पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सूबे में कोरोना से बिगड़ रहे हालात पर हाईकोर्ट सख्त:हाईकोर्ट ने कहा ऑक्सीजन की कमी से कोई जान न जाए, होम डिलीवरी पर भी विचार करें

चंडीगढ़11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तस्वीर अमृतसर की है। - Dainik Bhaskar
तस्वीर अमृतसर की है।
  • सीएम अमरिंदर ने मोदी और शाह को लिखा पत्र, कहा- आॅक्सीजन नहीं मिलने पर पंजाब में मेडिकल इमरजेंसी जैसे हालात हो जाएंगे

कोरोना के लगातार बढ़ रहे मामलों के बीच मंगलवार को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने चंडीगढ़ प्रशासन, पंजाब व हरियाणा सरकार से कहा कि सुनिश्चित करें कि ऑक्सीजन की कमी से किसी की जान न जाए। जस्टिस राजन गुप्ता और जस्टिस कर्मजीत सिंह की खंडपीठ ने कहा कि कोरोना के रोगियों के लिए उनके घर पर ऑक्सीजन सिलेंडर की होम डिलीवरी पर विचार किया जाए। इससे स्थानीय प्रशासन सरकारी व प्राइवेट अस्पताल पर भी काम का दबाव कम होगा। वहीं, सीएम अमरिंदर ने पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर कहा है कि ऑक्सीजन नहीं मिलने पर पंजाब में मेडिकल इमरजेंसी जैसे हालात हो जाएंगे।

चंडीगढ़ प्रशासन की तरफ से कोर्ट में कहा गया कि घर पर ऑक्सीजन की जरूरत के लिए शहर में जोन वाइज टेलीफोन नंबर उपलब्ध कराए जाएंगे। एसडीएम की देखरेख में यह काम होगा। हाईकोर्ट में इस पर तत्काल कार्रवाई करने के निर्देश दिए और कहा कि एसडीएम काम में बाधा पहुंचाने वालों के खिलाफ पुलिस की मदद भी ले सकता है।

हाईकोर्ट ने दिए ये निर्देश

केस प्रॉपर्टी में पड़ी दवाइयां व ऑक्सीजन सिलेंडर रिलीज किए जाएं

हाईकोर्ट ने कहा कि चंडीगढ़, पंजाब व हरियाणा में बहुत सी जगह केस प्रॉपर्टी के रूप में दवाइयां और ऑक्सीजन सिलेंडर मालखानों में पड़े हैं। इन आपात परिस्थितियों में इनको कानून के मुताबिक रिलीज किया जाए। इसके अलावा जिन मेडिकल संस्थानों में इक्विपमेंट्स व वेंटिलेटर इस्तेमाल नहीं हो रहे वह भी जनहित में इसका इस्तेमाल करें।

बफर स्टॉक से ऑक्सीजन लें

हाईकोर्ट ने कहा ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए और तत्काल आपात जरूरत की स्थिति में राज्य सरकार को छूट है कि वह बफर स्टॉक में से ऑक्सीजन का इस्तेमाल कर सकती है। एमिक्स क्यूरी ने कहा कि हरियाणा में ऑक्सीजन को लेकर गंभीर स्थिति है पानीपत प्लांट ओवर हिट होने से पूरी क्षमता के साथ काम नहीं कर रहा है।

सीएम ने केंद्र से मांगी ऑक्सीजन की सप्लाई व 20 टैंकर

सीएम अमरिंदर सिंह ने राज्य को निकट के स्रोतों से 50 मीट्रिक टन तरल मेडिकल ऑक्सीजन की अतिरिक्त सप्लाई और बोकारो से एलएमओ की समय पर निकासी के लिए 20 अतिरिक्त टैंकर (रेल सफ़र के जरिये) भिजवाने को लेकर केंद्र को पत्र लिखा है। पीएम मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को तुरंत दख़ल देने की मांग करते हुए कहा है कि सूबे में एक्टिव कोविड मरीजों की संख्या 10 हजार तक पहुंच गए हैं। बढ़ रहे मामलों के दबाव के साथ वह ऑक्सीजन की कमी के कारण लेवल 2 और लेवल 3 के बिस्तरों को बढ़ाने में असमर्थ हैं। सीएम ने कहा- पंजाब वैकल्पिक स्रोतों से पर्याप्त सप्लाई का भरोसा देने के बावजूद ऐसा नहीं हुआ।’ मौजूदा समय में पंजाब का पानीपत (हरियाणा) से 5.6 मीट्रिक टन, सेला कुई, देहरादून (उत्तराखंड) से 100 मीट्रिक टन और रुड़की से 10 मीट्रिक टन का बैकलॉग पड़ा है। सीएम ने कहा पानीपत सप्लाई में विघ्न पड़ने से राज्य में मेडिकल इमरजेंसी के हालात पैदा हो सकते हैं जिसमें बड़ी संख्या में मरीजों की जान को ख़तरा पैदा हो सकता है। टैंकरों की कमी का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य दो खाली टैंकर हवाई मार्ग से रोज़ाना रांची भेज रहा है। भरे टैंकर लौटने में 48-50 घंटे लग रहे हैं।

पंजाब ने कहा नजदीक के प्लांट से ऑक्सीजन दिलाई जाए

सुनवाई के दौरान पंजाब सरकार ने कहा कि राज्य सरकार को राउरकेला प्लांट से ऑक्सीजन का कोटा अलॉट किया गया है लेकिन यहां से ऑक्सीजन सड़क के जरिए ट्रांसपोर्ट करना आसान काम नहीं है। ऐसे में उन्हें नजदीक के प्लांट से ऑक्सीजन उपलब्ध कराई जाए। हाईकोर्ट ने इस पर केंद्र के वकील को जवाब देने के निर्देश दिए हैं। वहीं, चंडीगढ़ प्रशासन और हरियाणा सरकार की तरफ से भी कहा गया कि उन्होंने केंद्र से वेंटिलेटर दिए जाने का आग्रह किया है लिहाजा इस पर शीघ्र कार्रवाई के निर्देश दें।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें