बेनामी प्रॉपर्टी का मामला:पूर्व डीजीपी सुमेध सैनी की अग्रिम जमानत याचिका खारिज, कई जगहों पर विजिलेंस की छापेमारी; कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी। - Dainik Bhaskar
पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी।

पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी की मुश्किलें अब और बढ़ गई हैं। बेनामी संपत्ति मामले में मोहाली की जिला अदालत ने उनकी अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। सैनी के वकील एचएस धनोआ ने उनकी अग्रिम जमानत के लिए याचिका लगाई हुई थी, जो खारिज हो गई है। अब उनके पास हाईकोर्ट में जाने का रास्ता बचा है। हालांकि इस बीच विजिलेंस की टीम सैनी को गिरफ्तार भी कर सकती है।

बता दें कि बेनामी संपत्ति के मामले में विजिलेंस द्वारा मामला दर्ज करने के बाद से ही सैनी फरार हैं। उनकी गिरफ्तारी के लिए कई जगहों पर छापेमारी कर पूछताछ भी की जा रही है। विजिलेंस को शक है कि सैनी ने पद का दुरुपयोग कर मोहाली, चंडीगढ़, लुधियाना, दिल्ली, राजस्थान और हिमाचल प्रदेश में प्रॉपर्टी खरीदी है।

विजिलेंस को प्राथमिक जांच के दौरान ऐसे बैंक खातों की जानकारी मिली थी, जिनका संबंध दूसरे राज्यों से जुड़ा हुआ था। इन खातों से आरोपियों के खातों में हुए करोड़ों रुपए के लेनदेन को प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष तौर पर सैनी से जोड़कर देखा जा रहा है। उधर, विजिलेंस ने सैनी समेत अन्य छह आरोपियों के 37 बैंक खातों को सीज कर दिया है। यह बैंक खाते चंडीगढ़, हरियाणा, पंजाब व दिल्ली के बताए जा रहे है। इनमें कुछ ऐसे खाते भी हैं, जिनमें साढ़े चार करोड़ से लेकर आठ करोड़ रुपए तक जमा थे, जबकि अन्य बैंकों में करोड़ों रुपए की ट्रांजेक्शंस हुईं।

विदेशी ट्रांजेक्शंस की जांच ईडी भी करेगी जांच

विजिलेंस जांच अधिकारियों का कहना है कि ईडी को मसले की जांच करने के लिए कहा गया है, क्योंकि ट्रांजेक्शन की प्राथमिक जांच में विदेशी कनेक्शन भी सामने आ रहे हैं। विजिलेंस जांच में सेक्टर 20 स्थित कोठी के एग्रीमेंट दस्तावेजों में भी काफी हेरफेर सामने आ रही है। दूसरी ओर विजिलेंस के बाद ईडी भी सैनी और उनके साथियों की आय समेत खातों में विदेशी ट्रांजेक्शंस की जांच करेगी। पंजाब सरकार से मंजूरी मिलने के बाद अब इंफोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ईडी) ने कार्रवाई भी शुरू कर दी है।

खबरें और भी हैं...