7 साल पुराने केस पर सुनवाई:4 हजार रुपए रिश्वत लेते पकड़ा काॅन्स्टेबल अब दोषी करार, सजा पर फैसला 1 को

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

4 हजार रिश्वत लेते पकड़े गए काॅन्स्टेबल बलराज को 1 अक्टूबर को सीबीआई कोर्ट सजा सुनाएगी। मंगलवार को कोर्ट ने बलराज को दोषी करार दे दिया। बलराज की जिला अदालत में बतौर नायब कोर्ट ड्यूटी होती थी। 7 साल पहले उसे सीबीआई ने कोर्ट रूम के बाहर से गिरफ्तार किया था। सीबीआई के सीनियर पब्लिक प्रॉसिक्यूटर पीके डोगरा ने कोर्ट में बहस के दौरान कहा कि दोषी बलराज ने एक आरोपी को जमानत दिलाने के नाम पर पैसे मांगे थे।

धनास की मिल्क काॅलोनी निवासी रोमी की शिकायत पर सीबीआई ने बलराज को पकड़ने के लिए ट्रैप लगाया था। आरोप के मुताबिक रोमी पर मारपीट को केस चल रहा था। लेकिन एक तारीख पर वह कोर्ट में पेश नहीं हुआ और उसके खिलाफ कोर्ट ने नॉन-बेलेबल वारंट जारी कर दिए थे। रोमी ने जमानत के लिए बलराज से संपर्क किया।

जमानत करवाने के नाम पर मांगे थे 5 हजार
बलराज ने जमानत दिलाने के नाम पर 5 हजार रुपए मांगे। सौदा 4 हजार रुपए में तय हुआ। रोमी ने इस बारे में सीबीआई को शिकायत दे दी। इसके बाद सीबीआई ने बलराज को पकड़ने के लिए ट्रैप लगाया। जैसे ही बलराज ने कोर्ट रूम के बाहर पैसे लिए, सीबीआई ने उसे पकड़ लिया।

खबरें और भी हैं...