पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फ्लाइंग सिख की हेल्थ अपडेट:कोरोना संक्रमित मिल्खा सिंह को मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया; बेटे ने कहा- हालत स्थिर, एहतियातन फैसला लिया

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मिल्खा सिंह के बेटे गोल्फर जीव मिल्खा सिंह ने बताया कि उनके पिता की हालत स्थिर है। - Dainik Bhaskar
मिल्खा सिंह के बेटे गोल्फर जीव मिल्खा सिंह ने बताया कि उनके पिता की हालत स्थिर है।

फ्लाइंग सिख 91 वर्षीय मिल्खा सिंह को सोमवार को मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया। वे हाल ही में कोरोना पॉजिटिव हुए थे और अपने घर पर ही क्वारैंटाइन थे। उनके बेटे और गोल्फर जीव मिल्खा सिंह ने बताया कि पिता की हालत स्थिर है और सेहत से संबंधी सभी जरूरी चीजों का खास ख्याल रखा जा रहा है। इसलिए एहतियातन उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

जीव मिल्खा ने बताया कि उनके पिता काफी कमजोर हो गए थे। वो एक दिन पहले से कुछ खा नहीं रहे थे। इसलिए परिवार ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने का मन बनाया ताकि अस्पताल वह यहां डॉक्टरों की निगरानी में रहें। वे हमेशा पॉजिटिव सोचते हैं और जल्दी ही रिकवर करेंगे। जीव मिल्खा ने बताया कि वह दुबई में थे लेकिन पिता के कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आते ही वे चंडीगढ़ लौट आए।

ये हैं मिल्खा सिंह

मिल्खा सिंह ट्रैक एंड फील्ड स्प्रिंटर रहे हैं। अपने करियर में उन्होंने कई रिकॉर्ड बनाए और कई पदक जीते। मेलबर्न में 1956 ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व किया, रोम में 1960 के ओलंपिक और टोक्यो में 1964 के ओलंपिक में मिल्खा सिंह अपने शानदार प्रदर्शन के साथ दशकों तक भारत के सबसे महान ओलंपियन बने रहे।

20 नवंबर 1929 को गोविंदपुरा (जो अब पाकिस्तान का हिस्सा है) में एक सिख परिवार में जन्मे मिल्खा सिंह को खेल से बहुत लगाव था। विभाजन के बाद वह भारत भाग आ गए और भारतीय सेना में शामिल हो गए थे। सेना में रहते हुए ही उन्होंने अपने कौशल को और निखारा। एक क्रॉस-कंट्री दौड़ में 400 से अधिक सैनिकों के साथ दौड़ने के बाद छठे स्थान पर आने वाले मिल्खा सिंह को आगे की ट्रेनिंग के लिए चुना गया और यहीं से उनके प्रभावशाली करियर की नींव रखी गई।

1956 में मेलबर्न में आयोजित हुए ओलंपिक खेलों में उन्होंने पहली बार कोशिश की थी। भले ही उनका अनुभव अच्छा न रहा हो, लेकिन ये टूर उनके लिए आगे चलकर फलदायक साबित हुआ। 200 मीटर और 400 मीटर की स्पर्धाओं में भाग लेने वाले अनुभवहीन मिल्खा सिंह की चैंपियन चार्ल्स जेनकिंस के साथ एक मुलाकात ने भविष्य के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा और ज्ञान दे दिया।

मिल्खा सिंह ने जल्द ही अपने ओलंपिक में निराशाजनक प्रदर्शन को पीछे छोड़ दिया।1958 में उन्होंने जबरदस्त एथलेटिक्स कौशल प्रदर्शित किया, जब उन्होंने कटक में नेशनल गेम्स ऑफ इंडिया में अपने 200 मीटर और 400 मीटर स्पर्धा में रिकॉर्ड बनाए। मिल्खा सिंह ने राष्ट्रीय खेलों के अलावा, टोक्यो में आयोजित 1958 एशियाई खेलों में 200 मीटर और 400 मीटर की स्पर्धाओं में और 1958 के ब्रिटिश साम्राज्य और राष्ट्रमंडल खेलों में 400 मी (440 गज की दूरी पर) में स्वर्ण पदक जीते हैं। उनकी अभूतपूर्व सफलता के कारण उन्हें उसी पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।

खबरें और भी हैं...