घर लौट किसान शुरू करेंगे 'मिशन पंजाब':कर्ज माफी को लेकर चलेगा संघर्ष, सहमी कांग्रेस सरकार ने किसान नेताओं की मीटिंग बुलाई

चंडीगढ़एक महीने पहलेलेखक: मनीष शर्मा
  • कॉपी लिंक

दिल्ली बॉर्डर पर किसान आंदोलन कामयाबी के साथ खत्म हो गया। जिसके बाद पंजाब के किसान संगठन वापस लौट रहे हैं। यहां आकर अब उनका 'मिशन पंजाब' शुरू होगा। जिसमें सबसे बड़ा मुद्दा किसानों की कर्ज माफी का है। जिससे कांग्रेस के लिए दोहरी मुश्किल खड़ी हो सकती है। उनके हाथ से किसान आंदोलन का मुद्दा छिन गया और अब कर्ज माफी पर जवाब देने की बारी आ गई है।

इसे देखते हुए पंजाब में कांग्रेस सरकार भी सहम गई है। CM चरणजीत चन्नी ने 17 दिसंबर को 11 बजे पंजाब भवन में मीटिंग बुला ली है। दरअसल, 2017 में हुए विस चुनाव में कांग्रेस सरकार किसानों की कर्ज माफी का वादा किया था। जिसमें सरकारी-प्राइवेट बैंकों के अलावा आढ़तियों का कर्जा तक माफ करने का दावा था। हालांकि किसानों का कहना है कि अभी तक सबका कर्जा माफ नहीं हुआ है।

सीएम चन्नी ने कर्ज माफी पर किसानों से दोबारा मीटिंग की बात कही थी
सीएम चन्नी ने कर्ज माफी पर किसानों से दोबारा मीटिंग की बात कही थी

किसानों की मीटिंग में नहीं बनी थी सहमति
कुछ समय पहले CM चरणजीत चन्नी ने पंजाब के किसान संगठनों से चंडीगढ़ में मीटिंग की थी। तब करीब 18 मुद्दों पर सहमति बन गई थी। हालांकि कर्ज माफी वाला मुद्दा लटक गया था। CM चन्नी ने कहा था कि वह इस बारे में रिपोर्ट लेकर किसानों से फिर मीटिंग करेंगे। हालांकि इसके बाद सरकार ने कोई मीटिंग नहीं की। अब चूंकि किसान संगठन घर लौट रहे हैं तो सरकार और कांग्रेस पार्टी की चिंता बढ़ गई। जिसके बाद

किसान संगठनों का आरोप है कि मांगे मानी गई लेकिन लागू नहीं की
किसान संगठनों का आरोप है कि मांगे मानी गई लेकिन लागू नहीं की

कांग्रेस के लिए दोहरी मुश्किल
किसान आंदोलन खत्म होने से कांग्रेस के लिए पंजाब में दोहरी मुश्किल हो गई है। पहला कांग्रेस के हाथ से पंजाब में बड़ा मुद्दा छिन गया। कांग्रेस किसान आंदोलन के बहाने भाजपा और खासकर अकाली दल को घेरने में जुटी थी। यह आसान भी था क्योंकि अकाली दल कानून बनाते वक्त केंद्र सरकार में था।

दूसरा, किसानों की कर्ज माफी का मुद्दा गर्माएगा। जिससे चुनाव में किसान वोट बैंक की मुश्किल खड़ी होगी। CM चरणजीत चन्नी की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार के लिए आखिरी वक्त में यह वादा पूरा करना बड़ी चुनौती रहेगी, क्योंकि इसमें ऐलान नहीं बल्कि जमीनी स्तर पर काम दिखाना होगा।

कैप्टन लगातार किसानों से करीबी बता रहे हैं
कैप्टन लगातार किसानों से करीबी बता रहे हैं

कर्ज माफी पर कैप्टन ठोक रहे दावा
कर्ज माफी को लेकर पूर्व CM कैप्टन अमरिंदर सिंह जरूर दावा ठोक रहे हैं। उनका कहना है कि सरकार बनने के बाद साढ़े 4 साल में उन्होंने 5.64 लाख किसानों के 4 हजार 624 करोड़ रुपया कर्ज माफ किया। इसके अलावा 2.85 लाख भूमिहीन मजदूरों का 520 करोड़़ रुपया कर्ज माफ किया गया। कैप्टन का यह दावा भी चन्नी सरकार की मुसीबत बढ़ाएगा।

केंद्र को घेरने की कोशिश कर चुके चन्नी
पंजाब में कर्ज माफी के मुद्दे को CM चरणजीत चन्नी भी भांप गए थे। इसलिए कुछ दिन पहले उन्होंने कर्ज माफी में केंद्र सरकार को घसीटने की कोशिश की। उन्होंने PM नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर पूर्ण कर्जमाफी की पहल करने को कहा। सीएम को उम्मीद थी कि संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) इस मुद्दे को भी केंद्र से वार्ता में शामिल कर सकता है। हालांकि ऐसा नहीं हुआ। उलटा अकाली दल और भाजपा ने आरोप लगाया कि सीएम कांग्रेस के वादे को केंद्र से पूरा करवाना चाहते हैं।

कर्ज माफी पर पूछेंगे सवाल : किसान नेता

किसान नेता मनजीत राय और जोगिंदर सिंह उगराहां ने कहा कि कांग्रेस ने पिछले चुनाव में कर्ज माफी का वादा किया था। जिसे अभी तक पूरा नहीं किया गया। इस बारे में कांग्रेस सरकार से सवाल पूछेंगे। मनजीत राय ने कहा कि हम संघर्षशील आदमी है। किसान के हकों के लिए पंजाब सरकार से जवाब लिया जाएगा।

किसान नेताओं को भेजा पंजाब सरकार का न्यौता...

खबरें और भी हैं...