पंजाब CM चन्नी के रिश्तेदार के घर रेड:अवैध रेत खनन में चुनाव से पहले ED की बड़ी कार्रवाई

चंडीगढ़4 महीने पहले

चुनाव से कुछ दिन पहले अवैध रेत खनन के मामले में पंजाब में एनफोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ED) की टीम ने बड़ी रेड की है। पंजाब में मोहाली और लुधियाना में जांच चल रही है। वहीं हरियाणा के पंचकूला में रेड हुई है। मोहाली में CM चरणजीत चन्नी के करीबी रिश्तेदार के यहां रेड हुई है। जिसे ही पंजाब में अवैध रेत खनन का सरगना बताया जा रहा है।

CM चरणजीत चन्नी
CM चरणजीत चन्नी

पंजाब पुलिस ने दर्ज किया था केस, ED ने टेकओवर किया

पंजाब पुलिस ने 2018 में अवैध रेत खनन को लेकर केस दर्ज किया था। जिसमें बाकी धाराओं के साथ 420 भी लगी थी। उसी के आधार पर इस केस को ED ने टेकओवर कर लिया। शुरूआत में इसमें कुदरतजीत नाम के आरोपी का नाम सामने आया था। उससे पूछताछ हुई तो पता चला कि इसके मुख्य सूत्रधार भूपिंदर हनी हैं। इसके बाद ED भूपिंदर हनी तक पहुंची। जो मोहाली के सेक्टर 70 के होमलैंड सोसाइटी में रहते हैं। यह भूपिंदर हनी ही पंजाब के मौजूदा सीएम चरणजीत चन्नी का करीबी रिश्तेदार हैं। उन्हें सीएम चन्नी की साली का बेटा बताया जा रहा हैै।

क्या सीएम चन्नी के प्रभाव का इस्तेमाल किया?

ED इस बात की जांच कर रही है कि भूपिंदर हनी के अवैध रेत माइनिंग में क्या सीएम चन्नी के प्रभाव का इस्तेमाल किया गया। क्या सीएम चन्नी के नाम का इस्तेमाल कर अवैध रेत खनन का काम किया गया। इस मामले में अवैध रेत खनन के जरिए करोड़ों की कमाई का शक है।

आप नेता राघव चड्‌ढा ने कहा था कि सीएम के विस क्षेत्र में अवैध खनन हो रही है
आप नेता राघव चड्‌ढा ने कहा था कि सीएम के विस क्षेत्र में अवैध खनन हो रही है

पहले भी उठ चुका मामला

सीएम चरणजीत चन्नी को लेकर रेत खनन का मामला पहले भी उठ चुका है। पूर्व विधायक सुखपाल सिंह खैहरा ने यह मामला उठाया था। उस वक्त चरणजीत चन्नी पंजाब की CM कैप्टन अमरिंदर सिंह की अगुवाई वाली सरकार में टेक्निकल एजुकेशन मंत्री थे। हालांकि चन्नी ने उस वक्त ही इन आरोपों को झूठा करार दिया था। चन्नी ने गुरुद्वारा साहिब जाकर कसम खाने तक की बात कह दी थी।

आम आदमी पार्टी ने भी लगाए थे आरोप

इससे पहले आम आदमी पार्टी ने भी सीएम चन्नी के विधानसभा क्षेत्र चमकौर साहिब में अवैध रेत खनन के आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था कि सीएम की जानकारी में ही गांव जिंदापुर में अवैध रेत खनन हो रहा है। जब फारेस्ट अफसर ने इसका विरोध किया तो उसकी ट्रांसफर करवा दी गई। हालांकि सीएम चन्नी ने इन आरोपों को गलत करार दे दिया था।