पंजाब में कोविड ने पकड़ी रफ्तार:6 दिन में 36 एक्टिव मरीज; राज्य में ओमिक्रॉन वैरिएंट का केस नहीं; चुनावी रैलियों से खतरा बढ़ा

चंडीगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब में कोविड-19 ने रफ्तार पकड़नी शुरू कर दी है। पिछले 6 दिन में पंजाब में कोरोना के 36 एक्टिव केस हो गए। 30 नवंबर को केस 325 थे, जो 5 दिसंबर को बढ़कर 361 हो गए। हालांकि राहत की बात यह है कि अभी तक पंजाब में कोविड के ओमिक्रॉन वैरिएंट का कोई केस नहीं मिला है।

लेकिन पंजाब में हो रही ताबड़तोड़ चुनावी रैलियों में जुट रही भीड़ से ओमिक्रॉन का खतरा जरूर बना हुआ है। कोरोना की तीसरी लहर के खतरे के बीच राज्य में 3 महीने बाद विधानसभा चुनाव होने हैं। पंजाब ने अभी बॉर्डर पर भी कोई सख्ती नहीं की है, जिससे लोग बेरोकटोक आ-जा रहे हैं।

ऐसे बढ़ी मरीजों की गिनती
पंजाब में 30 नवंबर को कोरोना के 325 एक्टिव केस थे, जो एक दिसंबर को 331, 2 दिसंबर को 344, 3 दिसंबर को 359 हो गए। हालांकि 4 दिसंबर को आंकड़ों में थोड़ी कमी आई और एक्टिव केस 347 रह गए। लेकिन 5 दिसंबर को केस फिर बढ़कर 361 हो गए।

अभी भी 40 हजार टेस्ट नहीं
पंजाब में सेहत मंत्रालय देख रहे डिप्टी CM ओपी सोनी ने रोजाना 40 हजार कोरोना टेस्ट करने को कहा था। इस आदेश को करीब एक हफ्ता बीत चुका है। लेकिन कोविड के टेस्ट 17 हजार से बढ़कर 30 हजार तक ही पहुंच सके हैं। पिछले 3 दिनों से 30 हजार से ज्यादा कोविड टेस्ट किए गए हैं।

16 हजार से ज्यादा गंवा चुके जान
पंजाब में कोविड महामारी के आंकड़े देखें तो अब तक 6 लाख 3 हजार 488 पॉजिटिव मरीज रहे। इनमें से 16 हजार 608 लोग जान गंवा चुके हैं। वहीं 5 लाख 86 हजार 519 मरीज ठीक हो चुके हैं। इस वक्त 49 मरीज लाइफ सेविंग सपोर्ट पर हैं। 38 मरीज ऑक्सीजन पर और 13 ICU में हैं।

तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयार सरकार
डिप्टी CM ओपी सोनी ने कहा है कि राज्य में अभी तक ओमिक्रॉन वैरिएंट का कोई केस नहीं मिला है। सरकार ने कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए पुख्ता बंदोबस्त किए हुए हैं। सेहत विभाग की टीमें सभी एयरपोर्ट पर यात्रियों की टेस्टिंग कर रही हैं।

खबरें और भी हैं...