पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • High Command's Decision If The Discord Does Not Stop; The Responsibility Of Ending The Captain Sidhu Dispute Will Again Be Given To The Kharge Committee.

कांग्रेस vs कांग्रेस:कलह नहीं थमने पर हाईकमान का फैसला; कैप्टन-सिद्धू विवाद खत्म करने की जिम्मेदारी फिर से खड़गे कमेटी को

चंडीगढ़8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चंडीगढ़ से अमृतसर तक हवा बदली: सिद्धू... सोशल मीडिया पर सिद्धू ने  कहा, जनता की ओर से इस समय चंडीगढ़ से अमृतसर तक हवा बदली है। - Dainik Bhaskar
चंडीगढ़ से अमृतसर तक हवा बदली: सिद्धू... सोशल मीडिया पर सिद्धू ने कहा, जनता की ओर से इस समय चंडीगढ़ से अमृतसर तक हवा बदली है।
  • 23 को सिद्धू की ताजपोशी, 4 कार्यकारी प्रधान सीएम को देंगे न्योता

पंजाब कांग्रेस में कलह नहीं थम रही। जहां कैप्टन सिद्धू द्वारा माफी मांगे जाने पर अड़े हैं, वहीं सिद्धू परवाह किए बिना पार्टी नेताओं को इकट्‌ठा कर शक्ति प्रदर्शन में जुटे हैं। बुधवार को विधायकों की फौज के साथ सिद्धू ने अमृतसर स्थित श्री दरबार साहिब और दुर्ग्याणा मंदिर में माथा टेका। वहीं, हाईकमान ने कैप्टन व सिद्धू के बीच विवाद को खत्म करने के लिए एक बार फिर वेणुगोपाल, जयप्रकाश अग्रवाल और मल्लिका अर्जुन खड़गे की कमेटी को जिम्मेदारी सौंपी है।

राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी और महासचिव राहुल गांधी ने कमेटी को दोनों नेताओं से मुलाकात कर विवाद खत्म कराने को कहा है। कमेटी जल्द दोनों को दिल्ली बुला सकती है। वहीं, नवजोत सिंह सिद्धू 23 जुलाई को पंजाब कांग्रेस के नवनियुक्त अध्यक्ष का पदभार संभालेंगे और सुबह 11 बजे कांग्रेस भवन में ताजपोशी होगी। साथ ही 4 कार्यकारी अध्यक्ष संगत सिंह गिलजियां, सुखविंदर सिंह डैनी, पवन गोयल और कुलजीत सिंह नागरा भी अपनी जिम्मेदारी संभालेंगे।

चारों कार्यकारी अध्यक्ष सीएम कैप्टन को न्योता देने जाएंगे। इसके लिए सीएम से मिलने का समय मांगा गया है, जबकि सिद्धू 22 जुलाई की सुबह चंडीगढ़ पहुंचेंगे। वहीं, अभी तक कैप्टन अमरिंदर ने कार्यक्रम में शामिल होने पर असमंजस बना हुआ है। तस्वीर, 22 जुलाई की देर शाम तक साफ होगी। वहीं, बुधवार को सिद्धू ने अमृतसर में शुकराना अदा किया।

शुकराने के बहाने शक्ति प्रदर्शन...सिद्धू ने 50 विधायकों के साथ दरबार साहिब व दुर्ग्याणा मंदिर में शीश नवाया

2 संदेश... पहला हाईकमान को, दूसरा मुख्यमंत्री को
1. अमृतसर में ज्यादातर विधायक पहुंचाकर सिद्धू यह संदेश देना चाहते हैं कि पार्टी में उनकी स्वीकार्यता है। पार्टी का बड़ा वर्ग उनके साथ है।
2. सीएम तेवर नरम कर लें, वह माफी नहीं मांगेंगे। भले यह बात सिद्धू की कोठी पहुंचे नेताआें से कहलवाई गई हो, लेकिन उन्होंने अपना रुख साफ कर दिया है।
अमृतसर सिद्धू ने बुधवार सुबह अपने घर सभी कांग्रेसी विधायकों को नाश्ते पर बुलाया। सिद्धू के घर पर पंजाब के चार मंत्रियों समेत 50 विधायक जुटे। इसमें कैबिनेट मंत्री सुखबिंदर सिंह सरकारिया, सुखजिंदर सिंह रंधावा, तृप्त रजिंदर बाजवा अाैर चरणजीत सिंह चन्नी चार मंत्रियों के अलावा चारों वर्किंग प्रेसिडेंट भी मौजूद रहे। 2 अाप के विधायक भी पहुंचे जाे हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुए थेे। यहीं नहीं 18 जुलाई काे कैप्टन के हक में हाईकमान काे लैटर लिखने वाले 5 विधायक भी सिद्धू की काेठी पहुंचे हैं। कैप्टन के अलावा 32 कांग्रेसी विधायक नहीं पहुंचे। सिद्धू ने दरबार साहिब, दुर्ग्याणा मंदिर व मंदिर रामतीर्थ में शीश नवाया।
सिद्धू की (के) बस में 50 विधायक, बाकी बेबस

ताजपोशी में प्रियंका कर सकती हैं शिरकत...
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी सिद्धू की ताजपोशी में शिरकत कर सकती हैं। पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा, कुमारी सैलजा, हिमाचल से कुलदीप सिंह व राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत को निमंत्रण भेजा गया है।

इधर, सीएम भी विधायकों व मंत्री से मीटिंग में जुटे...
वहीं, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भी अपने समर्थक विधायकों और मंत्रियों के साथ मीटिंग कर रहे हैं अपने आवास पर एक एक करके नेताओं से मुलाकात कर हालात की समीक्षा कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...