कांग्रेस का डिजिटल मेंबरशिप अभियान:हरियाणा में 31 मार्च 2022 तक चलेगा; 31 जनवरी तक भेजने होंगे चीफ इनरोलर के नाम; पहले कागज आधारित थी

चंडीगढ़5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा। - Dainik Bhaskar
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा।

हरियाणा में कांग्रेस ने 31 मार्च 2022 तक डिजिटल सदस्यता अभियान चलाने का फैसला लिया है। पार्टी ऐप पर सदस्यता अभियान चलाएगी। हालांकि एक नंवबर से सदस्यता अभियान शुरू किया हुआ था। परंतु अब कांग्रेस कोरोना के चलते कागज आधारित सदस्तया अभियान की बजाए डिजिटल सदस्यता अभियान शुरू किया है। पहले पदाधिकारी सदस्यता अभियान के दौरान पर्ची काटकर, बुक और पैसे पार्टी को सौंप देते थे, परंतु अब पदाधिकारी को ही नए सदस्य का रिकॉर्ड ऐप पर अपलोड करना होगा।

पार्टी ने हर ब्लॉक के मुख्य नामांकनकर्ता का नाम 31 जनवरी तक भेजने के आदेश जारी किए हैं। नियुक्त किए गए नामांकनकर्ता को पीसीसी अध्यक्ष से एसएमएस के माध्यम से नियुक्ति सूचना प्राप्त होगी। वे एसएमएस से दिए गए लिंक पर ऐप डाउनलोड करेंगे और फिर नए सदस्यों के नाम अपलोड करेंगे। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा ने इस संबंध में पत्र जारी कर दिया है।

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष ने सभी विधायकों, पार्टी पदाधिकारियों को पत्र जारी करते हुए कहा कि कागज आधारित सदस्यता अभियान की तुलना में डिजिटल सदस्यता का उचित उपयोग किया जाए। राज्य में प्रत्येक बूथ पर नामांकनकर्ता को तैनात करने का निर्णय लिया गया है। प्रत्येक बूथ पर एक महिला और एक पुरुष नामांकनकर्ता को तैनात किया जाएगा। बूथों में डिजिटल सदस्यता लेने के लिए पहले नामांकनकर्ता को ऐप का उपयोग करने के तौर तरीकों के बारे में पूरी तरह से प्रशिक्षित किया जाएगा।

प्रत्येक ब्लॉक पर 3 से 4 नामांकनकर्ता

प्रत्येक ब्लॉक पर नामांकन कर्ता तैनात किए जाएंगे। इसके लिए मुख्य नामांकन कर्ता के नाम 31 जनवरी तक पीसीसी कार्यालय में ईमेल पर भेजने होंगे। एक नामांकन कर्ता 100 लोगों को सदस्यता दिलाएगा। प्रत्येक बूथ पर एक महिला व एक पुरुष नामांकन कर्ता के नाम व फोन नंबर 7 फरवरी तक कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष को भेजे जाएंगे। नए सदस्य ये 5 रुपए सदस्यता शुल्क लिया जाएगा। इसका भुगतान चेक से भी किया जा सकता है, जो हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के नाम किया जाएगा। पार्टी ने नामांकन कर्ता को पहले सदस्यता शुल्क जमा करवाने के लिए भी कहा है, ताकि कमेटी को हिसाब रखने में परेशानी नहीं आएगी।

पहले यह थी प्रकिया

पार्टी द्वारा पहले एक 25 पेज की सदस्यता अभियान की एक कॉपी दी जाती थी। 125 रुपए कॉपी के जमा होते हैं। 200 रुपए और अतिरिक्त खर्च आता था। सवा 300 रुपए की कॉपी पड़ती थी। पदाधिकारी पार्टी को कॉपी जमा करवाते थे, तब पार्टी सदस्यता ऑनलाइन करती थी। अब नामांकन कर्ता को खुद ही डाटा फीड करना होगा।

खबरें और भी हैं...