वोकेशनल टीचर्स का धरना खत्म::मांगों पर बनी सहमति ;टीचर्स का वेतन अब होगा 30500 रुपये मासिक, पांच प्रतिशत वाषिक इंक्रीमेंट भी

चंडीगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुंडन करवाने के लिए धरने पर बैठी महिला टीचर। - Dainik Bhaskar
मुंडन करवाने के लिए धरने पर बैठी महिला टीचर।

वोकेशनल टीचर्स अपनी मांगों को लेकर बुधवार को सीएम मनोहर लाल से मुलाकात के बाद मांगे मानने पर खत्म हो गया। जिसके तहत मासिक मानदेय 23241 से बढ़ाकर 30500 मासिक कर दिया गया। इसके अतिरिक्त वोकेशनल टीचर्स को पांच प्रतिशत वार्षिक इंक्रीमेंट भी दिया जाएगा। इन मांगों पर सहमति के बाद टीचर्स ने अपना धरना खत्म कर दिया। इससे पहले सुबह वोकेशनल टीचर्स ने हाउसिंग बोर्ड चौक पर धरना दिया। उनके धरने पर चरखी दादरी के निर्दलीय विधायक सोमबीर सांगवान भी पहुंचे। उन्होंने उनके धरने को समर्थन दिया। विधायक सोमबीर ने कहा कि वे इस मामले को लेकर सीएम से बात करेंगे और उनके हक के लिए लड़ाई लड़ेंगे। वहीं शाम को शिक्षा मंत्री और टीचर्स के बीच बातचीत को लेकर मीटिंग रखी गई। इससे पहले मंगलवार शाम 7 बजे तक वे हाउसिंग बोर्ड चौक पर बैठे रहे। परंतु विभाग के प्रोजेक्ट को- ऑर्डिनेटर रजनीश शर्मा ने बताया कि सदन खत्म होने के बाद बुधवार 3 बजे शिक्षा मंत्री कंवरपाल से उनकी मुलाकात करवा दी जाएगी और उनके एक समान वेतन की मांग को मान लिया जाएगा। इसकी घोषणा की जाएगी। इसके बाद वोकेशनल टीचर्स वापस सेक्टर 5 धरना स्थल पर आ गए। इससे पहले सुबह धरने पर महिला शिक्षकों ने फैसला किया कि वे सिर मुंडवाएंगी।

महिलाएं टीचरों ने अपनी सूची वोकेशनल टीचर्स एसोसिएशन के राज्य प्रधान अनूप काे सौंप दी है। सूची में करीब 110 महिलाओं के नाम हैं। दूसरी और वोकेशनल टीचर्स को कांग्रेस का समर्थन मिल गया है। उनके धरने पर मंगलवार को कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा व पूर्व डिप्टी सीएम चंद्रमोहन बिश्नोई भी पहुंचे। उन्होंने अपना समर्थन धरने को दिया। राज्य प्रधान अनूप ढिल्लो ने कहा कि तीन बजे तक शिक्षा मंत्री मांगों को लागू करने की घोषणा कर देंगे तो ठीक हैं, अन्यथा महिला टीचर विधानसभा गेट के सामने मुंडन करवाने के लिए तैयार हैं।

सोमवार और मंगलवार को नहीं कर पाए थे घेराव

वोकेशनल टीचर्स सोमवार को हरियाणा विधानसभा का घेराव करने जा रहे थे। धरना स्थल पर महिलाएं अपने बच्चों के साथ पहुंची थीं। तब घेराव की सूचना पर सरकार ने बातचीत का न्योता दिया। शाम 5 बजे तक शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ बातचीत चली।

इसके बाद शिक्षा निदेशक ने आश्वासन दिया कि मंगलवार को सदन की कार्यवाही खत्म होने के बाद उन्हें सीएम से मिलवा दिया जाएगा। ऐसे में सोमवार को वार्ता बेनतीजा रही। इसके बाद मंगलवार को महिला टीचरों ने मुंडन करवाने का फैसला लिया।

वोकेशनल टीचर्स एसोसिएशन के राज्य प्रधान अनूप ढिल्लों ने बताया कि अन्याय के विरुद्ध न्याय की लड़ाई है, सरकार की दोहरी नीतियों के खिलाफ लड़ाई है। वोकेशनल टीचर्स पिछले 59 दिन से कड़ाके की सर्दी में पंचकूला सेक्टर-5 में टैंट में रात बिताने के लिए मजबूर हैं।

ये हैं मांगें

समान काम समान वेतन लागू किया जाए, शिक्षा विभाग में शामिल करना, सर्विस रूल लागू किए जाए।