पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • If You Want To Stay In The Party Then Stop The Rhetoric, The High Command Should Give Preference To The Conservative Congressmen

कांग्रेस में कलह:पार्टी में रहना है तो बयानबाजी बंद करें सिद्धू, टकसाली कांग्रेसियों को तरजीह दे हाईकमान

चंडीगढ़8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और अन्य लोग। - Dainik Bhaskar
मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और अन्य लोग।
  • सिद्धू के आने की अटकलों के बाद कैप्टन समर्थक बोले-

पूर्व मंत्री नवजोत सिद्धू को पार्टी या सरकार में दोबारा सक्रिय करने के कांग्रेस हाईकमान से मिले संकेतों के बाद जहां कैप्टन समर्थक विधायकों ने सिद्धू के खिलाफ मोर्चा संभाल लिया है वहीं, बाजवा ने सिद्धू के पक्ष में हाईकमान को खुला पत्र लिख दिया है।

मुख्यमंत्री के समर्थकों और विरोधियों में बेचैनी पनप रही है। क्योंकि उन्हें भरोसा नहीं है कि सिद्धू अपनी बयानबाजी बंद करेंगे। सूबे में सिद्धू ही थे, जिन्होंने सबसे पहले बहबलकलां मामले में कैप्टन सरकार की कारगुजारी पर सवाल उठाए थे, उसके बाद एक एक करके अन्य नेता भी उनके समर्थन में जुटते चले गए।

कैप्टन समर्थक विधायक गुरकीरत कोटली, विधायक लखबीर सिंह लक्खा समेत अधिकतर नेताओं ने हाईकमान से पार्टी में टकसाली नेताओं को तरजीह देने की अपील करते हुए सिद्धू को खुली नसीहत दे डाली है कि अगर उन्हें पार्टी में बने रहना है तो उन्हें पहले अपनी बयानबाजी बंद करनी पड़ेगी और मुख्य पद मिलने के बाद उन्हें पार्टी की बेहतरी के लिए काम करना पड़ेगा। इससे पहले पंजाब प्रभारी हरीश रावत ने कहा था पार्टी हाईकमान ने नवजोत सिंह सिद्धू को फिर सक्रिय करने का फैसला लिया है।

कैप्टन शुरू करेंगे नाराज नेता मनाने को लंच/डिनर डिप्लोमेसी

दिल्ली की मीटिंग के बाद मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह जल्द नाराज नेताओं को मनाने के लिए लंच या डिनर डिप्लोेमेसी शुरू कर सकते हैं। दलित नेताओं समेत पुराने कांग्रेसी नेताओं से वन टू वन मीटिंग कर कैप्टन आगामी चुनाव के लिए डैमेज कंट्रोल की पॉलिसी पर आगे बढ़ेंगे। यहीं से टिकट के दावेदारों की सलेक्शन भी शुरू होगी। इससे पहले प्रशांत किशोर भी मौजूदा विधायकों से मीटिंग कर चुके है।

पुराने नेताओं को भी पूरा सम्मान मिले: कोटली

खन्ना से विधायक गुरकीरत कोटली ने कहा, अब जब सिद्धू को हाईकमान प्राथमिकता दे रही है, तो उन्हें सरकार व पार्टी को घेरने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। हाईकमान को पार्टी में टकसाली कांग्रेसी नेताओं को प्राथमिकता देनी चाहिए।

टकसाली नेताओं को सरकार अहम जिम्मेदारी देती है तो उन्हें विधानसभा चुनाव में लाभ मिल सकता है। वहीं, पायल से विधायक लखबीर सिंह लक्खा ने कहा कि नए लीडर्स को उनका पूरा मान सम्मान मिलना चाहिए लेकिन पुराने व टकसाली दलित नेताओं को भी पार्टी व सरकार में पूरा सम्मान मिले।

अब सिद्धू चुप रहकर इंतजार करें: बाजवा

इधर, सांसद प्रताप सिंह बाजवा ने कहा, सिद्धू एक अच्छे वक्ता और नेता हैं। उनका पार्टी में सक्रिय होना बहुत जरूरी है। चुनाव नजदीक हैं, इसलिए इस पर ठोस फैसला होना चाहिए। वहीं उन्होंने सिद्धू से भी कहा, अब तक जो मैसेज वह लोगों और पार्टी हाईकमान को देना चाहते थे, दे चुके हैं। अब चुप रहकर अगले फैसले को इंतजार करना चाहिए। ​​​​​​​

खबरें और भी हैं...