पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अलर्टनेस की जरूरत:वायरस के म्यूटेंट में बदलाव आया ताे अलर्ट रहने की जरूरत: पाण्डव

चंडीगढ़2 दिन पहलेलेखक: मनाेज अपरेजा
  • कॉपी लिंक

चंडीगढ़ में जिस रफ्तार से वैक्सीन लग रही है, उसे देखते इस बात की बहुत संभावना है कि चंडीगढ़ में थर्ड वेव आती भी है ताे इतनी ज्यादा गंभीर नहीं हाेगी। साथ ही सीराे सर्वे के शुरुआती रुझान भी सकारात्मक आ रहे हैं, जाे कि सुखद हैं। यह कहना है पीजीआई काेविड वैक्सीनेशन कमेटी के चेयरमैन प्राे. एसएस पाण्डव का।

उन्होंने कहा कि अगर तीसरी लहर में वायरस पहले वाला रहा और इसके म्यूटेंट में काेई बदलाव नहीं हुआ ताे हम कह सकते हैं कि चंडीगढ़ में हर्ड इम्युनिटी के आसार बनते दिखेंगे। अगर वायरस के म्यूटेंट में बदलाव आ जाता है ताे हमें सावधान रहने की जरूरत है। शहर में हर किसी को वैक्सीन लगी होगी तो तीसरी लहर में ज्यादा नुकसान नहीं हाेगा।

सीरो सर्वे के आंकड़े बताते हैं शहर सुरक्षित...
पहले वुहान वायरस आया था ताे कहा जा रहा था कि 60 से 70 फीसदी लाेगाें में एंटीबाॅडी डेवलप हाेना हर्ड इम्युनिटी माना जाएगा। लेकिन म्यूटेशन बदला और अल्फा वायरस आया। फिर डेल्टा और उसके बाद डेल्टा प्लस वायरस। डेल्टा वेरिएंट में कहा जा रहा है कि 80 फीसदी से अधिक लाेगाें में एंटीबाॅडी मिलने पर ही हर्ड इम्युनिटी मानी जाएगी। डेल्टा प्लस वेरिएंट काे लेकर अभी स्थिति स्पष्ट नहीं है। चंडीगढ़ के वैक्सीनेशन और सीराे सर्वे के आंकड़े से चंडीगढ़ कुछ सेफ नजर आ रहा है।
प्राे. जीडी पुरी, डीन और पीजीआई काेविड मैनेजमेंट कमेटी के चेयरमैन

खबरें और भी हैं...