पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना बेकाबू:ट्राईसिटी में कोरोना से दो महिलाओं समेत चार की मौत, 114 नए केस

चंडीगढ़10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो।
  • मोहाली में एक दिन में 44 केस, चंडीगढ़ में 28, पंचकूला में 42 पॉजिटिव

शहर में कोरोना काबू से बाहर होता जा रहा है। शनिवार को कोरोना से एक साथ तीन मरीजों की मौत हो गई और 28 केस नए केस आए। ऐसे में प्रशासन और हेल्थ डिपार्टमेंट के अफसरों की चिंता बढ़ गई है। कोरोना से सेक्टर-37 की 75 साल की महिला, किशनगढ़ की 55 साल की महिला और सेक्टर-45 के 92 साल के बुजुर्ग की मौत हुई है। अब शहर में मौत का आंकड़ा 18 तक पहुंच गया है। तीनों को कोरोना के अलावा अन्य गंभीर बीमारियां भी थी। जो 28 केस आए हैं, उनमें अधिकतर एक ही फैमिली के कॉन्टैक्ट में आने से संक्रमित पाए गए हैं। शहर में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 1093 हो गई है। शहर में 378 मरीज एक्टिव हैं। शनिवार को 67 सैंपल लिए गए हैं। अब तक 15163 सैंपल लिए जा चुके हैं।

शनिवार को सेक्टर-40 में एक ही परिवार के तीन सदसस्य पॉजिटिव पाए गए। ये सभी परिवार के पहले पॉजिटिव आए मरीज से संक्रमित हुए हैं। इसके अलावा सेक्टर-39, सेक्टर-55, पीजीआई, सेक्टर-26, बापूधाम, सेक्टर-15, रायपुरखुर्द, सेक्टर-50, सेक्टर-40 से केस आए हैं। जीएमसीएच-32 में कार्यरत 25 साल का युवक पॉजिटिव पाया गया है। सेक्टर-51 में भी एक महिला पॉजिटिव आई है। शनिवार को 16 मरीज ठीक भी हुए। पंचकूला... जिले में शनिवार को कोरोना के आईटीबीपी के पांच जवानों समेत 42 नए केस आए। इनमें से 38 पंचकूला जिले से हैं। बाकी बाहर के क्षेत्रों से हैं। इनको मिलाकर यहां पर 750 केस हो गए हैं। इनमें 599 मरीज पंचकूला के हैं। यहां पर एक्टिव केस 301 हैं। 191 सैंपल की रिपोर्ट पेंडिंग है।

डेढ़ साल पहले बुजुर्ग को आया था पैरालिटिक अटैक

सेक्टर-45 के 96 साल के बुजुर्ग को डेढ़ साल पहले पैरालिटिक अटैक हुआ था। 30 को तबीयत बिगड़ने पर उन्हें जीएमसीएच-32 लाया गया। यहां उनकी डेथ हो गई। उनका कोरोना टेस्ट हुआ। 31 को रिपोर्ट पॉजिटिव आई। प्रो. भंसाली कहते हैं कि पैरालिटिक में भी नसें कमजोर हो जाती हैं। उम्र ज्यादा होने और पैरालिटिक होने की वजह से नाड़ियां ब्लॉक हुईं, जो मौत का कारण बनी।

किशनगढ़ की महिला को डायबिटीज भी थी

किशनगढ़ की 55 साल की महिला को डायबिटीज के अलावा अन्य बीमारियां थी। 5 दिन से सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। पीजीआई के एंडोक्रायोनोलोजी डिपार्टमेंट के एचओडी अनिल भंसाली का कहना है कि डायबिटीज में मरीज की नाड़ियां कमजोर हो जाती हैं। कोरोना में क्लोटिंग फेक्टर खराब हो जाते हैं। इसकी वजह से उनकी नाड़ियां ब्लॉक होना शुरू हो जाती है। कोरोना पॉजिटिव होने पर ऐसे मरीज की नाड़ियों में खून जमना शुरू हो जाता है।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आने से राहत महसूस होगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में आज व्यस्तता बनी...

और पढ़ें