पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

केंद्र से आई टीम ने की मीटिंग:चंडीगढ़ में 1 अप्रैल से 45 साल तक के लोगों को वैक्सीन डोज लगनी शुरू होगी, स्वास्थ्य विभाग ने की तैयारी

चंडीगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शहर में लोग वैक्सीन डोज लेने के बाद अपने विचार लिख रहे हैं। फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
शहर में लोग वैक्सीन डोज लेने के बाद अपने विचार लिख रहे हैं। फाइल फोटो
  • डायरेक्टर हेल्थ सर्विसेज का कहना-रोजाना 10 हजार लोगों को वैक्सीन डोज लोगों को दे सकते हैं
  • शहर में अभी तक 74 हजार से ज्यादा लोगों ने वैक्सीन की डोज ली

शहर में कोरोना संक्रमण का प्रभाव बढ़ता जा रहा है, इसे लेकर प्रशासन की ओर से कई तरह के सख्त निर्देश दिए गए हैं लेकिन लोगों की ओर से नियमों को नहीं माना जा रहा है। जिसके कारण संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। प्रशासन की ओर से शहर की एजुकेशन इंस्टीट्यूट, होटल, रेस्तरां और ढाबा को बंद करने का समय कम करने के बाद भी मार्केट में लोगों की भीड़ कम नहीं हो रही है। शहर में बिना मास्क के पब्लिक प्लेस में लोग बिना किसी डर के घूम रहे हैं।

45 साल तक के लोग ले सकेंगे डोज

सरकार की ओर से अब कोरोना वैक्सीन डोज देने के लिए नए निर्देश दिए गए है। अब 45 साल तक के बीमार और ठीक लोगों को वैक्सीन की डोज दी जाएगी। इस संबंध में डायरेक्टर हेल्थ सर्विसेज डाॅ. अमनदीप कंग ने कहा है कि 1 अप्रैल से 45 साल तक के सभी व्यक्तियों को वैक्सीन लगनी शुरू हो जाएगी। उन्होंने कहा कि अभी तक 45 साल से ऊपर के व्यक्ति को पहले से किसी बीमारी का सर्टिफिकेट देना पड़ता था। लेकिन अब यह शर्त सरकार ने हटा दी है। उन्होंने बताया कि हमारे पास रोजाना 10,000 लोगों को वैक्सीन लगाने की सुविधा है। लोगों को बिना किसी डर के वैक्सीन लगवाने के लिए आगे आना चाहिए। उन्होंने कहा कि शहर में 44 जगह पर वैक्सीनेशन किया जा रहा है।

अभी 75 हजार डोज उपलब्ध

हेल्थ डिपार्टमेंट के पास 75 हजार लोगों के लिए वैक्सीन की डोज उपलब्ध है। डायरेक्टर हेल्थ सर्विसेज ने डाॅ. अमनदीप कंग ने कहा कि पंजाब में यूके के स्ट्रेन की पुष्टि के बाद चंडीगढ़ में भी नए स्ट्रेन के संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। इसकी वजह यह है कि पंजाब और चंडीगढ़ के बीच ज्यादा दूरी नहीं है। इसके अलावा पंजाब से भारी संख्या में लोग आते-जाते हैं। लोगों को दो गज की दूरी और मास्क जरूर पहनना चाहिए।

शहर में अभी तक 74 हजार से ज्यादा ने ली डोज

शहर में अभी तक हेल्थ केयर, फ्रंट लाइन वर्कर और 45 से 80 साल तक के मरीजों ने 74 हजार 308 मरीजों ने डोज ले ली है। शहर में 44 से अधिक स्थानों पर वैक्सीनेशन का काम किया जा रहा है। हेल्थ केयर वर्करों में से पहली डोज लेने वालों की संख्या 15 हजार 386 और दूसरी डोज लेने वालों की संख्या 6 हजार 478 है। फ्रंट लाइन वर्करों में पहले डोज लेने वाले 14 हजार 740 और दूसरी डोज लेने वालों की संख्या 4 हजार 220 है। शहर के 45 साल से 60 साल तक के लोगों में से पहली डोज लेने वालों की संख्या 3 हजार 918 है। 60 साल से ज्यादा उम्र के 29 हजार 566 बुजुर्गों ने वैक्सीन की पहली डोज ले ली है।

टीम ने कहा-कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग जल्द हो

केंद्र से मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर के तहत नेशनल सेंटर फाॅर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) की एक टीम चंडीगढ़ पहुंची है। टीम ने चंडीगढ़ हेल्थ डिपार्टमेंट और बाकी अफसरों के साथ मीटिंग की। ये मीटिंग कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग और आइसोलेशन, क्वारैंटाइन को लेकर थी। मीटिंग में ये सलाह टीम में आए एक्सपर्ट्स ने दी है कि यहां पर कोरोना के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है, इसलिए कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग ज्यादा तेजी से करने की जरूरत है। जो भी लोग पॉजिटिव पाए जाते हैं, उनके क्लोज कॉन्ट्रैक्ट की ट्रेसिंग और आइसोलेशन को लेकर 72 घंटों में ही काम पूरा करना होगा। वहीं जितने भी संपर्क कोविड पॉजिटिव पेशेंट के पाए जाते हैं, उनको आइसोलेट किया जाएगा ताकि आगे कोरोना की चेन को तोड़ा जा सके।

माइक्रो लेवल पर बनाने होंगे कंटेनमेंट जोनएनसीडीसी की मीटिंग के दौरान कंटेनमेंट जोन को लेकर भी चर्चा की गई है। जिन भी एरिया से कोरोना के नए मामले आ रहे हैं। उनमें माइक्रो कंटेनमेंट जोन जल्द तय करने होंगे। साथ ही जो लोग कंटेनमेंट जोन में आते हैं उनकी स्क्रीनिंग और सैंपल टेस्टिंग करने को लेकर कहा गया है। बड़े एरिया को कंटेनमेंट जोन बनाने के बजाए छोटे माइक्रो लेवल पर कंटेनमेंट जोन होंगे ताकि वहां पर स्क्रीनिंग और टेस्टिंग की जा सके।