राहत:पासपोर्ट बनाने के लिए डिजिलॉकर में मौजूद दस्तावेज होंगे मंजूर, ओरिजनल की जरूरत नहीं

चंडीगढ़8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पासपोर्ट - Dainik Bhaskar
पासपोर्ट

विदेश मंत्रालय ने पासपोर्ट जारी कराने की प्रक्रिया में बदलाव किए हैं, जिससे आवेदकों की परेशानी कम होगी। अब पासपोर्ट आवेदन जमा करवाने वाले आवेदकों के उन दस्तावेजों को भी स्वीकार किया जाएगा, जो डिजिलॉकर में मौजूद हैं। विदेश मंत्रालय ने हाल ही में इस संबंध में आदेश जारी किए हैं और सभी पासपोर्ट सेवा केंद्र में मौजूद अधिकारियों को इस बात की जानकारी भी दे दी गई है।

चंडीगढ़ के रीजनल पासपोर्ट अधिकारी शिवास कविराज ने बताया कि इससे पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ के हजारों आवेदकों को फायदा होगा। डिजिलॉकर में डॉक्यूमेंट अपलोड होने के बाद ओरिजनल डॉक्यूमेंट अपने साथ रखने की जरूरत नहीं है।

शिवास कविराज ने बताया कि पासपोर्ट आवेदक के डिजिलॉकर में माैजूद मैट्रिक सर्टिफिकेट, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर कार्ड एवं ई-आधार कार्ड को स्वीकार किया जाएगा। इसी आधार पर ही पासपोर्ट आवेदन जमा हो जाएगा।

फर्जी दस्तावेज लगाने वालों पर लगेगी रोक...
विदेश मंत्रालय की ओर बताया गया है कि इस प्रक्रिया से विभाग के अधिकारियों को दस्तावेज वेरिफिकेशन करने में सुविधा होगी। जो लोग फर्जी डॉक्यूमेंट्स लगाते थे, वे पकड़े जा सकेंगे। फर्जी डॉक्यूमेंट जमा करवाकर पासपोर्ट जारी नहीं करवा सकेंगे।

एप में हो जाएंगे सेव...

डिजिलॉकर एक एप है, जिसे मोबाइल में डाउनलोड कर सकते हैं। इसमें अपने मैट्रिक सर्टिफिकेट, पैन कार्ड, आधार कार्ड, वोटर कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस का नंबर डालना पड़ेगा। यह एप दस्तावेजों की जांच कर लेगा। इसके बाद दस्तावेज एप में सेव हो जाएंगे।

खबरें और भी हैं...