पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Congress And BJP Candidates Will File Nomination In The Presence Of Senior Party Leaders For Upcoming Mayor Elections.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मेयर चुनाव-भाजपा में बगावत:BJP पार्षद चंद्रवती शुक्ला ने बागी होकर भरा मेयर पद का नामांकन, तो कांग्रेस मेयर पद के उम्मीदवार बबला बोले-जरूरत पड़ी हट जाऊंगा मैदान से

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वार्ड नंबर 12 की भाजपा पार्षद चंद्रवती शुक्ला ने बागी होकर नामांकन भर दिया है। - Dainik Bhaskar
वार्ड नंबर 12 की भाजपा पार्षद चंद्रवती शुक्ला ने बागी होकर नामांकन भर दिया है।
  • 8 जनवरी को नगर निगम में मेयर, सीनियर व डिप्टी मेयर के लिए चुनाव होना है

नगर निगम चंडीगढ़ में मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर और डिप्टी मेयर पद के लिए 8 जनवरी को चुनाव हो रहे हैं । इसके लिए सोमवार को नामांकन भरे गए लेकिन इस बार फिर से बगावत देखने को मिली। भाजपा से जहां मेयर पद के लिए रविकांत शर्मा, सीनियर मेयर पद के लिए महेशइंद्र सिंह सिद्धू और डिप्टी मेयर के लिए फर्मिला देवी ने नामांकन भरा है। इस मौके पर पार्टी प्रभारी दुष्यंत गौतम भी मौजूद थे।वहीं वार्ड नंबर 12 की भाजपा पार्षद चंद्रवती शुक्ला ने बागी होकर नामांकन भर दिया है। चंद्रवती के पति पप्पु शुक्ला ने इस मौके पर कहा कि भाजपा चंडीगढ़ में हमेशा उत्तराखंड और उत्तरांचल के लोगों को नजरअंदाज किया है। उन्हें क्या दरियां बिछाने के लिए ही रखा है? हर बार उनके साथ ऐसा ही होता है। इसलिए अब वह किसी की नहीं सुनेंगे और हो सकता है कि कांग्रेस भी जॉइन कर लें।

चंद्रवती के नामांकन भरने के दौरान और बाद में भी भाजपा के कई वरिष्ठ नेता उन्हें मनाने की भी कोशिश कर रहे हैं।
चंद्रवती के नामांकन भरने के दौरान और बाद में भी भाजपा के कई वरिष्ठ नेता उन्हें मनाने की भी कोशिश कर रहे हैं।

बता दें कि इससे भाजपा में और बगावत हो गई है। चीफ इंजीनियर के दफ्तर में जब चंद्रवती अपना नामांकन भर रही थीं तो उन्होंने कांग्रेस के दो नेताओं को भी वहां बुला लिया और इस बीच पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच हाथापाई और खींचतान भी हुई। चंद्रवती के नामांकन भरने के दौरान और बाद में भी भाजपा के कई वरिष्ठ नेता उन्हें मनाने की भी कोशिश कर रहे हैं। वहीं कांग्रेस इसका फायदा उठाने के पूरे मूड में है। कांग्रेस से पार्षद व मेयर पद के उम्मीदवार देविंदर सिंह बबला ने कहा है कि मुझे पूर्वांचल के साथियों से प्यार है। भाजपा ने न तो कभी उत्तरांचल और न ही उत्तराखंड को नगर निगम चंडीगढ़ में कोई औहदा दिया है।इनकी खातिर मुझे मैदान से हटना भी पड़े तो मैं कोई झिझक नहीं करूंगा।इसके अलावा SC मोर्चा के प्रदेश महामंत्री और पार्षद भरत कुमार ने भी भाजपा से रिजाइन कर दिया है और कहा है कि पार्टी में मौजूद गद्दार लोगों के साथ वह काम नहीं करना चाहते। क्या वह कांग्रेस को सपोर्ट करेंगे? इसपर भरत ने चुप्पी साधे रखी।

चंद्रवती के पति पप्पु ने जब कहा कि क्या पूर्वांचल और उत्तरांचल के लोग सिर्फ दरियां बिछाने को रखे हैं? तो भाजपा नेता उनका मुंह बंद करने लगे।
चंद्रवती के पति पप्पु ने जब कहा कि क्या पूर्वांचल और उत्तरांचल के लोग सिर्फ दरियां बिछाने को रखे हैं? तो भाजपा नेता उनका मुंह बंद करने लगे।

पहले भी चल रही थी खींचतान

भाजपा में मेयर कैंडिडेट को लेकर पहले खींचतान चल रही थी। इसके लिए सात काउंसलर दावेदारी दिखा रहे थे। 30 दिसंबर को पार्टी प्रभारी दुष्यंत गौतम ने एक-एक करके सभी काउंसलर्स की राय जानी थी। सभी काउंसलर, पार्टी पदाधिकारियों, मंडल और जिला अध्यक्षों से 6-6 काउंसलर के नाम मांगे गए थे। तब प्रदेश अध्यक्ष अरुण सूद का नाम प्रमुखता से आगे बढ़ा था। इनके अलावा आशा जसवाल का नाम भी आगे था। जबकि महेश इंद्र सिंह सिद्धू, रविकांत शर्मा का नाम भी लिया गया था। महेश इंद्र सिंह सिद्धू के नाम की सिफारिश सांसद किरण खेर ने प्रभारी दुष्यंत गौतम को फोन कर की थी।

भाजपा से मेयर पद के लिए रविकांत शर्मा, सीनियर मेयर पद के लिए महेशइंद्र सिंह सिद्धू और डिप्टी मेयर के लिए फर्मिला देवी ने नामांकन भरा है।
भाजपा से मेयर पद के लिए रविकांत शर्मा, सीनियर मेयर पद के लिए महेशइंद्र सिंह सिद्धू और डिप्टी मेयर के लिए फर्मिला देवी ने नामांकन भरा है।

गुटबाजी के कारण पार्टी को पहले भी करना पड़ा हार का सामना

बता दें कि भाजपा में गुटबाज़ी के कारण पार्टी को हार का सामना करना पड़ा है| वर्ष 2017 कि बात करें, जब वित्त एवं अनुबंध समिति के चुनाव में क्रॉस वोटिंग करके हीरा नेगी को हरा दिया गया था। इससे पूर्व 2015 में भी जब हीरा नेगी को महापौर के लिए खड़ा किया गया था उस समय भाजपा चाहती तो हीरा नेगी जीत सकती थी लेकिन पार्टी में गुटबाज़ी के कारण कांग्रेस की पूनम शर्मा बाजी मार गई थी। वर्ष 2019 में जब राजेश कालिया को महापौर का प्रत्याशी घोषित किया गया था तब सतीश कैंथ ने बगावत करते हुए नामांकन दाखिल कर लिया था। इस कारण कांग्रेस प्रत्याशी शीला फूल सिंह को अपना नाम वापिस लेना पड़ गया था। उस समय जमकर क्रॉस वोटिंग हुई थी। कैंथ को 11 और राजेश कालिया को 15 वोट हासिल हो पाए थे। 2018 में देवेश मोदगिल के खिलाफ आशा जैसवाल ने बगावत की थी, अब देखना है 8 जनवरी को भाजपा में गुटबाज़ी के कारण क्रॉस वोटिंग होती है या नहीं, पिछली बार भी महापौर के पद पर 2 क्रॉस वोटिंग होने के समाचार आए थे। इससे पूर्व नगर निगम में मनोनीत पार्षदों की अहमियत होती थी लेकिन जब से हाई कोर्ट ने मनोनीत पार्षदों की वोटिंग का अधिकार छीना है,तब से उनकी अहमियत कम हो गई है।

कांग्रेस की ओर से मेयर पद के लिए देवेंद्र सिंह बबला, सीनियर डिप्टी मेयर पद के लिए रविंदर कौर गुजराल और डिप्टी मेयर पद के लिए सतीश कैंथ नामांकन भरे हैं।
कांग्रेस की ओर से मेयर पद के लिए देवेंद्र सिंह बबला, सीनियर डिप्टी मेयर पद के लिए रविंदर कौर गुजराल और डिप्टी मेयर पद के लिए सतीश कैंथ नामांकन भरे हैं।

कांग्रेस से इन्होंने भरे नामांकन

कांग्रेस की ओर से मेयर पद के लिए देवेंद्र सिंह बबला, सीनियर डिप्टी मेयर पद के लिए रविंदर कौर गुजराल और डिप्टी मेयर पद के लिए सतीश कैंथ नामांकन भरे हैं। इस मौके पर चंडीगढ़ कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा और पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेता भी मौजूद रहेंगे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपकी सकारात्मक और संतुलित सोच द्वारा कुछ समय से चल रही परेशानियों का हल निकलेगा। आप एक नई ऊर्जा के साथ अपने कार्यों के प्रति ध्यान केंद्रित कर पाएंगे। अगर किसी कोर्ट केस संबंधी कार्यवाही चल र...

और पढ़ें