पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Even After Registration, The Vaccine Is Not Available; If There Is No Stock, Then The System; Elderly People Are Getting Worried At Vaccination Centers

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ट्राईसिटी में ये कैसी तैयारी:रजिस्ट्रेशन के बाद भी नहीं लग रहा टीका, कहीं स्टॉक नहीं तो कहीं सिस्टम; वैक्सीनेशन सेंटर्स पर बुजुर्ग हो रहे हैं परेशान

चंडीगढ़14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सेक्टर-38 की डिस्पेंसरी में ही उचित दूरी की पालना नहीं होती। - Dainik Bhaskar
सेक्टर-38 की डिस्पेंसरी में ही उचित दूरी की पालना नहीं होती।

ट्राईसिटी में कोरोना के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं, लेकिन वैक्सीनेशन कम हो रही है। ट्राईसिटी के वैक्सीनेशन सेंटर्स से लोग बिना टीके लगवाए वापस जा रहे हैं। चंडीगढ़, पंचकूला और मोहाली में लोग टीका लगवाना चाहते हैं, लेकिन कहीं स्टॉक नहीं है तो कहीं सिस्टम।

डिस्पेंसरियों में रोजाना सैकड़ों लोग बिना वैक्सीनेशन के लौट रहे हैं। इनका कोविन एप या वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन होता है, लेकिन इसके बावजूद टीका नहीं लगता। खासतौर पर बुजुर्ग डिस्पेंसरियों के बार-बार चक्कर लगा रहे हैं।

केस-1 बिना टीका लगवाए वापस जाना पड़ा

65 साल के राजीव कपूर मंगलवार सुबह सेक्टर-49 की डिस्पेंसरी में सुबह 9:15 पर पहुंचे। पत्नी समेत दोनों की रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन करवा रखी थी, लेकिन यहां पता चला कि सभी 150 टोकन बांटे जा चुके हैं। उनकी बेटी को कहा गया कि दूसरे दिन सुबह 8 बजे आ जाएं।

केस-2 पता नहीं कब नंबर आएगा

58 साल की सरोज वर्मा सेक्टर-38 की डिस्पेंसरी सुबह 9:40 तक पहुंची तो पता लगा कि वैक्सीनेशन के लिए सभी टोकन बंट गए हैं। उनकी बेटी ने बाहर से रहते हुए भी उनका ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवा दिया था। लंबे इंतजार के बाद तो टोकन तक की बारी आई थी, लेकिन बाद में न टोकन मिला और न ही टीका लगा।

सेंटर्स में ही नियम नहीं मान रहे लोग

बेशक हेल्थ डिपार्टमेंट दूसरों को कोरोना से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग की राय दे रहा है, लेकिन इसका पालन डिस्पेंसरियों में नहीं हो रहा। लोग टोकन लेने के लिए लंबी लाइन में लगे रहते हैं। कुछ लोग कुर्सियों पर बैठे रहते हैं और कुछ लाइन में कुर्सियों पर बैठे होते हैं। कुर्सियां भी साथ में सटी होती हैं।

एक स्टूल पर तीन-तीन लोग बैठे रहते हैं। टोकन लेने के लिए आए लोगों को भी फिजिकल डिस्टेंसिंग के लिए नहीं बोला जाता। ड्यूटी पर मौजूद मुलाजिम लोगों को जल्दी-जल्दी आगे बढ़ने के लिए कहते रहते हैं। डिस्पेंसरियों में जगह कम है और यूटी एडमिनिस्ट्रेशन ने उचित दूरी के लिए इंतजाम भी नहीं किए हैं।

कोई लिमिट तय नहीं की है: डीएचएस

हमारी तरफ से कोई लिमिट तय नहीं की गई है। यदि कोई डिस्पेंसरी ऐसा कर रही है तो इसे चेक कराया जाएगा। निर्देश दे रखे हैं कि चाहें ताे डिस्पेंसरी का समय बढ़ाया जा सकता है। ये सही है कि कुछ डिस्पेंसरी में जगह कम है और फुटफॉल बहुत ज्यादा है। इसका भी हल निकाला जाएगा।

यूं भी 15 मई के बाद जब यूथ को वैक्सीनेशन लगनी शुरू होगी तो स्लॉट तय होंगे। इसमें ‘वॉक इन’ की सुविधा नहीं होगी। सिर्फ ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन ही होगी। इसलिए ये भीड़ वाली समस्या खत्म हो जाएगी। करीब तीन लाख युवाओं को वैक्सीनेशन लगनी है।
डॉ. अमनदीप कंग, डीएचएस

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें