• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • It Will Be Kept Secret Till The Result Comes, One Child Felt The Dose, The Other Would Be Taken After 21 Days.

बच्चों पर कोरोना वैक्सीन का ट्रायल:चंडीगढ़ PGI में बच्चे को दी गई अमेरिकी कोवोवैक्स की डोज; 6 महीने में कंप्लीट होगा प्रोसेस

चंडीगढ़9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चंडीगढ़ पीजीआई - फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
चंडीगढ़ पीजीआई - फाइल फोटो

चंडीगढ़ स्थित PGI में बच्चों के लिए कोविड वैक्सीन का ट्रायल शुरू हो चुके हैं। फिलहाल एक बच्चे को डोज दी गई है। बच्चे पर वैक्सीन के प्रभावों की गहन देखरेख की जा रही है। बच्चे को अमेरिकी कंपनी नोवावैक्स की कोवोवैक्स वैक्सीन दी गई है। दूसरी डोज 21 दिन बाद दी जाएगी। फिलहाल बच्चे का ब्यौरा गुप्त रखा गया है। पीजीआई में 100 बच्चों पर इस वैक्सीन का ट्रायल किया जाना है।

वैक्सीनेशन ट्रायल प्रोग्राम की प्रिंसिपल इंवेस्टिगेटर मधु गुप्ता ने बताया कि 6 महीने में वैक्सीन का ट्रायल पूरा होगा। 2 से 17 साल के बच्चों पर यह ट्रायल होगा। जिस वैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा है, उसका एफिकेसी रेट 90% है। PGI के अलावा 10 अन्य मेडिकल इंस्टिट्यूट को ट्रायल के लिए कहा गया है। ट्रायल कामयाब होने के बाद भारत में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया वैक्सीन बनाएगी। सभी मेडिकल इंस्टिट्यूट्स को मिलाकर 920 बच्चों पर ट्रायल करना है। इनमें 460 बच्चे 2 से 17 साल के और इतने ही 2 से 11 साल की आयु के बीच के होंगे।

DCGI की इजाजत के बाद शुरू हुए ट्रायल

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से अप्रूवल के बाद ही PGI की एथिकल कमेटी ने ट्रायल को अप्रूव किया है। पहले दिन एक बच्चे को वैक्सीन की पहली डोज लगाई गई है। कुल 100 बच्चों पर इस वैक्सीन का ट्रायल होगा। इसके लिए अभी 80 से 90 बच्चों के परिजनों ने सहमति जताई है। पीजीआई को करीब 100 से 120 बच्चे ट्रायल के लिए चाहिएं।

कोविशील्ड वैक्सीन पर भी ट्रायल कर चुका PGI

देश में वैक्सीनेशन शुरू होने से पहले ही PGI ने 149 लोगों पर कोरोना संक्रमण के दौरान कोविशील्ड वैक्सीन का ट्रायल किया था। लाभार्थियों को दोनों डोज लगाने के बाद उनके ऊपर PGI ने स्टडी की थी। जिसकी रिपोर्ट सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया को भेजी गई थी। पीजीआई में जिन 149 वॉलंटियर्स पर ट्रायल किया था, उनमें से 10 से 12 लोगों को कोरोना भी हुआ, लेकिन उनमें गंभीर लक्षण नहीं पाए गए थे। इसलिए अतिरिक्त वॉलंटियर बच्चों की पीजीआई को जरूरत होती है।

बच्चों पर कहां हो रहा ट्रायल

PGI के एडवांस पीडियाट्रिक सेंटर में इस वैक्सीन का ट्रायल किया जा रहा है। ट्रायल करने के लिए तीन पीडियाट्रिक डिपार्टमेंट के सीनियर डॉक्टर, 2 फार्माकोलॉजी, दो वायरोलॉजी डिपार्टमेंट और चार इंटरनल मेडिसिन के डॉक्टर की टीम को लगाया गया है।

खबरें और भी हैं...