कोठी कब्जाने और किडनैपिंग का मामला:‘किसी को नहीं बेची कोठी, मुझे बंधक बनाकर रखा, बेसबॉल बैट से पीटते थे’

चंडीगढ़9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • असली राहुल मेहता ने जज के सामने बयान देकर महाजन और सुरजीत पर गंभीर आरोप लगाए

सेक्टर-37 स्थित मकान नंबर 340 के असली मालिक राहुल मेहता ने शनिवार को स्थानीय अदालत में अपने बयान सीआरपीसी की धारा 164 के तहत दर्ज करवाए। मेहता के बयानों को जज ने सीलबंद कर दिया, जिन्हें कोर्ट में पेश किया जाएगा।

सूत्रों के अनुसार राहुल मेहता ने कहा कि इस प्रॉपर्टी का वह अकेला वारिस है, उसने यह प्रॉपर्टी किसी को बेची नहीं है। मेहता ने कहा कि संजीव महाजन और सुरजीत बाउंसर और उनके कुछ साथी पहले उसके किराएदार बने और फिर उसके दोस्त बन गए। फिर धीरे-धीरे उन्होंने उसे ड्रग्स देना शुरू कर दिया। एक समय ऐसा आ गया, जब उससे मारपीट की जाने लगी और कई बार बेसबॉल बैट से भी पीटा गया। मारपीट और ड्रग्स देकर ही उससे चेकबुक और कई अन्य दस्तावेजों पर भी दस्तखत कराए गए।

उसकी हालत ऐसी कर दी गई थी कि वह अपनी मर्जी से किसी से मिल भी नहीं सकता था। उसे पूरी तरह से बंधक बनाकर रखा जा रहा था। भुज लेकर जाने से पहले उसे दो दिनों के लिए जालंधर में भी एक घर में रखा गया था। उसके बाद गुजरात में एक स्टड फार्म में छोड़ दिया गया। कुछ महीनों बाद वहां के एक स्थानीय आश्रम में भर्ती करा दिया गया। उसी आश्रम में रहने के दौरान उसे करजत, दिल्ली और भरतपुर भेजा गया। आश्रम में देखभाल से ड्रग्स की आदत छूट गई और वह ठीक है। जब पुलिस मिलने आई तो उसे अपनी प्रॉपर्टी बेचे जाने का पता चला, जबकि उसने प्रॉपर्टी बेची नहीं थी। उसने उसी समय पुलिस को लिखित शिकायत दी।

खबरें और भी हैं...