पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • In Such A Condition, Even A Young Man Cannot Live For 1 Hour, Flying Sikhs Kept Fighting For Life For 10 To 12 Hours: Doctor

जिंदादिली का नाम मिल्खा सिंह:डॉक्टर ने कहा- ऐसी हालत में कोई युवा भी 1 घंटा नहीं जी सकता, फ्लाइंग सिख तो 10 से 12 घंटे जिंदगी की जंग लड़ते रहे

चंडीगढ़एक महीने पहलेलेखक: मनोज अपरेजा
  • कॉपी लिंक
पीजीआई में लिफ्ट से फ्लाइंग सिख के शव को नीचे ले जाते हुए कर्मचारी। साथ में मिल्खा सिंह के बेटे जीव मिल्खा सिंह (काली टी शर्ट में) भी थे। (फोटो: अश्वनी राणा) - Dainik Bhaskar
पीजीआई में लिफ्ट से फ्लाइंग सिख के शव को नीचे ले जाते हुए कर्मचारी। साथ में मिल्खा सिंह के बेटे जीव मिल्खा सिंह (काली टी शर्ट में) भी थे। (फोटो: अश्वनी राणा)
  • ऑक्सीजन सेचुरेशन 70 रह गया था, बीपी 39/20 हुआ और फेफड़े 80% डैमेज हाे गए थे

फ्लाइंग सिख पद्मश्री मिल्खा सिंह काेराेना से उभरने के बाद दाेबारा बीमार हो गए थे। शुक्रवार देर रात 11:24 पर उन्होंने अंतिम सांस ली। इससे पहले 16 जून काे रिपाेर्ट नेगेटिव आने पर उन्हें पीजीआई के एडवांस कार्डियक सेंटर में दाखिल कराया गया था। यहां पर उनकी हालत स्थिर बनी हुई थी। 17 जून काे उन्हें बुखार हुआ।

18 जून की सुबह ऑक्सीजन लेवल गिर गया। शाम 4 बजे ऑक्सीजन सेचुरेशन 80 से 70 रह गया। ब्लड प्रेशर लेवल 70/30 हाे गया। शाम 6 बजे बीपी और गिर गया। रात 11 बजे ब्लड प्रेशर लेवल 39/20 रह गया था। डाॅक्टराें के मुताबिक उनके फेफड़े 80 फीसदी डैमेज हाे गए थे।

बुधवार काे ही सांस लेने में बहुत ज्यादा दिक्कत हाे रही थी। उनकी माैत की वजह भी यही रही। डाॅक्टर के मुताबिक ऐसी हालत में कोई युवा भी एक घंटा जीवित नहीं रह सकता, लेकिन दिग्गज धावक ने अंतिम सांस तक जीवन और माैत की लड़ाई लड़ी।

​​​​​​​कोविड टाइमलाइन: कुक के कोरोना संक्रमित होने के बाद पॉजिटिव हुए थे मिल्खा सिंह

  • 19 मई: शाम की सैर से लौटने के बाद टेस्ट पॉजिटिव आया। घर में काम करने वाले कुक से वे पॉजिटिव हुए
  • 24 मई: ऑक्सीजन का स्तर कम होने और कोविड निमोनिया पाए जाने पर फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया
  • 26 मई: पत्नी निर्मल कौर के साथ आईसीयू से शिफ्ट किया गया, पत्नी भी पॉजिटिव आई थी। दोनों ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे
  • 30 मई: मिल्खा को परिवार के अनुरोध पर अस्पताल से छुट्टी मिली, वे घर पर ऑक्सीजन सपोर्ट के साथ आइसोलेशन में रहे
  • 3 जून: ऑक्सीजन लेवल गिरना शुरू होने के बाद दोपहर 3:35 बजे पीजीआई के आईसीयू में भर्ती कराया गया
  • 13 जून: पत्नी निर्मल कौर को कोविड की वजह से खो दिया
  • 16 जून: कोविड आईसीयू से नेगेटिव रिपोर्ट के बाद मेडिसन आईसीयू में भर्ती किया गया। पहली बार रिपोर्ट नेगेटिव आई थी
  • 18 जून: मिल्खा सिंह का ऑक्सीजन लेवल गिर गया और नाजुक हालत में उनका इलाज शुरू किया गया
खबरें और भी हैं...