पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एनओसी नहीं दी:कोर्ट ने जुर्माने के तौर पर 1 लाख रुपए कोरोना मरीजों के लिए दान करने का कहा

चंडीगढ़10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एलएंडटी कंपनी के खिलाफ स्टेट कंज्यूमर कमीशन ने सुनाया फैसला

एक कस्टमर को लोन पूरा न होने पर एनओसी न देना एलएंडटी कंपनी को महंगा पड़ा है। कंपनी को अब एनओसी तो देनी पड़ेगी ही, साथ ही 50 हजार रुपए हर्जाना भी भरना होगा। वहीं, एक लाख रुपए कोरोना मरीजों के इलाज के लिए पीजीआई के पुअर पेशेंट फंड में दान करने होंगे। स्टेट कंज्यूमर कमीशन ने सेक्टर-15 के मनीष सहगल की अपील पर एलएंडटी फाइनेंस लिमिटेड के खिलाफ ये फैसला सुनाया है।

दो साल पहले डिस्ट्रिक्ट कंज्यूमर कमीशन ने उनकी शिकायत को खारिज कर दिया था। इस फैसले के खिलाफ उन्होंने स्टेट कमीशन में अपील फाइल की थी और इस बार फैसला उनका हक में हुआ। मनीष ने शिकायत में बताया कि 2012 में उन्होंने एक व्हीकल खरीदने के लिए 2 लाख 70 हजार रुपए का लोन लिया था। ये लोन पांच साल के लिए था और उन्हें हर महीने 6300 रुपए की किस्त देनी थी।

मनीष ने कहा कि उन्होंने पूरी किस्तें टाइम पर अदा कर दी थी। लेकिन जब लोन पूरा हुआ तो उन्होंने कंपनी से एनओसी मांगी तो पता चला कि उनका अभी भी 15 हजार रुपए बकाया था। हालांकि वे एक या दो किस्तें नहीं दे सके थे तो उन्होंने उनका भुगतान चेक के लिए जरिए कर दिया था। लेकिन फिर भी कंपनी ने उन्हें एनओसी नहीं दी और उनका नाम सिबिल के डिफॉल्टर्स की लिस्ट में डाल दिया।

खबरें और भी हैं...