पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Former Mayor Of Chandigarh Said BJP Has Made The Municipal Corporation A Puppet, Has Started Taking Decisions According To Its Mind

सफाई कंपनी के खिलाफ CBI की जांच की मांग:चंडीगढ़ के पूर्व मेयर ने कहा- BJP ने नगर निगम को कठपुतली बना कर रख दिया है, मन मुताबिक फैसले लेने लगे है

चंडीगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शहर की महिला कांग्रेस नेता ने बीजेपी शासित नगर निगम की स्वच्छता अभियान का पोल खोल अभियान शुरू किया। - Dainik Bhaskar
शहर की महिला कांग्रेस नेता ने बीजेपी शासित नगर निगम की स्वच्छता अभियान का पोल खोल अभियान शुरू किया।

शहर की सफाई व्यवस्था की हालत दयनीय हो गई है,इसे लेकर चंडीगढ़ महिला कांग्रेस की प्रेसिडेंट दीपा दुबे ने भाजपा शासित नगर निगम अधिकारियों के खिलाफ सफाई व्यवस्था की पोल खोल अभियान चलाया जा रहा है। दीपा दुबे का कहना है कि शहर में इन दिनों सफाई व्यवस्था की हालत दयनीय हो गई है। इससे पहले पूर्व मेयर और पूर्व कांग्रेस प्रेसिडेंट प्रदीप छाबड़ा ने शहर की सफाई करने वाली लॉयन कंपनी के खिलाफ CBI जांच की मांग की है।

उनका कहना है कि कंपनी की ओर से शहर की सफाई सही तरीके से नहीं की जा रही है और अब आगे सफाई के ठेके को बढ़ाने की कंपनी की ओर से मांग की जा रही है। छाबड़ा ने शहर के प्रशासक वीके सिंह बदनोर से कंपनी के खिलाफ CBI से जांच की मांग की है।उन्होंने कहा कि जिस तरह से कंपनी सफाई करने की कीमत ले रही है उस तरह की सफाई नहीं हो पा रही है।

निगम को भाजपा ने कठपुतली बना दिया

शहर के पूर्व मेयर प्रदीप छाबड़ा ने भाजपा पर निगम और उसके सरकारी तंत्र के दुरुपयोग और मज़ाक बनाए जाने के आरोप लगाए है। चंडीगढ़ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष छाबड़ा ने कहा कि निगम को भाजपा ने कठपुतली बनाकर रख दिया है। उनका कहना है कि जब इनको सहूलियत होती है उस हिसाब से फैसले लिए जा रहे है।

निगम की सोमवार को बुलाए जाने वाली वर्चुअल बैठक इसका ताजा उदाहरण है। छाबड़ा ने सवाल किया कि जब मेयर इस कोरोना काल में सार्वजनिक समारोह में अपना फ़ोटो सेशन करने में व्यस्त होते है तब प्रशासन की गाइडलाइन कहाँ होती है। छाबड़ा ने भाजपा के प्रधान से भी सवाल किया वर्चुअल बैठक करने के फैसले में उनकी कितनी सहमति थी।

पिछले साल भाजपा ने वर्चुअल मीटिंग का बायकॉट किया था
छाबड़ा ने कहा कि पिछले वर्ष फिजिकल बैठक करने के लिए वर्तमान मेयर और भाजपा प्रधान ने निगम सदन की वर्चुअल बैठक का ही बायकॉट कर दिया था। वो निगम इतिहास का काला दिन साबित हुआ था। उन्होंने आगे कहा कि सांसद निगम की एक्स ऑफिस मेंबर होती है , लेकिन उनकी बतौर सलाहकार भूमिका छलावे से ज्यादा कुछ नही है। भाजपा प्रधान दावा करते है कि सांसद उनके और अधिकारियों के लगातार संपर्क में रहती है। जिस पर छाबड़ा का सवाल है कि यह संपर्क का ही नतीजा है कि जब मर्जी आए निगम मेयर अधिकारी वर्चुअल बैठक बुला लेते है। छाबड़ा ने मेयर के इस फैसले को रणछोड़ करार दिया।

नगर निगम की स्वच्छता व्यवस्था की पोल खोल अभियान में लगी महिला नेता
दीपा दुबे ने वार्ड नंबर-4 की पार्षद और महिला मोर्चा बीजेपी की अध्यक्ष सुनीता धवन के वार्ड नंबर-4 सेक्टर 24 का मुआयना किया तो वहां गंदगी के ढेर लगे हुए थे। दीपा ने कहा कि सुनीता धवन अपने वार्ड में चुनावों के बाद नहीं दिखी। उन्होंने बताया कि बीजेपी शासित नगर निगम की ओर से एक महीने का स्वच्छता अभियान चलाया हुआ है लेकिन सेक्टर-24 की हालत यह दर्शाती है कि चंडीगढ़ क्यों इतने पीछे रैंकिंग में चला गया है। उन्होंने कहा कि शहर के विभिन्न हिस्सों में गंदगी के अंबार है जिसके बारे में अब वे लोगों को सच्चाई बताएंगी।

जनता को गुमराह किया जा रहा
दीपा ने कहा कि ना तो चंडीगढ़ की सांसद ना चंडीगढ़ का मेयर और ना ही बीजेपी के पार्षद अपने क्षेत्र में कोई कार्य कर रहे हैं सिर्फ जनता को गुमराह कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी के पार्षद सिर्फ चुनावों में अपने वार्डों में बाहर आ जाते हैं लेकिन जनता से बीजेपी के पदाधिकारियों को कोई लेना देना नहीं है। उन्होंने कहा कि चंडीगढ़ का सफाई के मामले में काफी अच्छा रैंक था लेकिन जब से बीजेपी शासित नगर निगम में कामकाज हाे रहा है अब शहर का नंबर 100 पर आ गया है।

खबरें और भी हैं...