• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Country's Great Athlete Man Kaur Passed Away At The Age Of 105, The Last Rites Are Being Performed At Chandigarh Sector 25 Crematorium Today.

पंचतत्व में विलीन हुईं 105 वर्षीय एथलीट मान कौर:दुनिया की सबसे बुजुर्ग एथलीट का चंडीगढ़ के सेक्टर-25 में संस्कार, अंतिम विदाई देने पंजाब का न कोई मंत्री आया और न प्रशासन का कोई अधिकारी

चंडीगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
महान एथलीट मान कौर को अंतिम विदाई देते उनके परिजन। - Dainik Bhaskar
महान एथलीट मान कौर को अंतिम विदाई देते उनके परिजन।

दुनियाभर में देश का नाम रोशन करने वाली 105 साल की इंटरनेशनल मास्टर एथलीट मान कौर रविवार को पंचतत्व में विलीन हो गईं। चंडीगढ़ में सेक्टर 25 स्थित शमशान घाट में उनका अंतिम संस्कार इलेक्ट्रिक मशीन के जरिये किया गया। इस दौरान शहर के कई जाने-माने लोग मौजूद थे मगर मान कौर को अपने अंतिम क्षणों में पंजाब सरकार या चंडीगढ़ प्रशासन से सम्मान नहीं मिला। मान कौर को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई तक नहीं दी गई।

उनके अंतिम संस्कार में न तो पंजाब सरकार का कोई मंत्री पहुंचा और न ही चंडीगढ़ से कोई बड़ा प्रशासनिक अधिकारी। अंतिम संस्कार में शिरोमणि अकाली दल के वरिष्ठ नेता दलजीत सिंह चीमा जरूर पहुंचे थे।

मान कौर ने शनिवार को 105 साल की उम्र में आखिरी सांस ली। मान कौर भारत की सबसे बुजुर्ग एथलीट और मिरेकल ऑफ चंडीगढ़ के नाम से मशहूर थीं। वे गॉल ब्लैडर कैंसर से पीड़ित थी। 8 जुलाई से उनका इलाज डेराबस्सी के शुद्धि पंचकर्मा अस्पताल में चल रहा था। वे ठीक हो गई थीं और अब फ्रूट डाइट लेने लगी थीं मगर शनिवार को अचानक उनकी तबीयत बिगड़ी और दोपहर करीब 1 बजे उनका देहांत हो गया।

अंतिम सांस लेने से पहले मान कौर का आखिरी फोटो।
अंतिम सांस लेने से पहले मान कौर का आखिरी फोटो।

मान कौर का जन्म पटियाला में 1 मार्च 1916 में हुआ था। उन्होंने 93 साल की उम्र में अपने बेटे गुरदेव सिंह के कहने पर दौड़ना शुरू किया था। उन्होंने स्पेन, न्यूजीलैंड, ऑकलैंड, कनाडा, अमेरिका सहित कई देशों में अपने उम्र के कई इवेंट जीतकर गोल्ड मेडल जीते। 2011 में ही मान कौर को एथलीट ऑफ द ईयर चुना गया। उन्हाेंने कुल 35 राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय मेडल जीते।

ट्रैक पर रनिंग करती हुई एथलीट मान कौर।
ट्रैक पर रनिंग करती हुई एथलीट मान कौर।

उन्होंने 93 साल की उम्र में दाैड़ना शुरू किया था। अपने बड़े बेटे गुरदेव काे पटियाला में दाैड़ते हुए देख उन्हें यह शाैक जागा। फिर चंडीगढ़ मास्टर्स एथलेटिक्स मीट में उन्हाेंने 2010 में पहला मेडल जीता। न्यूजीलैंड के वर्ल्ड मास्टर्स गेम्स में 100 मीटर दाैड़ जीतने के बाद उनकी पहचान बनी। पाेलैंड में विश्व मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप में उन्हाेंने स्वर्ण पदक जीता।

मान ने 95 साल और 100 साल की उम्र वर्ग में 100 मीटर और 200 मीटर दौड़, जैवलिन थ्रो और शॉटपुट में विश्व रिकॉर्ड बनाया। मान कौर ने 2017 वर्ल्ड मास्टर गेम्स में देश के लिए 4 गोल्ड मेडल जीते थे। 2018 स्पेन वर्ल्ड मास्टर गेम्स में उन्होंने दो गोल्ड मेडल जीते थे।100 और 200 मीटर में दो गोल्ड जीतकर उन्होंने रिकॉर्ड बुक में पहली बार इंडिया का नाम दर्ज कराया था।

खबरें और भी हैं...