• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Corona Omicron In Punjab India, Massive Covid Surge And Deaths In Punjab Ahead Of 2022 Assembly Election Rally

पंजाब में रैलियों-रोड शो पर 22 तक रोक:राजनीतिक पार्टियों को 300 लोगों की इंडोर मीटिंग की छूट; कोरोना नियमों का पालन अनिवार्य

चंडीगढ़7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चुनाव आयोग ने पंजाब में चुनावी रैलियों और रोड शो पर 22 जनवरी तक रोक लगा दी है। इनमें पैदल, साइकिल और बाइक यात्रा भी शामिल हैं। राजनीतिक दलों को छूट दी गई है कि वह इनडोर में 300 लोगों की मीटिंग कर सकते हैं। हालांकि यह गिनती हॉल की क्षमता के 50% से ज्यादा नहीं हो सकती।

चुनाव आयोग ने पार्टियों को आदेश दिया है कि वे कोरोना गाइडलाइन्स का पालन करें। आयोग ने राज्य और जिला प्रशासन को निर्देश दिया है कि वे इस बात का ध्यान रखें कि सभी नियमों और आदेशों का पालन हो रहा है।

पंजाब में चुनाव की घोषणा के बाद कोरोना ब्लास्ट

पंजाब में चुनाव की घोषणा के बाद कोरोना ब्लास्ट हो हो चुका है। 8 जनवरी को चुनाव की घोषणा के बाद एक हफ्ते यानी 7 दिन में राज्य में कोरोना के 32 हजार 200 केस मिले। 66 कोरोना मरीजों ने दम तोड़़ दिया। एक्टिव केस 22 हजार बढ़ गए। पंजाब में 21 जनवरी से नामांकन शुरू होना है। 14 फरवरी को वोटिंग होनी हैं।

घोषणा हुई तो 3600 केस थे, बढ़कर 7600 हुए

चुनाव आयोग ने 8 जनवरी को पंजाब चुनाव की घोषणा की थी। उस दिन पंजाब में कोरोना के 3,643 केस मिले थे और 2 लोगों ने दम तोड़ दिया था। 14 जनवरी को पंजाब में 7,642 पॉजिटिव केस मिले, 21 लोगों ने दम तोड़ दिया। यह हालात देख स्पष्ट है कि अगर चुनाव आयोग 8 जनवरी तक के हालात को खतरनाक मान रहा था तो अब तो पंजाब के हालात बहुत बदतर हो चुके हैं।

पटियाला चौथे नंबर पर, मोहाली के बाद जालंधर-लुधियाना में कोरोना बेकाबू

पंजाब में कोरोना का खतरा किस कदर बढ़ चुका है, इसका अंदाजा हर रोज जिलों में मरीजों की तेजी से बढ़ती संख्या से लगा सकते हैं। पंजाब में अभी तक पटियाला सबसे आगे था, लेकिन 634 केस मिलने के बावजूद यह जिला चौथे नंबर पर है। अब पहले नंबर पर 1808 केस के साथ लुधियाना आ चुका है। यहां पॉजिटिविटी रेट भी 43.17% रहा। दूसरे नंबर पर 1,215 केस के साथ मोहाली और तीसरे पर 695 केस के साथ जालंधर हैं।

हालात नहीं संभाल पा रहे अफसर; मौतें और गंभीर मरीजों की गिनती में तेजी

पंजाब में कोरोना के लिहाज से सरकार की तैयारियों की धज्जियां उड़कर रह गई हैं। शुक्रवार को 24 घंटे में 21 मरीजों की मौत हो गई। सबसे ज्यादा 7 मरीजों की मौत लुधियाना में हुई। इसके अलावा जालंधर में 4, होशियारपुर और पटियाला में 2-2 और अमृतसर, बरनाला, गुरदासपुर, मोगा, संगरूर और तरनतारन में एक-एक मरीज ने दम तोड़ दिया। सबसे खतरनाक बात यह है कि पंजाब में 637 मरीज लाइफ सेविंग सपोर्ट पर पहुंच चुके हैं। इनमें 485 ऑक्सीजन, 122 ICU और 30 वेंटिलेटर पर हैं।

पंजाब में 14 जनवरी को कोरोना के कहर की जिलावार स्थिति...

खबरें और भी हैं...