिटाइजर्स रखने होंगे, कुर्सियों के बीच जगह खुली होनी चाहिए, ताकि लोग थोड़ा दूर-दूर बैठ सकें।
अगर कोई कोरोना वायरस पॉजिटिव होता है तो उस मामले में पूरी एहतियात रखनी जरूरी होगी। अलग से नजदीक के हेल्थ सेंटर में इसको लेकर जानकारी देनी होगी।
कंटेनमेंट जोन में रामलीला के मंचन को मंजूरी नहीं है।
मिनिस्ट्री की तरफ से जारी सभी दिशा निर्देशों का पालन जरूरी होगा
ये कमेटी की जिम्मेदारी रहेगी
अगर इन दिशा निर्देशों का पालन नहीं किया जाता है तो संबंधित रामलीला करवाने वाली कमेटी पर कार्रवाई होगी।

कुछ कमेटियां नहीं कर पाएंगी मंचन...

देरी से रामलीला के मंचन को लेकर मंजूरी मिली। दूसरा कोरोना के चलते सभी दिशा निर्देश मानने जरूरी हैं। अगर नहीं मानते हैं तो कार्रवाई होगी। इसलिए इस बार कुछ कमेटियां रामलीला का मंचन नहीं करेंगी। कलाकारों के लिए तैयारी, ग्राउंड, एनओसी और बाकी काम इतनी जल्दी नहीं होंगे।

खबरें और भी हैं...