NGT ने लिया डाडम हादसे पर संज्ञान:जांच के लिए 8 सदस्यीय कमेटी का गठन, 2 महीने में सौपेंगी रिपोर्ट, 5 अप्रैल को पहली सुनवाई

चंडीगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा के भिवानी के डाडम में पहाड़ दरकने की घटना पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने संज्ञान लिया है। एनजीटी ने एक जॉइंट कमेटी का गठन कर दिया है, जो कि दो महीने में अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। इस मामले पर NGT में 5 अप्रैल को सुनवाई होगी।

गौरतलब है कि डाडम में एक जनवरी को पहाड़ दरकने की घटना के चलते पांच लोगों की मौत हो हुई, जबकि कुछ घायल हो गए। घटनास्थल पर करीब 5 दिन तक राहत व बचाव कार्य चलता रहा। मृतकों के शव मलबे से निकालने के लिए आर्मी और नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट की टीमें जुटी रहीं। एनडीआरएफ की टीम वापस लौट गई है। घटनास्थल से मलबा भी साफ हो चुका है।

इस मामले पर राज्य सरकार ने पहले ही एक स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (STI) का गठन किया हुआ है जो मामले की जांच कर रही है। एसआईटी ने मलबे से निकले वालों को अपनी कस्टडी में ले लिया है। उनका नक्शा तैयार किया है। साथ ही सीसीटीवी भी खंगाले हैं। इस बीच अब NGT ने भी खुद मीडिया रिपोर्ट के आधार पर संज्ञान लेते हुए एक 8 सदस्य कमेटी का गठन कर दिया है।

हरियाणा प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के मेंबर सेक्रेटरी एस नारायण ने बताया कि जॉइंट कमेटी बनाने के आदेश मिल चुके हैं। बुधवार को प्रदेश के खनन मंत्री मूल चंद शर्मा ने भी आदेश जारी किए हैं कि सूर्यास्त के बाद माइनिंग नहीं की जाएगी। इसके साथ ही माइनिंग एरिया में पोल लगाए जाएंगे।

माइनिंग स्थल पर बचाव कार्य की फाइल फोटो
माइनिंग स्थल पर बचाव कार्य की फाइल फोटो

ये हैं कमेटी के आठ सदस्य

मिनिस्ट्री ऑफ एनवायरमेंट फॉरेस्ट एंड क्लाइमेट चेंज, सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड, नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी, डायरेक्टर जनरल ऑफ माइन सेफ्टी, प्रिंसिपल चीफ कंजरवेटर ऑफ फॉरेस्ट हरियाणा, स्टेट एनवायरमेंट इंपैक्ट असेस्टमेंट अथॉरिटी हरियाणा, स्टेट पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड, जिला मजिस्ट्रेट भिवानी की आठ सदस्यीय कमेटी गठित की गई है। सेंटर पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड और राज्य प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड को नोडल एजेंसी नियुक्त किया गया है। कमेटी दो हफ्ते के अंदर मीटिंग करेंगी और दो महीने के अंदर अपनी जांच रिपोर्ट एनजीटी को सौंपेगी।

खबरें और भी हैं...