• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Congress's Tension Increased By Hindu Vote Bank, Congress Will Play Bets On Sunil Jakhar; Preparing To Give A Big Role, Will Be With Sidhu And Channi

हिंदू वोट बैंक ने बढ़ाई कांग्रेस की टेंशन:सुनील जाखड़ पर दांव खेलेगी कांग्रेस; बड़ी जिम्मेदारी देने की तैयारी, सिद्धू-चन्नी के साथ रहेंगे आगे

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब में हिंदू वोट बैंक ने कांग्रेस की टेंशन बढ़ा दी है। इसकी बड़ी वजह मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी और संगठन प्रधान नवजोत सिद्धू के पद पर सिख चेहरों का होना है। पंजाब कांग्रेस में सरकार से संगठन तक कोई मुख्य हिंदू नेता नजर नहीं आ रहा। खासकर, आप संयोजक अरविंद केजरीवाल के पंजाब मिशन के बाद कांग्रेस की चिंता ज्यादा बढ़ी हुई है।

इसे देखते हुए अब कांग्रेस पंजाब के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़ पर दांव खेलेगी। उन्हें चुनाव से पहले बड़ी जिम्मेदारी दी जाएगी। खास बात यह है कि कांग्रेस अभी CM का चेहरा अनाउंस नहीं करेगी। सिद्धू और चन्नी के साथ जाखड़ को भी आगे करके चुनाव लड़ा जाएगा।

पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़।
पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़।

हिंदुओं को तरजीह देना मजबूरी
पंजाब में हिंदुओं को तरजीह देना जातीय वोट बैंक की मजबूरी है। पंजाब में 38.49% हिंदू वोट बैंक है। अनुसूचित जाति का करीब 32% वोट बैंक कांग्रेस ने सीएम बनाकर साधने की कोशिश की है। 19% जट्‌ट सिख वोट बैंक के लिए सिद्धू चेहरा है। उसके बाद हिंदू वोट बैंक एक बड़ी चिंता है, जिस पर अकाली दल दांव खेल रहा है। भाजपा इसी वोट बैंक के सहारे चुनाव में होगी और कैप्टन अमरिंदर सिंह का भी इसमें अच्छा आधार है।

नाराज चल रहे जाखड़
सुनील जाखड़ अभी संगठन से नाराज चल रहे हैं। उन्हें बिना किसी विवाद के हटाकर सिद्धू को प्रधान बना दिया गया। इसके बाद कांग्रेस हाईकमान उन्हें पंजाब का पहला हिंदू CM बनाना चाहता था। लेकिन तब सिख स्टेट में सिख CM की बात कहकर उनका पत्ता काट दिया गया। जिसके बाद से वह इशारों में पंजाब कांग्रेस को टारगेट करते आ रहे हैं। उन्होंने सीएम बदलने के बाद से खुद को कांग्रेस की सक्रिय राजनीति से भी दूर कर रखा है।

लगातार विवाद के बाद अब सीएम चन्नी और सिद्धू साथ नजर आ रहे हैं।
लगातार विवाद के बाद अब सीएम चन्नी और सिद्धू साथ नजर आ रहे हैं।

दिल्ली में हुए मंथन के बाद निकला फॉर्मूला
दो दिन पहले सीएम चरणजीत चन्नी और नवजोत सिद्धू दिल्ली गए थे। वहां प्रियंका गांधी के साथ उनकी मीटिंग हुई। जिसमें पंजाब कांग्रेस इंचार्ज हरीश चौधरी भी थे। वहां हिंदू वोट बैंक को लेकर चर्चा हुई। सूत्रों की मानें तो अनुसूचित जाति वोट बैंक के लिए सीएम चरणजीत चन्नी और सिख वोट बैंक के लिए सिद्धू का चेहरा है, लेकिन हिंदुओं के लिए कोई बड़ा चेहरा कांग्रेस में नहीं है।

हरीश चौधरी ने खुद शहरी क्षेत्रों में जाकर इसकी भरपाई करने की कोशिश की, लेकिन उन्हें संदेश मिला कि पंजाब में बाहरी व्यक्ति को इतनी जल्दी स्वीकार नहीं किया जाता, जिसके बाद जाखड़ को मनाकर बड़ा रोल दिया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...